रथ में बैठे भगवान, निकाली सांकेतिक यात्रा

लगातार दूसरी साल टूटी रथ यात्रा की परंपरा।

By: praveen shrivastava

Published: 12 Jul 2021, 09:02 PM IST

बेगमगंज. लगातार 63 साल से मानोरा जिला विदिशा की तरह निकाली जाने वाली रथ यात्रा 64 और 65वें वह वर्ष में नहीं निकाली जा सकी। कोरोना संक्रमण के कारण पिछले वर्ष ही प्रशासन ने अनुमति नहीं दी थी और इस बार भी अनुमति नहीं दी गई। जिसके कारण माला फाटक स्थित जगदीश मंदिर पर सांकेतिक रूप से रथ तैयार कर उसमें श्री कृष्ण बलराम और सुभद्रा की प्रतिमाएं विराजित कर पंडित शिव नारायण शर्मा द्वारा पूजा अर्चना कराई गई। रथ की रस्सी को हाथों में पकड़ कर सांकेतिक रूप से परंपरा का निर्वहन किया गया। लोगों ने एक ही स्थान पर खड़े होकर प्रसाद चढ़ाया और ग्रहण किया।
समिति प्रमुख अजय सिंह जाट, पंडित रामेश्वर वैध, दिनेश पाटकर, सुरेश ताम्रकार आदि ने मंदिर से प्रतिमाओं को अपने सिर पर रखकर रथ में विराजमान किया और रथ की रस्सी को पकड़कर नगर के प्रबुद्ध जनों ने सांकेतिक रूप से रथयात्रा का शुभारंभ किया। कोरोना संक्रमण की गाइड लाइन के अनुसार समिति के पदाधिकारी प्रबंधक गण एवं पुलिस प्रशासन लोगों को सोशल डिस्टेंस का पालन करने की हिदायत देते देखे गए।
-----------------

रथ में बैठे भगवान, निकाली सांकेतिक यात्रा
praveen shrivastava Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned