जिला जेल में हेपिटाइटिस-बी, तीन कैदियों में मिले लक्षण

जिले में पहली बार मिले इस गंभीर बीमारी के लक्षण वाले मरीज, फिलहाल सामान्य, की जाएंगी अन्य जांचें।

By: praveen shrivastava

Updated: 29 Jul 2021, 11:11 PM IST

रायसेन. विश्व हेपिटाइटिस दिवस के अवसर पर जिला जेल में कैदियों का स्वास्थ परीक्षण करने शिविर लगाया गया था। इस शिविर में जांच के दौरान तीन कैदियों में गंभीर बीमारी हेपिटाइटिस-बी के लक्षण पाए गए हैं। हालांकि इन तीन कैदियों की स्थिति फिलहाल सामान्य है, लेकिन उन्हे निगरानी में रखा जाएगा। हेपिटाइटिस-बी जैसी गंभीर बीमारी के लक्षण वाले मरीज जिले में पहली बार पाए गए हैं, वह भी जेल में। जो एक गंभीर मामला हो सकता है। खास बात यह कि इन मरीजों की पहचान समय रहते हो गई है, जिससे अन्य कैदियों में यह बीमारी फैलने का खतरा टल गया है। शिविर में कैदियों की जांच जिला अस्पताल के मेडीकल ऑफिसर डा. एमएल अहिरवार, डा. आरके वर्मा, नोडल अधिकारी एनवीएससीपी ने की। जांच के दौरान रेपिड टेस्ट में तीन कैदियों में इस बीमारी के लक्षण पाए गए। शिविर में जेल के 198 बंदियों की जांच की गई थी।
ेक्यों है खतरनॉक
डा. अहिरवार ने बताया कि हेपिटाइटिस-बी मलेरिया का गंभीर रूप है, लेकिन यह बीमारी एड्स की तरह खतरनॉक है। यह एड्स की तरह ही असुरक्षित योन संबंध बनाने, एक दूसरे के खून, लार, पसीना के संपर्क में आने से फैलती है। जेल के कैदियों में इस बीमारी के लक्षण पाए जाना गंभीर मामला है। यदि समय रहते उनकी पहचान नहीं होती तो अन्य कैदियों के लिए भी खतरा था।
अब आगे क्या
डा. आरके वर्मा ने बताया कि तीनो कैदियों की जानकारी जेल प्रबंधन को दी गई है। फिलहाल उनमें बीमारी गंभीर नहीं है। शुरुआती जांच में लक्षण पाए गए हैं, इन कैदियों को अस्पताल लाने के लिए कहा गया है, ताकि एक बार फिर उनकी विस्तृत जांच की जा सके। कैदियों के परिजनों की भी जांच की जाएगी। शुरुआती लक्षणों में आसानी से बीमारी को खत्म किया जा सकता है, इसलिए फिलहाल चिंता की बात नहीं है।
इनका कहना है
- जिला जेल में बंदियों का स्वास्थ परीक्षण किया गया था, जिसमें तीन बंदियों में हेपिटाइटिस-बी के लक्षण पाए गए हैं। इनकी फिर जांच की जाएगी साथ ही इनके परिवार के सदस्यों की भी जांच की जाएगी। जेल प्रबंधन को इन बंदियों की जानकारी दे दी है।
डा. आरके वर्मा, एनवीएससीपी प्रभारी जिला अस्पताल
-
मै अभी अवकाश पर हूं, मुझे इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है। जानकारी मिलने के बाद ही कुछ कह सकती हूं।
हिमानी मानवारे, जेलर
----------------------

praveen shrivastava Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned