scriptraisen, mokdrill in hospital on tuesday | अस्पताल में व्यवस्थाओं का मॉकड्रिल कल | Patrika News

अस्पताल में व्यवस्थाओं का मॉकड्रिल कल

locationरायसेनPublished: Dec 25, 2022 09:07:09 pm

Submitted by:

praveen shrivastava

फिर चेहरे पर मास्क और दो गज की दूरी, कोरोना संक्रमण की आहट के बीच स्वास्थ अमला सतर्क।

अस्पताल में व्यवस्थाओं का मॉकड्रिल कल
अस्पताल में व्यवस्थाओं का मॉकड्रिल कल
रायसेन. कोरोना की फिर आहट के बीच सतर्कता बरतने की अपील की जा रही है। वहीं स्वास्थ अमला फिर अपनी तैयारियों को मजबूत कर रहा है। हालांकि अभी प्रदेश में कोरोना के नए वेरिएंट का असर नहीं देखा गया है, लेकिन आशंकाओं के बीच बचाव और इलाज की तैयारियां शुरू हो गई हैं। पूरे प्रदेश में कल जिला अस्पतालों में मॉकड्रिल किया जाएगा। सरकार ने स्वास्थ अमला को कोरोना से निपटने के लिए तैयारियां करने के निर्देश दिए हैं, इसी के तहत मॉकड्रिल किया जा रहा है। इससे पहले आज जिला अस्पताल में डॉक्टरों की एक बैठक भी होगी, जिसमें पुराने अनुभवों के आधार पर तैयारियों की समीक्षा की जाएगी। स्वास्थ मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने लोगों ने सतर्क रहने और मास्क पहनने की अपील की है।
मॉकड्रिल में उसी तरह प्रक्रिया करके देखा जाएगा, जिसे कोरोना की पहली या दूसरी लहर में वास्तविकता में अपनाया गया था। इसमें कोरोना पॉजिटिव मरीज के अस्पताल पहुंचने, उसे लाने, अस्पताल में रिसीव करने और जांच करने और तत्काल इलाज शुरू करने की प्रक्रिया की जाएगी। इसके बाद मरीज के स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज किया जाएगा। बाद में फॉलोअप भी देखा जाएगा।
बॉटलिंग प्लांट को मिली मंजूरी
जिला अस्पताल में लगे एक लाख लीटर प्रति दिन ऑक्सीजन बनाने की क्षमता वाले प्लांट से ऑक्सीजन सिलेंडर भरने के लिए एक अतिरिक्त मशीन लगाने को भी स्वीकृति मिल गई है। जनवरी माह में यह बॉटलिंग प्लांट भी तैयार हो जाएगा। इससे हर दिन 22 हजार लीटर क्षमता के पांच जंबो सिलेंडर और 7000 लीटर क्षमता के 14 से 15 सिलेंडर भरे जा सकेंगे। जरूरत पडऩे पर इस प्लांट से जिले के अन्य अस्पतालों में भी ऑक्सीजन भेजी जा सकेगी। जिला अस्पताल में 6000 लीटर क्षमता का एक और लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट है। जिसका नियमित उपयोग किया जाता है।
ये सुविधाएं भी उपलब्ध
जिला अस्पताल में 15 पलंग को कोविड आइसीयू वार्ड तैयार है। इसके अलावा 80 और 50 पलंगों के दो अन्य वार्ड भी तैयार हैंख् जिनके हर पलंग पर ऑक्सीजन सप्लाई की सुविधा हैँ। 24 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर भी उपलब्ध हैं। इन सभी सुविधाओं को भी मॉकड्रिल में परखा जाएगा।
संविदा कर्मियों की हड़ताल चिंता का विषय
कोरोना की आहट के बीच संविदा स्वास्थ कर्मियों की हड़ताल तैयारियों को प्रभावित कर सकती है। यदि कोरोना के मामले बढ़े तो फिर मुसीबतें भी बढ़ सकती हैं। जिले में अधिकतर स्वास्थ सेवाएं और व्यवस्थाएं संविदा कर्मियों पर निर्भर हैं। मैदानी अमले के साथ अस्पतालों में भी संविदा स्वास्थ कर्मी व्यवस्थाएं संभालते हैं। आज होने वाली बैठक में इस समस्या और उसके विकलप के बारे में भी चर्चा की जाएगी।
इनका कहना है
कोरोना की आशंका को देखते हुए शासन के निर्देश पर तैयारियां की जा रही हैं। मंगलवार को जिला अस्पताल में मॉकड्रिल किया जाएगा। इससे पहले सोमवार को बैठक में तैयारियों की समीक्षा करेंगे।
डॉ. दिनेश खत्री, सीएमएचओ रायसेन
-
अभी प्रदेश में कोरोना की स्थिति सामान्य है। फिर भी हम पूरी सतर्कता के साथ तैयारियां कर रहे हैं। ऑक्सीजन प्लांटए दवा आदि की समीक्षा करने के निर्देश दिए हैं। मंगलवार को पूरे प्रदेश के जिला अस्पतालों में मॉकड्रिल किया जाएगा। लोगों से अपील है कि सोशल डिस्टेंसिंग कापालन करें, मास्क लगाएं और जिन्होंने बूस्टर डोज नहीं लगाया वे यह डोज जरूर लगवाएं।
डॉ. प्रभुराम चौधरी, स्वास्थ मंत्री।
----------
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.