scriptNow Sanjeevani is not reaching the villages, it is bad due to neglect | अब गांवों में नहीं पहुंच रही संजीवनी, अनदेखी से हुई बदहाल | Patrika News

अब गांवों में नहीं पहुंच रही संजीवनी, अनदेखी से हुई बदहाल

पूर्व सांसद स्वर्गीय सुषमा स्वराज ने प्रत्येक विधानसभा स्तर पर सांसद निधि से सर्व सुविधायुक्त एंबुलेंस उपलब्ध कराई थी।
चार वर्ष से ग्रामीण अंचल के हॉट बाजारों में मरीजों को मिलने वाली इलाज की सुविधा नहीं मिल रही।

रायसेन

Published: September 12, 2022 12:49:20 pm


रायसेन. लगभग आठ वर्ष पहले विदिशा-रायसेन संसदीय क्षेत्र की सांसद रहीं स्वर्गीय सुषमा स्वराज ने अपनी सांसद निधि से प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के लिए एक सर्वसुविधा युक्त एम्बुलेंस उपलब्ध कराई थी। जिसका सर्किट हाउस में समारोह पूर्वक लोकार्पण भी किया गया था। पूरे संसदीय क्षेत्र में आठ संजीवनी एम्बुलेंस वाहन दिए गए थे। जिसमें रायसेन जिले की तीन विधानसभा सांची, सिलवानी और भोजपुर को यह सौगात मिली थी। प्रत्येक वाहन लगभग 22 लाख रुपए की लागत के बताए जा रहे। इसके पीछे तत्कालीन सांसद स्व. सुषमा स्वराज की मंशा थी कि ग्रामीण क्षेत्र के मरीजों को प्राथमिक उपचार के लिए शहरी क्षेत्र के अस्पताल नहीं आना पड़े। उन्हें अपने गांव में ही बेहतर इलाज समय पर मिले। इन मोबाइल मेडिकल यूनिट के माध्यम से मरीजों को उपचार के साथ नि:शुल्क दवाईयां भी उपलब्ध कराई जाती थी।
मगर पिछले चार वर्ष से जिले के ग्रामीण अंचल में यह सुविधा बंद कर दी गई। क्योंकि इन तीनों वाहनों को जिम्मेदारों ने कंडम हालत में बताकर सीएमएचओ दफ्तर में खड़ा करवा दिया। जबकि सूत्रों का कहना है कि ये वाहन सप्ताह में निरंतर दिन नहीं चले और कुल मिलाकर अब 65 से 70 हजार किमी का सफर तय किया है। ऐसी स्थिति में ही विभाग के अधिकारी और इस कार्य का प्रभार संभाल रहे जिम्मेदारों ने इनके पहिए जाम कर दिए। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अब इन तीनों वाहनों को नीलाम करने की तैयारी की जा रही है।
दूरस्थ अंचल के लोगों की परेशानी
ऐसे में ग्रामीण क्षेत्र के गरीब और मजदूर वर्ग के लोगों को छोटी बीमारी और समस्याओं को लेकर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सहित शहरी क्षेत्र के अस्पतालों एवं प्राइवेट क्लीनिकों पर जाना पड़ रहा। जबकि ये वाहन प्रतिदिन पांच गांवों का भ्रमण कर उस क्षेत्र के हाट बाजार में जाकर खड़े होते थे। जहां मरीजों का उपचार किया जाता था। लेकिन विभागीय अमले की अनदेखी से यह महत्वपूर्ण सुविधा दूरस्थ अंचल के लोगों को नहीं मिल पा रही। क्योंकि इन वाहनों के स्थान पर अब मोबाइल मेडिकल यूनिट की सुविधा नहीं दी जा रही।
निजी कंपनी करती थी संचालन
स्वास्थ्य विभाग कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार इन तीनों वाहनों के संचालन का जिम्मा एक निजी कंपनी को सौंपा गया था। जिसमें संबंधित विधानसभा क्षेत्र के ब्लॉक मेडिकल आफीसर के समन्वय से विभिन्न ग्रामों और हाट बाजार में संजीवनी वाहनों को भेजा जाता था। बताया जा रहा है कि शुरुआत के दो वर्ष तक तो इस योजना पर जिला प्रशासन सहित स्वास्थ्य विभाग और क्षेत्र के जनप्रतिनिधि भी निगरानी करते रहे। लेकिन बाद में किसी ने गंभीरता नहीं दिखाई और लाखों रुपए के वाहन कंडम हो गए। हालांकि अब स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी वर्तमान में स्वास्थ्य सुविधाओं के बढऩे और जगह-जगह अस्पताल खुलने के बाद इस मोबाइल मेडिकल यूनिट को अनुपयोगी बता रहे।
ये सुविधांए उपलब्ध कराई
सर्वसुविधा युक्त संजीवनी एम्बुलेंस में पैरामेडिकल स्टाफ, एक एमबीबीएस डॉक्टर, नर्स की तैनाती रहती थी। जो अंचल में जाकर मरीजों का उपचार करते थे। इसके साथ ही नि:शुल्क दवाईयां, शुगर एवं मलेरिया जांच की सुविधा भी इन यूनिटों में रखी गई थी। जिससे मरीजों को बुखार, सर्दी-खांसी आदि समस्याएं होने पर तत्काल उचित परार्मश के साथ इलाज की सुविधा दी जा रही थी।
सीधी बात
सीएमएचओ डॉ. दिनेश खत्री से
1-
प्रश्र: क्या कारण है जो सर्वसुविधा युक्त संजीवनी वाहनों को बंद कर दिया गया।
उत्तर-ये तीनों वाहन अब चलने लायक नहीं रह गए, इनका मेंटनेंस भी नहीं हो सकता। इस कारण इन्हें बंद कर दिया गया।
2-प्रश्र:
अब ग्रामीण अंचल में इनके स्थान पर स्वास्थ्य सुविधा के लिए क्या विकल्प रखा गया।
उत्तर-जहां भी आवश्यकता होती है, वहां पर 108 एम्बुलेंस वाहनों को भेजा जाता है।
3-प्रश्र:
मोबाइल मेडिकल यूनिट से पहले ग्रामीणों को आसानी से सुविधा मिल रही थी, अब यह बंद हो गई।
उत्तर-अब ग्रामीण अंचलों में सरकारी अस्पताल खुलने के साथ स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार हो चुका है। जहां मरीजों को इलाज मिल रहा।
4-प्रश्र:
आमजन के लिए स्वास्थ्य विभाग की तरफ से विशेष कार्यक्रम क्या है।
उत्तर: गांवों में स्वास्थ्य शिविर लगाकर लोगों के स्वास्थ्य का परीक्षण कर उपचार किया जा रहा है। साथ ही नि:शुल्क दवाईयां भी दी जाती है।
अब गांवों में नहीं पहुंच रही संजीवनी, अनदेखी से हुई बदहाल
अब गांवों में नहीं पहुंच रही संजीवनी, अनदेखी से हुई बदहाल

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

'आज भी TMC के 21 विधायक संपर्क में, बस इंतजार करिए', मिथुन चक्रवर्ती ने दोहराया अपना दावाखाना वहीं पड़ा था, डॉक्युमेंट्स और सामान भी वहीं थे , लेकिन... रिसॉर्ट के स्टाफ ने बताया कैसे गायब हुई अपने कमरे से अंकिताVideo: महबूबा मुफ्ती ने किया Pakistan PM का समर्थन, जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर दिया ये बयान'PFI पर कार्रवाई करने में इतना वक्त क्यों लगा?', प्रियंका चतुर्वेदी ने कश्मीर को लेकर PM मोदी पर साधा निशाना2 खिलाड़ी जिनका करियर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बीच सीरीज में हुआ खत्म, रोहित शर्मा नहीं देंगे मौका!चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग हुए हाउस अरेस्ट! बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी के Tweet से मचा हड़कंपयुवाओं को लश्कर-ए-तैयबा और ISIS में शामिल होने को उकसा रहा था PFI, ग्लोबल फंडिंग के सबूतअंकिता हत्याकांड : जांच के लिए गठित की गई SIT, CM ने कहा- "चाहे कोई भी हो, अपराधियों को नहीं बख्शा जाएगा"
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.