बदहाल NH-12, फोरलेन तैयार होने की बात तो छोड़िए अभी कई जगह तो काम ही शुरू नहीं हुआ!

Deepesh Tiwari

Publish: May, 18 2018 02:41:32 PM (IST)

Raisen, Madhya Pradesh, India
बदहाल NH-12, फोरलेन तैयार होने की बात तो छोड़िए अभी कई जगह तो काम ही शुरू नहीं हुआ!

बदहाल NH-12, फोरलेन तैयार होने की बात तो छोड़िए अभी कई जगह तो काम ही शुरू नहीं हुआ!...

रायसेन@शिवलाल यादव की रिपोर्ट...

MP की राजधानी से गौहरगंज होते हुए जबलपुर एनएच-12 की सड़क के अभी भी जल्द फोरलेन बनकर तैयार होने के हालात नजर नहीं आ रहे हैं। गर्मियों के बीच हुई नेशनल हाईवे अथॉरिटी के आला अधिकारियों की समीक्षा बैठक में यह लापरवाही सामने आई है।

बताया जा रहा है कि भोपाल के तीन हिस्सों में इसका काम 35 फीसदी के करीब ही हुआ है। वहीं जबलपुर के दो हिस्सों में जो हिस्सा नरसिंहपुर जिले के करीब आता है। उसमें काम अभी शुरू ही नहीं हो सका है। वहीं जबलपुर के शुरूआती हिस्से मेें 5 प्रतिशत के लगभग काम हो सका है। जो लगभग न के बराबर है।

इसे देखते हुए जानकारों को कहना है कि यह तो तय है कि आने वाले कम से कम दो सालों तक राजधानी भोपाल से जबलपुर नेशनल हाईवे 12 चिकनी सपाट फोरलेन सड़क बनकर तैयार नहीं हो सकती।

ऐसी स्थिति में लंबे समय तक वाहन चालकों को न तो राहत मिलने वाली है और न ही सड़क हादसे कम हो सकते। मालूम हो कि भोपाल से जबलपुर तक 300 किलोमीटर के दायरे में एनएच-12 सड़क फोरलेन तैयार हो रही है। इसमें 182 किमी भोपाल के हिस्से में एमपीआरडीसी बना रही है।

तो शेष 63 किलोमीटर की सड़क नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया तो एक अंधू मूक से हिरन नदी तक 55 किमी तक एमपीआरडीसी बना रही है। कुल पांच हिस्सों में इस सड़क को बनाया जा रहा है। ईपीसी यानि इंजीनियर प्रोक्यूरमेंट कंस्ट्रक्शन मैथड़ से सड़क बनकर तैयार होना है।

एक दशक से परेशानी बरकरार
वर्ष 2008 से भोपाल से जबलपुर हाईवे १२ को फोरलेन सड़क बनाने की कवायद चल रही है।वर्ष २०१३ में भूमि अधिग्रहण के बाद रशियन कंपनी को इसका ठेका दिया गया। तभी यह उम्मीद जागी कि इसका जल्द निर्माण होगा। लेकिन रशियन कंपनी डिफाल्टर साबित हुई।

इसके बाद वर्ष 2015 में दिल्ली की सड़क कंपनी ने दो हिस्सों में काम लिया। इसने भी काम को अटकाया। इसके बाद इसको 2017 में टर्मिनेट किया गया। में काम शुरू नही हो सका इसीलिए उसे टर्मिनेट कर दिया गया।अब जाकर काम आरंभ हुआ है तो एक हिस्सा नरसिंहपुर की तरफ है। ऐसा है जिसको एनएचआईए को बनाना है।

फैक्ट फाइल -
कुल निर्माण एरिया- 300 किलोमीटर
कितने हिस्सों में बांटकर किया जा रहा है काम- 5 हिस्सों में
भोपाल के हिस्से में कितने किमी कार्य- 182 किलोमीटर
जबलुर केहिस्से में कितनी सड़क- 118 किलोमीटर
अभी कितने किमी के हिस्से में काम बंद-63 किलामीटर

अभी एग्रीमेंट ही हुआ है....
हिरन नदी से नरसिंहपुर के हिस्से में सिंगूर नदी तक 63 किलोमीटर का हिस्सा जो नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया बना रही है।इसमें अभी जिस कंपनी को बनाना है उससे फिलहाल एग्रीमेंट ही हुआ है। फोरलेन सड़क निर्माण कब आरंभ होना है। फिलहाल यह तय नहीं हुआ है।

केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय के अधिकारी इस मामले में कई दफे फटकार लगा चुके हैं। काम जल्द शुरू हो और प्रोसेस पूरी की जाए।लेकिन एनएचएआई के ढीले रवैए के कारण इस फोरलेन सड़क निर्माण कार्य आगे खिसकता जा रहा है।सभी तरह की एनओसी और केंद्र सरकार से हरी झंडी मिलने के बाद भी काम आरंभ होने में देरी हो रही है।

सड़क मंत्रालय मांग रहा प्रोग्रेस रिपोर्ट.......
भोपाल जबलपुर फोरलेन सड़क निर्माण में देरी से केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्रालय भी नाराज है।

सड़क मंत्रालय इस पर आपत्ति जता चुका है।क्योंकि धीमी सड़क निर्माण के कारण वाहन चालकों समेत लोगों को आवागमन में परेशानी हो रही है।लगातार इसके विषय में जानकारी मांगी जा रही है।एमपीआरडीसी हालांकि यह कह रही है कि अगले 18 महीनों में यह फोरलेन सड़क बनकर तैयार हो जाएगी।

सूत्र कहते हैं कि यहां सड़क निर्माण की रफ्तार बद से बद्तर हालत में है। जिससे ऐसे हालात नजर नहीं आ रहे हैं। एमपीआरडीसी भोपाल के संभागीय अधिकारी पवन अरोरा कहते हैं कि समय सीमा के अंदर काम पूरा होगा।

वहीं जबलपुर के पहले हिस्से का निर्माण कार्य देख रहे एमपीआरडीसी के संतोष शर्मा कहते हैं कि जो समय सीमा तय की गई है। उसमें सड़क बन जाएगी।अभी शुरूआती दौर में पेड़ काटने और दोनों हिस्सों का तैयार करने का काम तेजी से किया जा रहा है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned