फसल बेच भुगतान को दौड़ रहा अन्नदाता, इन कतारों में कैसे करे शारीरिक दूरी का पालन

परेशान है अन्नदाता किसान

रायसेन। सरकारें चाहे कोई भी हो लेकिन अन्नदाता के हालात पर कोई बेहतर असर नहीं हो सका। उसे पहले अपनी खून पसीना से उगाई गई फसल को बेचने के लिए भटकना पड़ रहा फिर भुगतान के लिए एड़ियां रगड़नी पड़ती। कोरोना काल में भुगतान के नाम पर बैंक के सामने कई कई किलोमीटर की कतार लगवा दी जा रही बिना किसी शारीरिक दूरी के मानक का पालन कराये। ऐसे में भुगतान को तो भटक ही रहे, घर कोरोना संक्रमण भी लेकर गए तो कोई आश्चर्य नहीं।

दरअसल, किसान क्रय केंद्रों के बाद अब भुगतान के लिए किसानों को बैंकों के सामने लंबी लंबी लाइन कड़क धूप में लगानी पड़ रही। मंगलवार को रायसेन में ऐसा ही नजारा देखने को मिला। जिला सहकारी बैंक से किसानों को उनकी फसल का भुगतान मिलना है।

फसल बेच भुगतान को दौड़ रहा अन्नदाता, इन कतारों में कैसे करे शारीरिक दूरी का पालन

महामाया चौक ब्रांच से करीब छह हजार किसानों को यह भुगतान किया जाना है। मंगलवार को बैंक में इसके लिए टोकन बांटा जाना था। टोकन के लिए सैकड़ों किसान पहुंच गए। देखते ही देखते कई किलोमीटर लंबी लाइन लग गई। लाइन ऐसी की शारीरिक दूरी का पालन मुश्किल। जगह कम होने की वजह से भूखे प्यासे लाइन में लगे किसानों के लिए शारीरिक दूरी के नियम पालन का कोई उपाय नहीं। किसान बेचारे सुबह से शाम तक इसी हाल में भुगतान टोकन को खड़े रहे।

किसानों को जब टोकन बांटा गया तो स्थितियां और भयावह हो गई। टोकन लेने की जल्दी में कतार भी टूट गई।

किसानों का कहना है कि जिम्मेदारों को भुगतान का अन्य विकल्प देना चाहिए। यहां आकर शारीरिक दूरी बनाना संभव नहीं।

Show More
धीरेन्द्र विक्रमादित्य
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned