अपडाउन कर रहे प्रोफेसर, छात्रों की पढ़ाई हो रही प्रभावित

अपडाउन कर रहे प्रोफेसर, छात्रों की पढ़ाई हो रही प्रभावित

brajesh tiwari | Publish: Oct, 13 2018 07:18:31 PM (IST) | Updated: Oct, 13 2018 07:18:32 PM (IST) Raisen, Madhya Pradesh, India

स्वामी विवेकानंद डिग्री कॉलेज में नियमित नहीं लग रही क्लासें

रायसेन. जिला मुख्यालय स्थित शासकीय विवेकानंद डिग्री कॉलेज पाटनदेव में इन दिनों अस्सी फीसदी प्रोफेसरों के अपडाउन की वजह से छात्र-छात्राओं की पढ़ाई प्रभावित हो रही है।हालांकि व्याख्याताओं की इस अपडाउन व्यवस्था पर रोक लगाने के लिए समय-समय पर छात्र संगठनों द्वारा कॉलेज की प्राचार्या डॉ.इशरत खान को ज्ञापन देकर इस समस्या से अवगत कराया गया। लेकिन सालों बाद भी प्रोफेसरों की इस अपडाउन प्रथा पर शिकंजा नहीं कसा जा सका है।इस कारण कॉलेज का रिजल्ट हर साल खराब होता है। जिम्मेदार कमियां बताकर अपना पल्ला झाड़ लेते हैं। कई दफे कॉलेज के व्याख्याताओं के समय पर कॉलेज नहीं पहुंच पाने की स्थिति में छात्र उनका इंतजार करते नजर आते हैं। इसीलिए कक्षाएं खाली पड़ी रहती हैं।कभी 12 से तो कभी 1 बजे के बाद क्लासें लग पाती हैं। दोपहर 2.30 बजे लंच हो जाता है। एक दो पीरियड के बाद वह प्रोफेसर भोपाल चले जाते हैं।कमोवेश यही हालात शासकीय गल्र्स कॉलेज रायसेन के बने हुए हैं। अपडाउन की वजह से छात्राओं के विभिन्न विषयों की समय पर पढ़ाई पूरी नही हो पाती । इससे वार्षिक परीक्षा का रिजल्ट बिगड़ जाता है। ऐसी स्थिति में छात्राओं का कॅरियर खराब होने का डर उन्हें सताने लगा है।
स्वामी विवेकानंद डिग्री कॉलेज पाटनदेव के 15 स्थायी प्रोफेसर हर महीनो मोटी तनख्वाह ले रहे हैं। इसके बादले में राजधानी भोपाल,विदिशा से अपडाउन कर छात्रों की पढ़ाई समय पर पूरी नहीं करवा पा रहे हैं। कॉलेज के 9और 4 अतिथि विद्ववान कॉलेज जनभागीदारी समिति की तरफ से रखेगए हैं। जो को भी हर महीने लाखों रूपए मानदेय कॉलेज प्रबंधन द्वारा खर्च किया जा रहा है। बावजूद इसके पढ़ाई कराने के नाम पर सिर्फ कागजी खानापूर्ति की जाती है। कॉलेज की प्राचार्या खुद भोपाल से अपडाउन करती हैं । ऐसी स्थिति में कॉलेज के व्याख्याताओं को अपडाउन करने ेस कैसे रोक सकेंगीं?कुछ ऐसे ही हालात शासकीय गल्र्स कॉलेज के बने हुए हैं। इस सरकारी कॉलेज का अधिकांश स्टाफ भोपाल,विदिशा से आना जाना करता है। हालांकि अपडान पर सख्ती से रोक लगाने की मांग को लेकर अभाविप के नेता शुभम उपाध्याय,एनएसयूआई जिलाध्यक्ष हर्षवर्धन सिंह सोलंकी ने जिला प्रशासन सहित बीयू भोपाल,उिच्च शिक्षा विभाग को ज्ञापन दिए गए थे। बावजूद इसके इन सरकारी कॉलेजों का बिगढ़ा ढरऱ्ा सुधरने का नाम नहीं ले रहा है।

8 व्याख्याताओं के पद खाली
कॉलेज प्रबंधन सूत्रों के अनुसार शासकीय स्वामी विवेकानंद डिग्री कॉलेज रायसेन में 8 व्याख्याताओं के पद खाली हैं। फिलहाल विद्वान व्याख्याताओं के भरोसे छात्रों की पढ़ाई कराई जा रही है। इनमें हिंदी, उर्दू,वाणिज्यि संकाय ,अर्थशास्त्र, राजनीति शास्त्र और समाजशास्त्र आदि विषयों के व्याख्याताओं के सालों से पद खाली है।जबकि कॉलेज प्रबंधन के अधिकारियों का कहना है कि जल्द ही कॉलेज के इन खाली प्रोफेसरों के पदों को भर दिया जाएगा।


बाहरी तत्वों का बेधड़क प्रवेश
शहर के पाटनदेव स्थित शासकीय विवेकानंद डिग्री कॉलेज कैंपस में बाहरी तत्व प्रतिदिन बेधड़क प्रवेश करते हैं। ये शरारती तत्व आवारागर्दी कर छात्राओं पर छेड़छाड़ व छींटाकशी करने से बाज नहीं आते ।छात्र नेताओं ने इन तत्वों के कॉलेज परिसर में प्रवेश पर रोक लगाने प्राचार्या डॉ.इशरत खान से शिकायतें की ।एक दो दिन बाद वहीं हालात दोबारा से बनने लगते हैं। इसी तरह गल्र्स कॉलेज रायसेन में भी कुछ शरारती तत्व अंदर घुस जाते हैं। प्राचार्य की डांट फटकार के बाद ही वह वहां से जाते हैं।

 

विवेकानंद डिग्री कॉलेज रायसेन में विभिन्न विषयोंके आठ व्याख्याताओं के पद रिक् त हैं। ऐसी स्थिति में पंद्रह अतिथि विद्वानों की मदद से कुछ विषयों की पढ़ाई कराई जा रही है। रिक्त व्याख्याताओं के पदों को भरे जाने के लिए हमने उच्च शिक्षा विभाग समेत बीयू भोपाल को पत्र-व्यवहार कर समस्या से अवगत करवा दिया गया है। अपडाउन और बाहरी तत्वों पर रोक लगाने की भरसक कोशिशें की जा रही हैं।

डॉ. इशरत खान प्राचार्य स्वामी विवेकानंद डिग्री कॉलेज रायसेन

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned