प्रीति मामले में समझौते के आसार! मंत्री रामपाल सिंह पहुंचे प्रीति के घर

praveen shrivastava

Publish: Apr, 17 2018 01:45:08 PM (IST)

Raisen, Madhya Pradesh, India
प्रीति मामले में समझौते के आसार! मंत्री रामपाल सिंह पहुंचे प्रीति के घर

प्रीति मामले में हो सकता है समझौता! मंत्री रामपाल सिंह पहुंचे प्रीति के घर....

रायसेन। प्रीति आत्महत्या मामले में एक महीने बाद नया मोड़ आ सकता है। 16 अप्रैल यानी सोमवार की रात लगभग 11:00 बजे पीडब्ल्यूडी मंत्री प्रीति के कथित पति गिरिजेश के पिता रामपाल सिंह प्रीति के पिता से मिलने उनके घर पहुंचे ।

 

जानकारी के अनुसार उनके साथ रघुवंशी समाज के प्रदेश अध्यक्ष अजय सिंह और महिला अध्यक्ष अंशु रघुवंशी भी थी इसके अलावा रघुवंशी समाज के कई अन्य लोग भी मौजूद थे इन सभी लोगों की मौजूदगी में प्रीति के पिता चंदन सिंह और रामपाल के बीच लगभग आधे घंटे की बातचीत हुई बातचीत का सार यही है कि राम पाल सिंह प्रीति के पिता चंदन सिंह से इस पूरे मामले में समझौता करना चाहते हैं।

 

उनके साथ मौजूद रघुवंशी समाज के पदाधिकारी भी इसी नीति पर काम कर रहे हैं पत्रिका से बातचीत में समाज के प्रदेश अध्यक्ष अजय सिंह रघुवंशी ने बताया कि इस दुखद मामले का राजनीतिकरण हो गया है जिससे मामले को कोई दिशा नहीं मिल पा रही है।

उन्होंने बताया कि मंत्री रामपाल सिंह के साथ प्रीति के पिता चंदन सिंह और परिजनों के बीच हुई बातचीत में यह तय हुआ है की अगले एक-दो दिन में रघुवंशी समाज के प्रमुख 5 प्रतिनिधि आपस में बैठक करेंगे और तय करेंगे कि आगे क्या करना है।

 

समाज के लोगों के निर्णय के अनुसार ही प्रीति के पिता और परिजन निर्णय लेंगे उल्लेखनीय है कि इस मामले में अब समझौते के आसार नजर आ रहे हैं। क्योंकि अजय सिंह ने जो नाम बताए हैं, उनमें से कुछ पहले ही इसी मानसिकता से काम कर रहे हैं। खुद अजय सिंह सहित अंशु रघुवंशी भी समझौते का संदेश दे चुकी हैं।

 

समाज के जिलाध्यक्ष का झुकाव भी इसी ओर देखा गया है। खास बात यह है कि प्रीति मामले में रघुवंशी समाज भी दो खेमो में बटा नजर आ रहा है शुरू शुरुआत से ही देखा जा रहा है समाज का एक हिस्सा भाजपा के नाते समझौते की बात करता है तो दूसरा हिस्सा कांग्रेस से जुड़ा होने के नाते न्याय की मांग कर रहा है ऐसे में इस मामले में बीच का रास्ता निकालने के प्रयास किए जा रहे हैं।

पहले गायब हो चुका है भाई...
वहीं इस मामले में पूर्व में मृतका व मंत्री की कथित बहू का एक भाई दीपक 7 मार्च को मंत्री परिवार के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराने की याचिका लेकर अदालत पहुंचा था, जिसके बाद से वह गायब हो गया।


दीपक के गायब होने से उसके परिजन परेशान थे। वे उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाने थाने भी गए, लेकिन पुलिस ने रिपोर्ट न लिखकर कहा कि वो सोमवार को उदयपुरा में ही था।

परिजनों के अनुसार 7 मार्च को मंत्री परिवार के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराने की याचिका लेकर अदालत पहुंचे प्रीति के परिजनों के साथ दीपक मौजूद था।

उसके बाद से वह लापता हो गया था। उसकी तलाश में कई जगह जानकारी लेने के बाद दीपक के परिजन रिपोर्ट कराने थाने पहुंचे, लेकिन उदयपुरा पुलिस ने उनका आवेदन नहीं लिया है।

प्रीति रघुवंशी द्वारा 17 मार्च को आत्महत्या के बाद इस मामले में कई तरह के मोड़ आए। प्रीति की तेरहवीं के बाद भी मामला शांत नहीं हुआ है।

यहां तक की प्रीति के परिजनों को मंत्री परिवार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के लिए अदालत का सहारा लेना पड़ा है। अब प्रीति के भाई दीपक के लापता होने और फिर सामने आने से यह मामला और भी पेंचीदा हो गया है।


प्रीति चचेरे भाई का कहना है कि दीपक मंत्री परिवार से मिल गया है, उनका ऐसा शक है। वे किसी पर सीधा आरोप नहीं लगा रहे हैं, लेकिन प्रीति मामले में परिजनों के बयान के बाद दीपक का गायब होना फिर वापस आना, पुलिस को बयान देना कई सवालों को खड़ा कर रहा है। वहीं अब ये वापस घर आ चुका है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

1
Ad Block is Banned