जिले में कहीं पचास मीटर तो कहीं ७० मीटर खिसका भू-जल स्तर

जिले में कहीं पचास मीटर तो कहीं ७० मीटर खिसका भू-जल स्तर

chandan singh rajput | Updated: 27 Apr 2019, 02:04:04 AM (IST) Raisen, Raisen, Madhya Pradesh, India

जल स्रोत सूख रहे हैं, वहीं भू-जल स्तर भी तेजी से गिरता जा रहा है

रायसेन. दिनों दिन बढ़ती गर्मी मानो हर दिन अपनी आक्रामकता दिखा रही है और इससे सिर्फ आमजन ही परेशान नहीं हैं, इससे एक ओर जहां जल स्रोत सूख रहे हैं, वहीं भू-जल स्तर भी तेजी से गिरता जा रहा है। आलम ये है कि मौजूदा समय में शहर का भू-जल स्तर कहीं ५० मीटर तो कहीं पर 70 मीटर तक गिर चुका है। शहर में मुख्यमंत्री जलावर्धन योजना से पानी सप्लाई बमुश्किल 25 मिनट तक ही हो पा रही है, साथ ही कम प्रेशर से नलों से पानी आ रहा।

तपन की स्थिति ये है कि अब लोगों के घरों में लगे बोर भी सूखने लगे हैं। जलसंकट गहराने से लोगों को 400 से 500 रुपए में टैंकर खरीद कर पानी का स्टॉक रखने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। शहर समेत जिले भर में तेजी से भू-जल स्तर खिसक रहा है। हालत यह है कि शहर में नपा के 6 ट्यूबवेल सहित लोगों के 180 निजी बोर सूख चुके हैं, जिससे अप्रेल महीने के तीसरे सप्ताह में ही पानी की किल्लत से बढऩे लगी है। बाकी नपा के बोर भी सूखने की कगार पर पहुंच सकते हैं।

हालांकि नगर पालिका द्वारा पर्याप्त मात्रा में पेयजल सप्लाई करने के प्रयास किए जा रहे हैं।
फिलहाल हलाली परियोजना से शहर में बिछी पाइप लाइन के नलों द्वारा पानी सप्लाई किया जा रहा है। माना के तीन बोर व शहर के अन्य जगहोंं के बोर सहित कुछ अधिग्रहण किए गए नलकूपों के जरिए लोगों को पानी उपलब्ध कराया जा रहा है। टैंकरों से भी जलसंकट प्रभावित झुग्गी बस्ती व मोहल्लों में भी पानी पहुंचाया जा रहा है।

निजी बोर मालिक गोपाल नामदेव, रमेश बाबू यादव, उम्मेद सिंह, दिनेश अग्रवाल ने बताया कि उनके प्रतिष्ठानों में लगे ट््यूबवेल एक माह पहले ही सूख चुके हैं। जरूरत पडऩे पर उन्हें पानी के टैंकर खरीदना पड़ रहा।

राइजिंग पाइप बढ़ा रहे
नपा की जल प्रदाय शाखा के प्रभारी युनुस खान, कन्हैया कुशवाह ने बताया कि सूखे हैंडपंपों को रिचार्ज कराने व कम पानी वाटर लेवल गिरने वोल हैंडपंपों मेेंं राइजिंग पाइप डालने के लिए मैकेनिक टीम द्वारा विशेष अभियान चलाया जा रहा है। शहर के मोहल्ले, कॉलोनियों, स्लम बस्ती एरिया में अभी तक 20 सूखे हैंडपंपों में राइजिंग पाइप की लाइन बढ़ा दी गई है। इसके अलावा एक वासर वाले कहीं दो वासर वाले सिलेंडर भी बदले जा रहे हैं, ताकि हैंडपंप आसानी से पानी दे सकें।

शहर में हरसंभव जलप्रदाय करने की कोशिशें लगातार जारी हैं। जल प्रभावित क्षेत्रों को चिन्हित कर टैंकरों के जरिए जल सप्लाई कराया जा रहा है। हैंडपंपों में राइजिंग पाइप, वॉशर, सिलेंडर फिट कर वाटर लेवल बढ़ाया जा रहा है। नपा के बोरों को रिजार्ज कराने की योजना बनाई है।
- ओमपाल सिंह भदौरिया, नपा सीएमओ।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned