दो घंटे अस्पताल में दर्द से कराहती रही प्रसूता, नहीं मिला कोई डॉक्टर

दीवानगंज अस्पताल में बदइंतजामी और डॉक्टरों की लापरवाही उजागर, कलेक्टर ने दिया नोटिस

By: chandan singh rajput

Published: 04 Oct 2021, 01:02 AM IST

रायसेन/दीवानगंज. जिले के अस्पताल में बदइंतजामियां आए दिन उजागर हो रही हंै। एक ओर स्वास्थ विभाग द्वारा शत प्रतिशत सुरक्षित प्रसव के दावे किए जाते हैं, वहीं दूसरी ओर अस्पताल पहुंचने वाली प्रसूताओं को घंटों तड़पना पड़ता है। विशेषकर अवकाश के दिनों में जिले के अस्पतालों में डॉक्टर तो क्या नर्स तक नहीं मिलती हैं। ऐसा ही एक मामला रविवार को दीवानगंज प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र में सामने आया। जहां एक प्रसूता दो घंटे तक अस्पताल की बैंच पर पड़ी दर्द से कराहती रही, लेकन उसे देखने वाला कोई नहीं था। अस्पताल में पदस्थ तीन डॉक्टर और नर्स कोई नहीं था। जब बात मीडिया तक पहुंची और सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो कलेक्टर ने संज्ञान लिया और डॉक्टरों को शोकाज नोटिस जारी किए।

जानकारी के अनुसार दीवानगंज निवासी राजकुमारी पत्नी दौलतसिंह सहरिया को उसका पति और दादी शनिवार को भी अस्पताल लेकर पहुंचे थे, तब भी अस्पताल में कोई डॉक्टर नहीं मिला था। लगभग एक घंटा इंतजार के बाद परिजन उसे लेकर वापस चले गए। रविवार को सुबह 11 बजे जब राजकुमारी की प्रसव पीड़ा बढ़ी तो परिजन फिर उसे अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां दो घंटे इंतजार के बाद भी कोई डॉक्टर और नर्स नहीं मिले। महिला को तड़पता देख लोगों ने सोशल मीडिया पर वायरल किया। दीवानगंज अस्पताल में डॉ. अनिल माथुर, डॉ. पीके सेंगर तथा डॉक्टर दीप्ति भरद्वाज पदस्थ हंै। इनके अलावा दो स्टॉफ नर्स तथा एक और नर्स पदस्थ है। यह सारा स्टॉफ भोपाल से अपडाउन करता है। जो रविवार को आते ही नहीं हैं। बाकी दिनों में एक या दो डॉक्टर और एक-दो नर्स अस्पताल आते हैं। वह भी १२ बजे आकर शाम चार बजे से पहले चले जाते हैं।

हड़कंप मचा तो पहुंचे बीएमओ
जब मामले का हड़कंप प्रशासन और स्वास्थ विभाग के अधिकारियों तक मचा तो कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने सीएमएचओ डॉ. दिनेश खत्री को जांच के निर्देश देते हुए महिला को तत्काल इलाज उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। सीएमएचओ ने सांची से बीएमओ को दीवानगंज भेजा। महिला की जांच कर जरूरी दवाएं देकर घर भेजा गया।
डॉक्टरों को नोटिस नसों पर भी कार्रवाई
सीएमएचओ डॉ. खत्री ने बताया कि दीवानगंज अस्पताल में कोई भी चिकित्सक उपस्थित नहीं था, जिसका पंचनामा बनवाया गया। अनुपस्थित डॉक्टरों को कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया गया है, तथा शासन के नियमानुसार संबंधितों के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही हेतु वरिष्ठ कार्यालय को लिखा जा रहा है। साथ ही दो स्टॉफ नर्स और एक अन्य नर्स के विरुद्ध भी कार्रवाई की जा रही है।

Show More
chandan singh rajput
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned