केन्द्र सरकार ने भी माना एमपी के शिक्षक का 'लोहा', नवाचार का दिया इनाम देखें वीडियो

बच्चों के भविष्य की चिंता और उनके लिए किए नवाचार ने मध्यप्रदेश के एक शिक्षक को देशभर में मशहूर कर दिया है और खुद दिल्ली में बैठे अफसरों ने उन पर फिल्म बनवाई है।

By: Shailendra Sharma

Published: 24 Jul 2020, 05:13 PM IST

रायसेन. बैलगाड़ी से स्कूल तक किताब ले जाने वाले शिक्षक की कहानी और इसे सोशल मीडिया पर डालने वाले नीरज सक्सेना की कहानी दिल्ली में बैठे अफसरों को इतनी पसंद आई है कि उन्होंने इस शिक्षक के जज्बे को सलाम करते हुए उस पर एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनवाई है और उन्हें इस्पात मंत्रालय का ब्रांड एंबेसडर बनाया है। इस्पात मंत्रालय देशभर के चुने हुए ऐसे लोगों के नवाचार को सबके सामने ला रहा है। रायसेन जिले के बाड़ी ब्लॉक की ईंटखेड़ी पंचायत के ग्राम सालेगढ़ के प्राथमिक शिक्षक नीरज के स्कूल के प्रति समर्पण और बच्चों में शिक्षा की अलख जगाने की लगन देखकर इस्पात मंत्रालय ने इस्पात यानी बदलाव के लिए मजबूत शख्सियत के रूप नीरज का चयन किया है।

 

neeraj.jpg

इस्पात मंत्रालय के ब्रांड एंबेसडर बने नीरज, शिक्षक और गांव पर बनी फिल्म
शिक्षक नीरज सक्सेना ने सालेगढ़ के सरकारी स्कूल को अपनी लगातार मेहनत से निजी स्कूलों से भी बेहतर बना दिया। इस बदलाव की तस्वीरें और वीडियो वे सोशल मीडिया पर पोस्ट करते थे। वहीं से इस्पात मंत्रालय के अधिकारियों ने उनको देखा और एक टीम सालेगढ़ भेजी, जिसने नीरज सक्सेना और उनके स्कूल सहित गांव पर हाल में डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनाई। नीरज ने बताया कि उसकी पहल दिल्ली में बैठे अफसरों को पसंद आई है, उसे इस बात की खुशी है। उन्होंने बताया कि गांव के बच्चों में शिक्षा के प्रति लगाव पैदा करने और सरकारी स्कूल को निजी स्कूल जैसे बनाने की उनकी जिद ने इस मुकाम तक पहुंचाया है। इस काम से उनका हौसला बढ़ा है, वे अब इस काम को और अच्छे से करेंगे।

 

capture.jpg

सीएम शिवराज ने भी दी बधाई
शिक्षक नीरज को इस्पात मंत्रालय का ब्रांड एंबेसडर बनाए जाने पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने नीरज को बधाई दी है। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर नीरज को बधाई देत हुए लिखा है कि बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए जिस पवित्र और संकल्पित भाव से हमारे रायसेन के शिक्षक श्री नीरज सक्सेना जी ने प्रयास किया है, वह अभूतपूर्व और अभिनंदनीय है। आपके भारत सरकार के इस्पात मंत्रालय के ब्रांड एम्बेसडर बनने से मध्यप्रदेश गौरवान्वित हुआ है। मेरी बधाई, शुभकामनाएं!

देखें वीडियो-

 

पत्रिका ने भी किया था टीचर नीरज के जज्बे को सलाम
बता दें कि 14 जुलाई को पत्रिका डॉट कॉम ने भी टीचर नीरज सक्सेना के जज्बे को सलाम करते हुए उनकी खबर लगाई थी। शिक्षक नीरज ने तब स्कूल बंद होने के बावजूद सरकार की तरफ से भेजी जाने वाली किताबें स्कूल तक पहुंचाई थीं। कोई साधन न होने के कारण खुद शिक्षक नीरज बैलगाड़ी पर किताबें लादकर स्कूल पहुंचे थे और उन्होंने बताया था कि कोरोना के कारण स्कूल बंद होने से बच्चों की पढ़ाई का पहले ही काफी नुकसान हो चुका है। ऐसे में अब जब भी स्कूल खुलेंगे तो बच्चों को तुरंत किताबें मिल जाएंगी और पढ़ाई शुरु हो जाएगी, इसलिए उन्होंने पहले ही स्कूल तक किताबों को पहुंचा दिया है।

ये भी पढ़ें-

टीचर के जज्बे को सलाम, बैलगाड़ी से स्कूल पहुंचाई किताबें

 

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned