scriptraisen, fasal avak aur vivah muhurt ka gathjod bazar ke liye shubh | विवाह मुहूर्त और फसल की आवक का गठजोड़ बाजार के लिए शुभ | Patrika News

विवाह मुहूर्त और फसल की आवक का गठजोड़ बाजार के लिए शुभ

- बीस माह बाद कल से बजेंगी शहनाइयां। खरीदारी से बाजार में आई रौनक।

रायसेन

Updated: November 17, 2021 08:56:40 pm

रायसेन. कोरोना के चलते शादियों की धूमधाम पर लगा ग्रहण अब हट चुका है। 20 माह बाद एक बार फिर शहनाइयां गूंजेंगी और विवाह आयोजनो से कारोबार अपने रंग में आएंगे। हर तरह के बाजारों में उठाव के साथ मेरिज गार्डन, बैंड, टेंट, डेकोरेशन सहित अन्य कारोबारों को गति मिलेगी। बुधवार को आयोजनो में शामिल होने वाले लोगों की संख्या बढ़ाने के सरकार के फैसले से इस कारोबारियों का उत्साह और बढ़ गया है। आज से शुरू हो रहे विवाह मुहूर्तों में अब पूरे जोश और उत्साह से आयोजन संपन्न होंगे। विवाह के हर तिथि के लिए सभी मेरिज गार्डन बुक हो चुके हैं। दीपावली के बाद कमजोर हुई खरीदारी बीते चार-पांच दिन में फिर बढ़ी है। शादियों के आयोजन के चलते कपड़ा, सराफा, इलेक्ट्रॉनिक्स, वाहन बाजार में ग्राहकी की अच्छी रौनक रहेगी।
विवाह मुहूर्त के साथ खरीफ की फसलें भी बाजार में आ गई हैं। एक तरह किसान के साथ में रुपए की आवक और विवाह आयोजन, बाजारों के लिए शुभ साबित होंगे। पिछले वर्ष मार्च माह से ही कोरोना का प्रभाव बढऩे से लंबा समय लॉक डाउन के बीच गुजरा और शादियों के आयोजन पर कई तरह की बंदिशें थीं। ऐसे में लोगों को विवाह कार्यक्रम औपचारिक ढंग से करना पड़े थे। साथ ही विवाह से जुड़े कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुए थे। अब ऐसे परिवारों की खुशियां वापस लौटी हंै। जिनके व्यापार केवल विवाह आयोजन से जुडे हैं।
शहर के सभी मैरिज गार्डन बुक
शहर में लगभग 10 मैरिज गार्डन हैं, जो सभी विवाह तिथियों में बुक हो चुके हैं, कुई विवाह कार्यक्रम तो बीते साल निरस्त होने के कारण अब संपन्न किए जाएंगे, जिनके लिए गार्डन पहले से ही बुक हो गए हैं। बीते साल बुकिंग निरस्त होने से गार्डन संचालकों को नुकसान उठाना पड़ा था, इस बार बुकिंग का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं।
किसी का विवाह हो तो आती है इनके घर खुशियां
शहर में लगभग 100 परिवार ऐेसे हैं, जिनका कारोबार विवाह आयोजनो पर ही निर्भर है। बीते दो सालों में कोरोना संक्रमण के चलते इन परिवारों की खुशियां काफूर हो गई थीं, गुजारा मुश्किल हो गया था। बैंड, फूल, डेकोरेशन, लाइट, कटलरी, टेंट, हलवाई का काम करने वाले परिवारों में अब खुशियां हैं। कल से शहर में विवाह की शहनाईयां गूंजेंगी तो इन परिवारों में भी खुशियां लौटेंगी।
दो माह में 20 करोड़ से अधिक का कारोबार
नवंबर और दिसंबर के विवाह मुहूर्तों में 20 करोड़ से अधिक के कारोबार की संभावना है। इसकी खरीदारी भी शुरू हो चुकी है। कपड़ा के अलावा सराफा, बर्तन, इलेक्ट्रॉनिक, वाहन, फर्नीचर व अन्य व्यवसाय पटरी पर लौटेंगे।
इन तिथियों में होंगे विवाह
पंडित राजेंद्र शर्मा, राजेश शर्मा के अनुसार नवंबर माह में विवाह के 8 एवं दिसंबर माह में विवाह के 7 मुहुर्त है। नवंबर में 19, 20, 21, 22, 26, 28, 29, 30 को शादी के मुहुर्त हैं। इसी तरह दिसंबर माह में 1, 3, 5, 7, 11, 12, 13 दिंसबर को विवाह के मुहुर्त रहेंगे।
--------
विवाह मुहूर्त और फसल की आवक का गठजोड़ बाजार के लिए शुभ
विवाह मुहूर्त और फसल की आवक का गठजोड़ बाजार के लिए शुभ

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण, वर्षों बाद 'मंडल' बनाम 'कमंडल'दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेअब एसएसबी के 'ट्रैकर डॉग्स जुटे दरिंदों की तलाश में !सूर्य ने किया मकर राशि में प्रवेश, संक्रांति का विशेष पुण्यकाल आजParliament Budget session: 31 जनवरी से शुरू होगा संसद का बजट सत्र, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगाArmy Day 2022: आज से नई लड़ाकू वर्दी में दिखेंगे हमारे जवान, सेना दिवस पर थलसेना प्रमुख लेंगे परेड की सलामीCDS बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर हादसे की वजह आई सामने, वायुसेना ने दी जानकारीकोविड पॉजिटिव गर्भवती महिला के पेट में कोरोना से अधिक सुरक्षित है शिशु, जानिए कैसे महामारी के दौर में सुरक्षित रखें मां और बच्चे को
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.