सागर के आरएमपी डॉक्टर ने रायसेन के गांवों में बाटा कोरोना

बड़ी लापरवाही, दो गांवों के दो परिवारों के 18 लोगों को किया क्वारंटीन, एक महिला को किया भर्ती। गौहरगंज का व्यक्ति भोपाल में मिला पॉजीटिव, सर्वे के लिए पहुंचा दल।

By: praveen shrivastava

Updated: 26 Jun 2020, 08:24 PM IST

रायसेन/देवरी. कोरोना संक्रमण को लेकर अब बेजा लापरवाही सामने आ रही हैं। अनलॉक के बाद जब से आवागमन को खुली छूट मिली है, तब से संक्रमित व्यक्तियों के एक से दूसरी जगह से जाने से कोरोना का संक्रमण फैल रहा है। ताजा मामला जिले के देवरी क्षेत्र में सामने आया हैं, हालांकि यहां अभी कोई पॉजीटिव नहीं मिला है, लेकिन इसकी संभावनाओं से इंकार भी नहीं किया जा सकता। देवरी के कुछ गांवों में सागर जिले से आकर डॉक्टर मरीजों का इलाज करता रहा, जबकि वह खुद कोरोना पॉजीटिव था। जांच के बाद जब उसकी रिपोर्ट पॉजीटिव आई तो इन गांवों में हड़कंप मच गया। जानकारी के मिलने पर स्वास्थ्य अमले ने दो गांवों के दो परिवारों के 18 लोगों को होम क्वारंटीन किया है, जबकि एक महिला को उदयपुरा अस्पताल में भर्ती किया गया है।
गांव में ही बिगड़ी हालत
जानकारी के अनुसार सागर जिले के कसबा केसली निवासी आरएमपी डॉक्टर रिंकू जैन लंबे समय से रायसेन जिले की सीमा पर स्थित कुछ गांवों में आकर मरीजों को इलाज करता था। बुधवार को उक्त डॉक्टर ग्राम इमलिया और रबरा पहुंचा था, इमलिया में उसने एक गर्भवती महिला को ग्लूकोज की बॉटल लगाई थी, इस दौरान उसकी तबीयत बिगड़ी, उसे सांस लेने में दिक्कत हुई और बुखार आ गया। वह किसी तरह बाइक से वापस लौट गया। सागर जागर जांच कराई तो गुरुवार को उसकी रिपोर्ट पॉजीटिव मिली। शुक्रवार को यह जानकारी देवरी तक पहुंची, तब स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया। अमला ग्राम इमलिया और रबरा पहुंचा, जहां सर्वे कर डॉक्टर के संपर्क में आए लोगों की जानकारी जुटाई। जिस महिला का इलाज किया था, उसे उदयपुरा अस्पताल लाकर भर्ती किया गया। इसी तरह ग्राम रबरा में वहां की आशा कार्यकर्ता के पति सहित अनय लोगों के संपर्क में आया था। इमलिया और रबरा के 18 लोगों को होम क्वारंटीन किया गया है।
बीएमओ कर चुके हैं शिकायत
बीएमओ डा. केके सिलवाट ने बताया कि क्षेत्र में कई झोलाछाप डॉक्टर सक्रिय हैं, जो गांव-गांव और घर-घर जाकर लोगों का इलाज करते हैं। देवरी के ऐसे तीन डॉक्टरों की शिकायत उन्होंने लगभग एक माह पहले पुलिस में की थी। डा. सिलावट का कहना है कि ऐसी स्थिति में कोरोना का संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है। कोई भी मरीज कोरोना संक्रमित हो सकता है, उसके संपर्क में डॉक्टर के आने से खतरा और बढ़ सकता है। क्योंकि डॉक्टर कई मरीजों का इलाज करते हैं।
शुगर की जांच कराने गया निकला कोरोना पॉजीटिव
ब्लॉक ओबेदुल्लागंज अंतर्गत कस्बा गौहरगंज में एक व्यक्ति के कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। उक्त व्यक्ति बुधवार को डासबिटीज की जांच कराने भोपाल के हमीदिया अस्पताल गया था। जहां शक होने पर उसका सेंपल लिया गया, जिसकी रिपोर्ट शुक्रवार को पॉजीटिव मिली। इसकी जानकारी मिलते ही बीएमओ अरविंद चौहान सहित प्रशासनिक और पुलिस अमला गोहरगंज पहुंचा और मरीज के परिजनो की जांच की। क्षेत्र में सर्वे कर उसके संपर्क में आए लोगों की जानकारी एकत्र करना शुरू किया। बीएमओ ने बताया कि मरीज के संपर्क में आए सभी लोगों के सेंपल लिए जाएंगे।
--------

praveen shrivastava Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned