scriptSingle use plastic seen even after the ban | प्रतिबंध के बाद भी नजर आई सिंगल यूज प्लास्टिक | Patrika News

प्रतिबंध के बाद भी नजर आई सिंगल यूज प्लास्टिक

दुकानों पर सिंगल यूज प्लास्टिक का बेरोकटोक तरीके से उपयोग होता रहा

रायसेन

Updated: July 02, 2022 12:35:36 am

बरेली. सरकार ने भले ही एक जुलाई शुक्रवार से सिंगल यूज प्लास्टिक सहित 19 आइटम पर प्रतिबंध लगा दिया है। मगर स्थानीय प्रशासन के अधिकारी इस आदेश का पालन नहीं करवा रहे। यही वजह है कि प्रतिबंध के पहले दिन एक जुलाई को ही नगर में सब्जी, फल सहित अन्य दुकानों पर सिंगल यूज प्लास्टिक का बेरोकटोक तरीके से उपयोग होता रहा। जिम्मेदारों ने बाजार पहुंचकर यह देखना जरूरी नहीं समझा कि 100 माइक्रोन से कम की मोटाई वाले प्लास्टिक आयटमों सहित सिंगल यूज पॉलिथीन की बाजार में उपलब्धता है या नहीं। सरकार के प्रतिबंध का किस हद तक लोग पालन कर रहे।

दुकानों पर सिंगल यूज प्लास्टिक का बेरोकटोक तरीके से उपयोग होता रहा
प्रतिबंध के बाद भी नजर आई सिंगल यूज प्लास्टिक

सबको समझाइश देकर भूले जिम्मेदार, पहले दिन ही प्रतिबंध दिखा बेअसर
रायसेन. केंद्र सरकार के पर्यावरण वन एवं जलवायु मंत्रालय ने एक जुलाई से सिंगल यूज प्लास्टिक सहित सौ माइक्रोन के लगभग 20 प्लास्टिक आयटमों को प्रतिबंधित कर दिया है। इसके लिए एक दिन पहले जिला मुख्यालय पर व्यापारियों की बैठक आयोजित कर समझाइश देने की रस्म अदायगी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड एवं नपा के अधिकारी कर चुके हैं। मगर शुक्रवार को पहले दिन एक जुलाई को प्रतिबंध का असर रायसेन शहर के बाजार में कहीं दिखाई नहीं दिया। सब्जी, फल-फू्रट सहित किराना दुकानों एवं अन्य प्रतिष्ठानों पर सौ माइक्रोन के कम की पॉलिथीन का उपयोग बेरोकटोक होता रहा।

इसकी निगरानी करने के लिए नगर पालिका से कोई भी अधिकारी, कर्मचारी नहीं पहुंचा। ऐसे में दुकानदारों ने भी सरकार के आदेश की परवाह नहीं की और पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले प्लास्टिक में सामग्री पैक करके देते रहे। जबकि गुरुवार को नपा के सभाकक्ष में हुई बैठक में अधिकतर व्यापारियों ने अधिकारियों को अपने विचारों से अवगत कराने के बाद सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग नहीं करने की बात कही थी। मगर प्रतिबंध के पहले दिन ही इसका पालन जिला मुख्यालय पर होता नहीं दिखा।

ये उत्पाद किए बैन
जो उत्पाद बैन किए गए, उनमें प्लास्टिक की डंडियों वाले ईयर बड, बलून स्टिक, प्लास्टिक के झंडे, लॉलीपॉप की डंडी, आइसक्रीम की डंडी, थर्माकोल के सजावटी सामान, प्लेट्स, कप, गिलास कांटे, चम्मच, चाकू, स्ट्रॉ, ट्रे, मिठाई के डिब्बे पर लगने वाली पन्नी, निमंत्रण पत्र, सिगरेट पैकेट, 100 माइक्रोन से कम मोटाई वाले प्लास्टिक और पीवीसी बैनर आदि शामिल हैं। जगह-जगह नालियों में पॉलिथीन ठसी पड़ी रहती है। कचरे में भी प्लास्टिक की थैलियां जमीन के अंदर धंसने के बाद भी नहीं गलती। इस तरह की प्लास्टिक के अंदर जो रसायन होते हैं, उनका मानव के स्वास्थ्य और पर्यावरण पर काफी बुरा असर पड़ता है। प्लास्टिक की वजह से मिट्टी का कटाव काफी होता है। इसके अंदर का केमिकल जलाशयों में जाता है, जो बेहद खतरनाक हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Gujarat News: जामनगर के होटल में लगी भयानक आग, स्टाफ सहित 27 लोग थे मौजूद, सभी सुरक्षितत्रिपुरा कांग्रेस विधायक सुदीप रॉय बर्मन पर जानलेवा हमला, गंभीर रूप से हुए घायलबांदा में यमुना नदी में डूबी नाव, 20 के डूबने की आशंकाCM अरविंद केजरीवाल ने किया सवाल- 'मनरेगा, किसान, जवान… किसी के लिए पैसा नहीं, कहां गया केंद्र सरकार का धन'SCO समिट में पीएम मोदी के साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की हो सकती है बैठकबिहारः 16 अगस्त को महागठबंधन सरकार का कैबिनेट विस्तार, 24 को फ्लोर टेस्ट, सुशील मोदी के दावे को नीतीश ने बताया बोगसझारखंड BJP ने बिहार के नए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को गिफ्ट में भेजा पेन, कहा - '10 लाख नौकरी देने वाली फाइल पर इससे करें हस्ताक्षर'Karnataka High Court: एक्सीडेंट में माता-पिता की मौत होने पर विवाहित बेटियां भी मुआवजे की हकदार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.