ओलावृष्टि से तबाह हुई 50 से अधिक गांवों की फसलें, मकानों के कवेलू फूटे

- अधिकारी पहुंचे निरीक्षण करने, डेढ़ घंटे में मची तबाही।
- गेहूं, मसूर, सरसों व चना की फसलों को हुआ नुकसान।

By: praveen shrivastava

Published: 19 Mar 2020, 01:14 PM IST

सुल्तानगंज/बेगमगंज/गैरतगंज. गुरुवार सुबह छह बजे से साढ़े आठ बजे के बीच अचानक हुई भीषण ओलावृष्टि से किसानो की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। गरज, चमक के साथ बारिश शुरू हुई और फिर ओले गिरने लगे। जिससे बेगमगंज और गैरतगंज तहसील के करीब 50 गांवों की फसलों को भारी नुकसान हुआ है। खेतों में खड़ी फसलें आड़ी हो गई, कटने की स्थिति में पहुंची गेहूं की फसलों की बालियां ओलों की मार से टूट कर खेतों में बिछ गईं। इसी तरह चना के दाने भी गिर गए। सुबह 6 बजे से लगातार डेढ़ घंटे बारिश के साथ हुई ओलावृष्टि हुई। किसानो के अनुसार फसलों को 80 प्रतिशत तक नुकसान हुआ है। पहले हुई बोवनी की मसूर, सरसों व चने की फसलों की कटाई चल रही है। ऐसे में ओलावृष्टि एवं बारिश से सूखी हुई फसलें भीग गई हैं, वहीं खेतों में खड़ी फसल ओलावृष्टि की मार में टूट कर जमीन में धंस गई हैं। बची हुई फसलें तेज हवा के कारण जमीन पर लेट गई है। नुकसान का आकलन करने अधिकारी खेतों में पहुंचे हैं।
इन गांवों में हुआ नुकसान
बेगमगंज तहसील के ग्राम बेरखेड़ी राजाराम, पंदरभटा, चैनपुरा, गुलवाड़ा, नई गडिय़ा, खामखेड़ा, नारायणपुर, झमरा जमानिया, गोरखपुर, गोरखी, बम्होरी टिटोर, टेकापार, केशलोंन, उदका, भैसा, घोगरी, मोदकपुर, मरखंडी, पंडाझिर, तुलसीपार, वीरपुर, बिजोरा सहित अन्य गांवों में ओलावृष्टि से फसलों और क"ो मकानों को नुकसान हुआ है।
इसी तरह गैरतगंज तहसील के ग्राम सिंहपुर, पाटन, हरदौट, मूंडला समेत कई गांवों में हुआ फसलों को नुकसान हुआ है। तहसीलदार अम्बर पंथी के साथ राजस्व अमला ुकसान का निरीक्षण करने खेतों में पहुंचा है।
सताने लगी कर्ज की चिंता
ओलावृष्टि से खराब हुई फसल के बाद किसानों को बैंक ऋण चुकाने की चिंता सताने लगी है। किसान राजेन्द्र यादव, रघुराज सिंह दांगी ने बताया कि अ'छे उत्पादन की उम्मीद थी। सोचा था, बैंक का कर्ज चुका देंगे, लेकिन लगता है भगवान रूठ गया। चादौड़ा के किसान मुन्ना राजा परमार का कहना है कि ओले गिरने से फसलें चौपट हो गईं।
उदका के किसान नत्थू कुशवाह ने बताया कि प्याज, टमाटर, भटा, मिर्ची आदि सब्जियों की फसल भी अति ओलावृष्टि से प्रभावित हुई हंै। 80 प्रतिशत सब्जियों की फसल खराब हो गई। प्याज बुवाई के लिए किया गया करीब एक लाख का कर्ज कैसे चुक पाएगा।
एसडीएम बेगमगंज संजय उपाध्याय ने राजस्व एवं कृषि दल के साथ दर्जनों ओला प्रभावित ग्रामों का दौरा किया और किसानों से कहा प्राकृतिक आपदा में शासन एवं प्रशासन आपके साथ है संयम से काम लें, नुकसान के आकलन के बाद पीडि़त किसानों के लिए सरकार से हर संभव मदद दिलाने के प्रयास करेंगे
------------------------

ओलावृष्टि से तबाह हुई 50 से अधिक गांवों की फसलें, मकानों के कवेलू फूटेओलावृष्टि से तबाह हुई 50 से अधिक गांवों की फसलें, मकानों के कवेलू फूटे
praveen shrivastava Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned