समितियों पर पर्याप्त खाद उपलब्ध नहीं होने से किसान परेशान

खाद की प्रत्येक बोरी पर किसानों से सौ रुपए तक अतिरिक्त वसूल रहे हैं

By: chandan singh rajput

Published: 09 Oct 2020, 02:04 AM IST

सुल्तानगंज. क्षेत्र में किसान इन दिनों यूरिया खाद प्राप्त करने के लिए सुबह से शाम तक इधर-से-उधर भटकते हुए नजर आ रहे। सुल्तानगंज क्षेत्र की छह प्राथमिक शासकीय कृषि साख सहकारी समिति मर्यादित सुल्तानगंज, शाहपुर सुल्तानपुर, पंदरभटा, सुनवाहा, डिलवार, पंडाझिर समितियों पर पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध नहीं होने से किसान काफी परेशान हैं। इसका लाभ कालाबाजारी करने वाले उठा रहे हैं। खाद की प्रत्येक बोरी पर किसानों से सौ रुपए तक अतिरिक्त वसूल रहे हैं। अब रबी सीजन की फसलों की बोवनी का दौर शुरू हो चुका है। ऐसे में किसानों यूरिया खाद की आवश्यकता है। मगर सहकारी समितियों पर पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध नहीं है।

दुकानों पर है खाद : सहकारी समितियों में भले ही खाद नहीं हो पर प्राइवेट दुकानों पर यूरिया खाद ब्लैक में बेचा जा रहा है। खाद की कालाबाजारी और किल्लत को लेकर किसानों ने एसडीएम को ज्ञापन दिया था। मगर अभी तक किसानों की समस्या का समाधान नहीं हो सका, जबकि तहसील भर के किसानों के लिए रबी सीजन में करीब 45 सौ टन यूरिया और 25 सौ टन डीएपी खाद लग जाता है।
किसानों की यूरिया व डीएपी की हो फ्री सेलिंग: किसान विजय परिहार, नरोत्तम राय, देशराज यादव, मनमोद सिंह राजपूत, भरत सिंह यादव, हेमंत राजपूत आदि किसानों ने कलेक्टर से मांग की है। सभी सोसाइटी केन्द्रों पर समय से पूर्व यूरिया डीएपी खाद भेजा जाए और नकद में सभी किसानों को सोसाइटी केन्द्रों से ही यूरिया डीएपी उपलब्ध कराया जाए। ताकि किसान बाजार से घटिया खाद खरीद ने को मजबूर न हों।

सोसाइटी से इस तरह मिलेगा खाद
जानकारी के अनुसार जो किसान सोसाइटियों में अपना खाता सुचारू रूप से चला रहे हैं। उन्हें यूरिया व डीएपी खाद मिल सकेगा। इसके अलावा जो किसान पूर्व में लिए हुए खाद बीज का कर्ज अदा करेंगे, उन किसानों को भी यूरिया, डीएपी खाद सोसाइटी द्वारा मिल सकेगा, जबकि डिफाल्टर किसान एवं जिन किसानों में सोसाइटी से कर्ज नहीं लिया है, उनको सोसाइटी द्वारा यूरिया, डीएपी खाद नहीं दिया जाएगा, जिससे किसानों को काफ ी परेशानियों का सामना उठाना पड़ेगा। ऐसे में किसानों को बाजार से घटिया यूरिया खाद खरीद कर फसलों में डालना पड़ेगा,
जिससे फसलों के उत्पादन पर असर पड़ेगा।

सोसाइटियां किसानों को उधार में नहीं दे रही खाद
बेगमगंज. कोरोना संक्रमण से हैरान-परेशान किसान को प्राकृतिक आपदा का भी सामना करना पड़ा और सोयाबीन की फ सल बर्बाद हो गई। अब रबी सीजन की फसलों को बोवने की तैयारी कर रहा है, तो उन्हें सहकारी समितियों द्वारा उधार में यूरिया, डीएपी खाद नहीं दी जा रही, जिम्मेदार कह रहे कि नकद राशि देने पर ही खाद मिलेगी। इस समस्या को लेकर किसानों ने कलेक्टर उमाशंकर भार्गव के नाम संबोधित ज्ञापन एसडीएम अभिषेक चौरसिया को दिया और पूर्व की तरह उधार में खाद उपलब्ध कराने की मांग की है। ज्ञापन में बताया गया कि आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे किसान के पास इतना रुपया नहीं है कि वह नकद राशि जमा करके खाद प्राप्त कर सके, क्योंकि ना तो बीमा राशि उसके खाते में जमा हुई और ना ही नकद क्रय करने के लिए उसके पास राशि है।

Show More
chandan singh rajput
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned