आंगनबाड़ी केंद्रों पर कुपोषण को दूर करने के उपाय बताए

राष्ट्रीय पोषण माह के अंतर्गत आयोजित किए जा रहे कार्यक्रम

By: chandan singh rajput

Published: 30 Sep 2020, 02:04 AM IST

बाड़ी. शासन के निर्देश पर आंगनबाड़ी केंद्रों पर सितंबर माह को पोषण माह के रूप में मनाया गया। पर्यवेक्षक जुलेखा खान के निर्देशन में कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए जागरूकता कार्यक्रम किए जा रहे हैं। इस दौरान गर्भवती धात्री महिलाओं एवं किशोरी बालिकाओं को पौष्टिक आहार से संबंधित जानकारी देकर कुपोषण दूर करने के उपाय बताए गए। राष्ट्रीय पोषण माह के अंतर्गत जागरुकता गतिविधियां संचालित कर सुसज्जित एवं चलित प्रदर्शनी बैनर पंपलेट वॉल पेंटिंग आंगनबाड़ी केंद्रों पर कराई जा रही है।

कार्यक्रम में पर्यवेक्षक, आशा कार्यकर्ता, गर्भवती महिला, धात्री महिला, बच्चों, किशोरी बालिका व स्थानीय महिला एवं पुरुष शामिल हो रहे हैं। पर्यवेक्षक जुलेखा खान ने उपस्थित गर्भवती महिलाओं को बताया कि जैसे ही महिला गर्भधारण करती है। इस दौरान गर्भवती महिलाओं को भोजन में कार्बोहाइड्रेट प्रोटीन वसा विटामिन खनिज फ ाइबर पानी और हरी पत्तेदार सब्जियां शामिल करना चाहिए, जिससे शारीरिक तौर पर पूर्ण स्वस्थ रहें।

पौष्टिक आहार की थाली का बताया महत्व
बरेली. पोषणयुक्त आहार लेने का संदेश देने को लेकर आंगनबाड़ी केंद्र में पोषण आहार सप्ताह मनाया जा रहा है। इसके अंतर्गत आंगनबाड़ी केंद्र में पोषणयुक्त अहार की थालियां सजाई गई। सुपरवाइजर, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका ने आकर्षक ढंग से विभिन्न व्यंजनों को प्रदर्शित किया। साथ ही पोषण आहार के लिए भूमि का चयन, सब्जी का चयन, व्यंजन बनाना, छत पर सब्जी आदि लगाने की जानकारी दी। इस अवसर पर सुपरवाइजर मीना मंडाले, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता विद्या साहू, माया सराठे, फूलवती, भारती नामदेव, अनिता कहार, ताराबाई सहित अन्य उपस्थित रहीं।

Show More
chandan singh rajput
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned