शहर में दस मैरिज गार्डन नपा के रिकॉर्ड में सिर्फ चार

टैक्स बचा रहे गार्डन संचालक, जिम्मेदार नहीं दे रहे ध्यान।

By: praveen shrivastava

Published: 07 Mar 2020, 06:01 AM IST

रायसेन. अगर आप अपने बेटे या बेटी की शादी के लिए मैरिज गार्डन बुक करने जा रहे हैं, तो पहले यह पता कर लें कि कहीं वह अवैध तो नहीं है। क्योंकि विवाह समारोह आयोजित कराने की सुविधा देने वाले अधिकतर मैरिज गार्डन सरकारी नियमों को ठेंगा दिखा रहे है। शहर में संचालित मैरिज गार्डन बिना पंजीयन के धड़ल्ले से चल रहे हैं।
मैरिज गार्डन न तो नगरपालिका परिषद के रिकार्ड में दर्ज हैं और न ही शासन के खजाने में टैक्स जमा कर रहे हैं। लापरवाही का आलम यह है कि रायसेन शहर में करीब 10 मैरिज गार्डन और 5 धर्मशालाएं हैं। इनमें से सिर्फ 4 मैरिज गार्डन ही टैक्स जमा कर रहे हैं। इनमें 2 मैरिज गार्डन के नाम से तो दो मैरिज वाटिका के नाम पर पंजीकृत हैं। बाकी मैरिज गार्डन, धर्मशाला बिना टैक्स अदा किए लोगों की जेब पर डाका डाल रहे हैं।
सुविधा के नाम पर वसूल रहे हजारों रुपए
मैरिज गार्डन संचालक सुविधाओं के नाम पर लोगों से भारी रकम वसूल रहे हैं। मैरिज गार्डन में मिलने वाली सुविधा नाम मात्र की रहती है। लेकिन उसका भुगतान पूरा करना पड़ता है। मैरिज गार्डन पर लगने वाला टैक्स लोगों से तो ले लेते हैं। लेकिन नगर पालिका परिषद में वह टैक्स जमा नहीं करते। जब से मैरिज गार्डन संचालित हुए हैं तभी से सालाना टैक्स चोरी की जा रही है। इसकी जानकारी नगर पालिका परिषद के जिम्मेदारों को होने के बाद भी टैक्स जमा नहीं कराया जाता। अपने निजी फ ायदे के लिए इन पर किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं करते। शादी-विवाह की मुहूर्त के समय हर दिन की बुकिंग करने वाले गार्डन नपा को ठेंगा दिखा रहे हैं। साथ ही नियमों को भी ताक में रखते है। अधिक एडवांश हजारों रूपए चुकाकर बुकिंग आती है। जहां संचालक इसका फ ायदा उठाकर भारी भरकम रकम वसूलते हैं। इसके अलावा मैरिज गार्डन में स्व'छता को लेकर डिस्पोजल बेन प्लास्टिक थार्माकोल की दोना पत्तल को भी किया गया है। किन्तु रोजाना हो रहे विवाह समारोह में डिस्पोजल का खुला उपयोग हो रहा है। नगर पालिका परिषद के जिम्मेदार यह देखकर भी आंखें बंद किए हुए हैं।
मात्र 4 लोग करते टैक्स जमा
शहर में 10 मैरिज गार्डन 5, धर्मशालाएं हैं। लेकिन नगर पालिका परिषद में पंजीयन मात्र 4 मैरिज गार्डन ही हैं जो टैक्स जमा करते हैं। जबकि नियम अनुसार सभी मैरिज गार्डनों को टैक्स करने का नियम है। परन्तु हौसले बुलंद होने के चलते बाकी गार्डन संचालक बिना टैक्स जमा किए ही लगातार बुकिंग ले रहे हैं।
मैरिज गार्डन के लिए यह नियम जरूरी
मापदंड के अनुसार मैरिज गार्डन के लिए न्यूनतम भूमि एक हेक्टेयर होना अनिवार्य है। सामने की ओर सड़क की न्यूनतम चौड़ाई 18 मीटर होना चाहिए। परिसर का न्यूनतम हिस्सा सामने की ओर 40 मीटर होना अनिवार्य है। अग्निशमन यंत्र अनिवार्य। बोर्ड पर गार्डन में नियमों की जानकारी लिखना अनिवार्य होता है। जबकि शहर में कई गार्डन इन नियमों की अनदेखी कर रहे हैंं।
वर्जन...
रायसेन शहर में संचालित हो रहे दस मैरिज गार्डन और पांच धर्मशाला की लिस्ट तैयार की जाएगी। जो नगर पालिका परिषद में सालाना टैक्स जमा नहीं कर रहे हैं, उन पर नियम अनुसार वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।
ओमपाल सिंह भदौरिया, नपा सीएमओ नगर पालिका
---------------------------------------------

praveen shrivastava Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned