scriptraisen, Tranching ground me uljha swachchta abhiyan | ट्रंचिंग ग्राउंड में उलझा स्वच्छता अभियान | Patrika News

ट्रंचिंग ग्राउंड में उलझा स्वच्छता अभियान

शहर में गंदगी, स्वच्छता सर्वेक्षण में पिछडऩे के बाद भी नपा ने नहीं बनाई कोई योजना।

रायसेन

Published: January 19, 2022 05:48:52 pm

रायसेन. स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 में बनी साख डुबाना के बाद भी रायसेन नगर पालिका स्थिति को सुधारने के लिए कोई योजना बनाकर काम नहीं कर पा रही है। केवल ट्रंचिंग ग्राउंड पर कचरा के प्रबंधन में उलझी नजर आ रही है, जबकि शहर में जहां तहां गंदगी पसर रही है। कीटनाशक का छिड़काव तो दूर गंदगी वाली जगहों की सफाई तक नहीं हो रही है। सफाई के नाम पर केवल कचरा वाहन चल रहे हैं, वे भी डीजल की कमी के चलते अब नियमित नहीं रहे। नपा की स्वच्छता सर्वेक्षण की टीम ट्रंचिंग ग्राउंड की व्यवस्था में लगी है तो शहर में सफाई के लिए जिम्मेदार संसाधनो और कर्मचारियों की कमी का रोना रोते हैं। यही हाल रहे तो अगले स्वच्छता सर्वेक्षण में रायसेन नपा और गहरे गड्ढे में उतर जाएगी।
लगभग दो माह पहले नपा के कचरा वाहनो सहित अन्य वाहनो में डीजल डालने वाले पेट्रोल पंप का बकाया 32 लााख से अधिक होने पर पंप संचालक ने डीजल देने से मना कर दिया था, तब तत्कालीन सीएमओ ने ज्योति सुनेरे ने डीजल खपत की जांच की तो गडबड़ी सामने आई। उन्होंने वाहनो में डीजल की मात्रा तय कर दी, तब से शहर कचरे के ढेर लगने लगे। जहां पहले हर दिन वाहन जाते थे, वहां सप्ताह में दो बार ही जा रहे हैं। कई जगह तो सप्ताह में एक बार ही वाहन जा रहे हैं। नगर पालिका के सेनेटरी इंस्पेक्टर शशिकांत का कहना है कि कुछ कचरा वाहन खराब हो गए हैं, इससे पहले डीजल की समस्या थी, इसलिए वाहन नियमित नहीं हो पा रहे हैं।
एनजीओ के भरोसे अभियान
स्वच्छता सर्वेक्षण पूरी तरह एनजीओ पर निर्भर होता जा रहा है। ट्रंचिंग ग्राउंड में बनाया गया एमआरएफ सेंटर एनजीओ को सुपुर्द कर दिया है। वही कचरा प्रबंधान कर रहा है। हर दिन आने वाले कचरे की छंटाई कर अलग-अलग करवा रहा है। जबकि उसके पास भी मेन पॉवर की कमी है। जितना कचरा हर दिन ट्रंचिंग ग्राउंड पहुंच रहा है, उसका आधा निष्पादन नहीं हो पा रहा है। ट्रंचिंग ग्राउंड पर कचरा प्रबंधन में उलझी स्वचछता सर्वेक्षण की टीम कोई और काम नहीं कर पा रही है। यह टीम जागरुकता कार्यक्रम तक सीमित होकर रह गई है। 25 दिसंबर को हुई जागरुकता रैली के बाद कोई और कार्यक्रम हुआ भी नहीं है।
शहर में भी घरों में गीला-सूखा कचरा अलग-अलग रखने और कचरा वाहन में अलग डालने के लिए लोगों को प्रेरित करने की जिम्मेदारी एनजीओ को दे रखी है, जिसके लोग कभी शहर में नजर नहीं आते।
सेटिंग से बिगड़ रही व्यवस्थाएं
नपा के जिम्मेदार भले ही तमाम तर्क दें, लेकिन असलियत यह है कि शहर में सफाई और कचरा उठाने का काम कर्मचारियों की सेटिंग के चलते गड़बड़ा रहा है। श्हर की कई ऐसी कॉलोनियों में सफाई कर्मचारी और वाहन चक्कर लगाते हैं, जो नपा के हैंडओवर नहीं हैं।
हर कर्मचारी बना सीएमाओ
नगर पालिका रायसेन में इन दिनो हर कर्मचारी सीएमओ बना हुआ है। 16 दिसंबर को तत्कालीन सीएमओ ज्योति सुनेरे के निलंबित होने के लगभग 10 दिन बाद नपा का प्रभार बेगमगंज सीएमओ को दिया गया, जो सप्ताह में दो या तीन दिन ही आते हैं। ऐसे में वरिष्ठ कर्मचारी ही व्यवस्थाएं संभाल रहे हैं। अधिकतर निर्णय भी खुद ही कर रहे हैं।
इनका कहना है
- एमआरएफ सेंटर पर कचरे को अलग-अलग करने की जिम्मेदारी एनजीओ को दी गई है। अब ट्रंचिंग ग्राउंड पर कचरा नहीं फेका जाएगा। स्वच्छता सर्वेक्षण के तहत जागरुकता कार्यक्रम चला रहे हैं। जहां गंदगी है, बता दें, हम सेनेटरी इंस्पेक्टर को बता देंगे।
अभिषेक मालवीय, इंजीनियर स्वच्छता सर्वेक्षण
- कुछ दिन से दो कचरा वाहन खराब हैं, इससे पहले डीजल की समस्या थी। शहर में अब सफाई नियमित कराई जा रही है।
शशिकांत, सेनेटरी निरीक्षक नपा
----------------------------
ट्रंचिंग ग्राउंड में उलझा स्वच्छता अभियान
ट्रंचिंग ग्राउंड में उलझा स्वच्छता अभियान
ट्रंचिंग ग्राउंड में उलझा स्वच्छता अभियान

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.