दो जननी वाहन के भरोसे हैं 248 गांव, जानिए क्यों...

तहसील मुख्यालय से गांवों की दूरी 55 किमी, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर भी मात्र एक ही वाहन

By: brajesh tiwari

Published: 11 Dec 2017, 11:28 AM IST

रायसेन। जिले के सिलवानी में स्वास्थ्य सुविधाओं में प्रदेश सरकार द्वारा किए जा रहे बेहतर कार्यो के बावजूद भी तहसील क्षेत्र में जननी वाहन का अभाव है। वहीं स्वास्थ्य महकमे के आला अधिकारी जननी वाहन नहीं होने से गभर्वती महिलाओं को होने वाली परेशानी से सरोकार नहीं रखते। जानकारी के अनुसार सामुुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिलवानी के पास वर्तमान में एक मात्र जननी वाहन है। एक जननी वाहन बम्हौरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में है। जबकि तहसील में 248 गांव आते हैं।

एक बार में एक ही जगह जा पाता है जननी वाहन

तहसील मुख्यालय पर एकमात्र जननी वाहन होने के कारण प्रसुताओं को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा तहसील की भौगौलिक स्थिति और गांवों की संख्या से विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया जा चुका है। लेकिन समस्या अभी जस के तस बनी हुई है। क्योंकि एक बार में जननी वाहन एक ही स्थान पर जा पाता है। ज्यादा परेशान तब आती है जब एक ही समय में एक से अधिक स्थान पर गभर्वती महिलाओं को जननी वाहन की आवश्यकता होती है। लेकिन एक ही वाहन होने के कारण अन्य महिलाओं को परेशान होना पड़ता है। वाहन एक ही स्थान पर जा कर प्रसुता को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ला पाता है। एैसी स्थिति में बाहन का इंतजार अन्य महिलाओं को करना पड़ता है। या किराए के बाहन से प्रसुता को अस्पताल लाना पड़ता है। सिलवानी तहसील 248 गांवों में विभाजित है।

तहसील मुख्यालय को तीन राजस्व सर्किल जैथारी, बम्होरी और सिलवानी में बांटा गया है। मुख्यालय से आदिवासी गांव नारायणपुर की दूरी 55 किलोमीटर हैं। इसके अतिरिक्त बम्होरी और जैथारी में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्थित है। जबकि तहसील के विभिन्न गांवों में 23 उप स्वास्थ्य केंद्र भी बनाए गए है। स्वास्थ्य संबंधी इतनी अधिक व्यवस्था होने के बाद भी एकमात्र जननी वाहन होने के कारण प्रसुताओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

सिलवानी के लिए ही दो वाहन की जरूरत

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिलवानी और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बम्हौरी में जननी वाहन उपलब्ध है। आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र जैथारी में यह सुविधा नहीं है। सिलवानी के लिए ही दो वाहन की जरूरत है। एक-एक वाहन बम्हौरी और जैथारी में होना बेहद आवश्यक है। इस तरह सिलवानी तहसील में चार जननी वाहनों की आवश्यकता बनी हुई है।

प्राथमिक स्वास्थ्य पर हो जननी वाहन की सुविधा

जैथारी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर भी जननी वाहन की सुविधा दी जाना आवश्यक है। जैथारी क्षेत्र पूर्णत: आदिवासी बाहुल्य है। इस क्षेत्र में आवागमन के लिए वाहनों का अभाव है। यहां पर भी जननी वाहन उपलब्ध नहीं है। इस प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से करीब 8 0 गांब जुड़े हुए है।

इनका कहना है

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और प्राथमिक स्वास्थ्य केंदो पर उपलब्ध जननी एवं 108 वाहनों की जानकारी से वरिष्ठ कार्यालय को अवगत कराया गया है। जल्द ही समस्या का निराकरण हो जाएगा।

- डॉ. एस एन मांडरे, बीएमओ, सिलवानी।

brajesh tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned