दस वर्ष पहले हुआ था सर्वे, अब तक नहीं मिला आवास का लाभ

मात्र चार ग्रामवासियों को ही पीएम आवास योजना के तहत राशि प्राप्त हुई है

By: chandan singh rajput

Published: 06 Oct 2021, 01:02 AM IST

रायसेन. मंगलवार को जनसुनवाई में आए ग्रामीणों ने अपनी समस्याएं कलेक्टर अरविंद दुबे को बताई। इस दौरान बरेली तहसील के ग्राम पंचायत खंडराज के ढावला गांव से आए तीन दर्जन से अधिक ग्रामवासियों ने पटï्टा और पीएम आवास का लाभ दिलाने की मांग रखी। ग्रामीणों ने बताया कि वर्ष 2011 में किए गए सर्वे में 40 ग्रामीणों के नाम दर्ज थे। मगर इनमें से मात्र चार ग्रामवासियों को ही पीएम आवास योजना के तहत राशि प्राप्त हुई है। बाकी ग्रामीण आज भी कुटीर आवास के लिए परेशान हो रहे। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि सरपंच, सचिव द्वारा उनसे राशि की मांग की जाती है। आवेदन में बताया कि वर्ष 2017 में किए गए सर्वे लगभग 50 लोगों के नाम दर्ज होने के बाद भी उन्हें आज तक इसका लाभ नहीं मिल सका है। ग्रामवासी रामगोपाल, दौलत, रतन सिंह, नेपाल, रामप्रसाद, भागचंद, राजेश, मोहन सिंह, मनोज कुमार आदि ने कलेक्टर से इस समस्या का जल्द निराकरण कराने की मांग की है।

इसी तरह ग्राम खरगावली से आए मजदूर प्रदीप वंशकार ने कलेक्टर को आवेदन देकर बताया कि उसके पास अपना पक्का मकान नहीं है, जबकि उसका नाम प्रधानमंत्री आवास सूची में एक वर्ष पूर्व ही आ चुका है, लेकिन अब तक उसके खाते में राशि नहीं आई है। इस संबंध में कलेक्टर दुबे ने जिला पंचायत सीईओ पीसी शर्मा को प्रदीप वंशकार के आवेदन पर शीघ्र आवश्यक करने के निर्देश दिए।

साहब जमीन से कब्जा हटवा दो
सुल्तानपुर तहसील के ग्राम अजीतनगर निवासी नर्बदा प्रसाद उसकी कृषि भूमि से अतिक्रमण हटवाने की गुहार लगाई। आवेदन में नर्बदा प्रसाद ने बताया कि उसकी घानाकला में खेती की जमीन है। जिस पर 12 वर्ष से हद्यराम नामक व्यक्ति ने कब्जा कर रखा है। नर्बदा प्रसाद ने बताया कि हद्यराम से 12 साल पहले तीन लाख रुपए एकड़ में जमीन का सौदा कर २२ हजार रुपए बयाना लिया था, लेकिन बाकी रकम आज तक नहीं दी और ना ही जमीन की रजिस्ट्री करवाई। इसके बाद भी उसने जमीन पर कब्जा कर लिया। कलेक्टर दुबे ने पुलिस अधीक्षक को उक्त किसान के आवेदन पर जांच कराकर शीघ्र कार्यवाही करने के लिए कहा है। जनसुनवाई में विभिन्न समस्याओं को लेकर 105 आवेदन प्राप्त हुए, जिनका निराकरण करने के निर्देश कलेक्टर द्वारा अधिकारियों को दिए गए।

Show More
chandan singh rajput
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned