जिले में जानवरों पर खतरा, एक दिन में दो जगह शिकार

रायसेन और देहगांव में किए दो हिरण एक शावक का किया शिकार। शिकारी गिरफ्तार।

By: praveen shrivastava

Published: 11 Jan 2021, 09:08 PM IST

रायसेन/गैरतगंज. जिले में वन्य प्राणियों पर खतरा मंडरा रहा है। बीते एक सप्ताह से लगातार वन्य प्राणियों की मौत और शिकार के मामले सामने आ रहे हैं। रविवार और सोमवार के दरमियान रायसेन और देहगांव वन परिक्षेत्र में दो हिरण एक मादा एक नर तथा एक शावक का शिकार किया गया। इससे पहले चिकलोद क्षेत्र में एक तेंदुआ कस शिकार हुआ था। तीन जनवरी को चिलवाहा रेंज क्षेत्र में नीलगाय का शिकार हुआ था। जबकि एक तेंदुआ और एक भालु की दुर्घटना में मौत हो गई थी।
रविवार-सोमवार की रात रायसेन वन अमले ने सागर रोड पर एक दुकान में हिरण का मांस पकाते हुए दो लोगों को गिरफ्तार किया है। हालांकि इस मामले में वन विभाग के अधिकारी जानकारी देने से कतराते रहे। बताया जाता है कि रात में अमले ने कई लोगों को पकड़ा था, लेकिन बाद में छोड़ दिया। केवल एक युवक को पकड़ा, दूसरे युवक को सुबह पकड़ा गया। रेंजर दीपक तिरपुरे ने बताया कि दुकान मालिक शिवचरण बंजारा और अशोक कुमार विश्वकर्मा को गिरफ्तार किया गया है। जिनसे पूछताछ की जा रही है।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आरोपियों ने हिरण का शिकार किया था। जिसमें कई लोग शामिल थे। वन अमले ने दो आरोपियों को ही गिरफ्तार किया है। मांस भी बरामद किया है। जिसे जांच के लिए भेजा जा रहा है। रेंजर दीपक तिरपुरे का कहना है कि मांस की जांच के बाद ही पता चलेगा किस जानवर का है। आरोपी शिवचरण ने बताया कि चार पांच लोग मांस लेकर मेरे पास पकाने के लिए आए थे। ये लोग पहले भी इसी तरह मांस लाते रहे हैं। इससे साबित होता है कि क्षेत्र में जंगली जानवरों का शिकार लगातार जारी है।
मादा हिरण और शावक का शिकार
वन परिक्षेत्र गढ़ी के अंतर्गत ग्राम सर्रा में सोमवार को मुखबिर की सूचना पर वन अमले ने मादा हिरण का शिकार करने वाले दो आरोपियों को रंगे हाथों पकड़ा है। पता चला है कि हिरण के साथ उसके शावक का भी शिकार आरोपियों ने किया है। वन अमले ने इस मामले में आरोपियों को न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया है।
शिकार की जानकारी मिलने पर रेंजर रजनीश शुक्ला ने टीम गठित कर मौके पर भेजा। जहां वन अमले ने दो आरोपी वेंदीलाल अहिरवार पुत्र फूलसिंह एवं भूरा पुत्र गनेश अहिरवार दोनो निवासी सर्रा को शिकार किए गए हिरण के साथ रंगे हाथों पकड़ा। वन अमले ने यह पूरी कार्रवाई आरोपियों के खेत में बने टपरे पर की। जहां दोनो आरोपी मादा हिरन का शिकार करने के बाद उसकी सफाई कर रहे थे। हिरण के शावक को आरोपियों ने काटकर छीन्न भिन्न कर दिया था। आरोपियों से पूछताछ में उन्होंने बताया कि उन्होंने खेत की मेड़ पर करंट फैलाकर हिरण का शिकार किया है। वन अमले ने आरोपियों के पास हिरण का शव, कुल्हाड़ी, करंट फैलाने के लिए बिछाया गया तार सहित अन्य धारदार हथियार जब्त किए हैं। रेंजर रजनीश शुक्ला ने बताया कि दोनो ही आरोपियों को गिरफ्तार कर वन्य प्राणी अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर जेल भेजा गया है।
आठ दिन में सात जानवरों की मौत
तीन जनवरी से अब तक जिले में सात जंगली जानवरों की मौत हो चुकी है। इनमें पांच जानवरों का शिकार किया गया, जबकि दो की मौत दुर्घटनाओं में हुई है। सात में चार मामले रायसेन वन मंडल के जबकि तीन मामले औबेदुल्लागंज वन मंडल के हैं।
-----------

praveen shrivastava Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned