आमजन के लिए परेशानी का सबब बनी चिल्लर, खरीदारी हुई मुश्किल

आमजन के लिए परेशानी का सबब बनी चिल्लर, खरीदारी हुई मुश्किल

chandan singh rajput | Publish: May, 20 2019 02:04:04 AM (IST) Raisen, Raisen, Madhya Pradesh, India

कई दुकानदार, फुटकर व्यवसायी, पेट्रोल पम्प संचालक आमजनों से सिक्के लेने से साफ तौर पर इंकार कर रहे हैं

गैरतगंज. भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा एक, दो, पांच एवं दस के सिक्के वर्तमान में प्रचलन में हैं, लेकिन यह सिक्के आमजन के लिए परेशानियों का कारण बने हुए हैं। गैरतगंज क्षेत्र में इन दिनों ऐसे ही कई मामले सामने आ रहे हैं, जिसमे मुख्यालय के कई दुकानदार, फुटकर व्यवसायी, पेट्रोल पम्प संचालक एवं अन्य दुकानदार आमजनों से सिक्के लेने से साफ तौर पर इंकार कर रहे हैं, जिसके चलते आमजनों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

गौरतलब है कि लगभग दो साल पहले जहां चिल्लर के अभाव के चलते इनकी खूब पूछ परख होती थी तथा चिल्लर के लिए व्यापारियों द्वारा बैंक को आवेदन तक देना पड़ता था, लेकिन आज के समय में यही चिल्लर की अधिकता आमजन के लिए परेशानी का सबब बनी हुई है। लोग छोटे मोटे समान खरीदने के लिए दुकानदार 10 रुपए से ऊपर का ही नोट स्वीकार करते हैं। यदि ग्राहक 1 से 10 रुपए तक के सिक्के देकर सामान लेने का प्रयास करता है, तो उसे सामान देने से इंकार कर दिया जाता है।

यह मामले नगर के बस स्टैंड स्थित होटल, ढाबों, रेस्टोरेंट, किराने की दुकान, फल सब्जी बाजार सहित अन्य थोक एवं फुटकर दुकानों पर अक्सर देखने मिल रहे हैं। ग्राहक के रूप के पहुंचे क्षेत्र के कमलकान्त गौर, दीपेश गौर, मनोहरलाल, रामकुमार गुर्जर, रामगोपाल कुशवाह, मीरा बाई सहित अन्य ने बताया कि दुकानदार उनके बड़े नोट के बदले चिल्लर थमा देते हैं पर उनसे किसी भी तरह की चिल्लर नहीं लेते। ऐसे में उपभोक्ता समान नहीं मिलने एवं चिल्लर मिलने की दोहरी मार से पीडि़त हैं।

नियमों का उल्लंघन
ग्राहकों द्वारा जब नियम कायदे बताए जाते हैं तो बमुश्किल उनसे एक-दो सिक्के ले लिए जाते हैं, लेकिन बाकी राशि नोटों में ही स्वीकार की जाती है। आरबीआई के नियमानुसार कोई भी किसी भी सामग्री के बदले किसी भी रूप में उपलब्ध भारतीय मुद्रा लेने से इनकार नहीं कर सकता, यदि कोई ऐसा करता है तो यह भारतीय मुद्रा का अपमान होता है तथा इसके लिए कठोर कार्रवाई का प्रावधान भी है।

रिजर्व बैंक के आदेशानुसार सिक्के लेने से इंकार नहीं किया जा सकता। ऐसा करने वाले दुकानदारों पीआर कानूनी कार्रवाई नियत है। ऐसी शिकायत प्राप्त होती है तो निश्चित ही कार्रवाई की जाएगी।
- मोहिनी शर्मा, एसडीएम गैरतगंज

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned