scriptuma bharti someshwar dham temple in raisen fort | शिवजी को जल चढ़ाने गई उमा के लिए नहीं खुले मंदिर के ताले, नाराज उमा का ऐलान- ताले खुलने तक अन्न ग्रहण नहीं करेंगी | Patrika News

शिवजी को जल चढ़ाने गई उमा के लिए नहीं खुले मंदिर के ताले, नाराज उमा का ऐलान- ताले खुलने तक अन्न ग्रहण नहीं करेंगी

रायसेन किले के चारों तरफ पुलिस की किलेबंदी...। भाजपा कार्यकर्ताओं को नहीं जाने दिया तो शुरू किया भजन कीर्तन...।

रायसेन

Updated: April 11, 2022 01:11:15 pm

रायसेन। पूर्व सीएम उमा भारती सोमवार को रायसेन किले में स्थित सोमेश्वर धाम मंदिर में जल चढ़ाने पहुंची, लेकिन उनके लिए मंदिर के ताले नहीं खोले गए। इससे नाराज उमा भारती ने मंदिर में ही ऐलान किया है कि जब तक मंदिर के ताले नहीं खुलेंगे मैं अन्न ग्रहण नहीं करूंगी।

uma11.jpg

पिछले कुछ दिनों पहले ही कथा वाचक पंडित प्रदीप मिश्रा ने रायसेन किले में स्थित सोमेश्वर धाम मंदिर के ताले खुलवाने की मांग की थी। इसके बाद उमा भारती ने ऐलान किया था कि वे 11 अप्रैल सोमवार को जल चढ़ाने जाएंगी, लेकिन कानूनी अड़चनों के कारण उमा को मंदिर तक तो जाने दिया, लेकिन ताले नहीं खोले गए। उमा ने मंदिर के बाहर से ही पूजा-अर्चना की।

यह मेरा निजी फैसला

मंदिर से लौटने के बाद उमा ने अपने समर्थकों को संबोधित किया। उमा ने कहा कि अन्न छोड़ने का निर्णय पूरी तरह मेरा निजी मामला है। यह राज्य, केंद्र सरकार या प्रशासन पर दबाब बनाने के लिए नहीं। अन्न छोड़ने का निर्णय निजी स्वार्थ और स्वयं को खुश रखने के लिए लिया है।

इससे पहले, पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती सोमवार को सुबह रायसेन किले पर पहुंच गई। उन्होंने घोषणा की थी कि वे नवरात्रि के बाद के पहले सोमवार को शिवालय में जल चढ़ाएंगी। उमा के रायसेन पहुंचने से पहले भी प्रशासन अलर्ट हो गया था। किले के आसपास भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया था। वहीं एक दिन पहले जिला प्रशासन ने नियमों का हवाला देते हुए मंदिर का ताला खोलने से इनकार कर दिया था।

यह भी पढ़ेंः

कई दशकों से ताले में बंद हैं शिव, साल में एक दिन खुलता है मंदिर, जानिए क्यों विवादित है यह स्थान

पूर्व सीएम उमा भारती सोमवार को सुबह रायसेन पहुंची, जहां उन्होंने प्रशासन के लोगों के साथ रायसेन किले पर चढ़ाई की। वे शिवालय में जल चढ़ाना चाहती थीं। उमा के मुताबिक मान्यता है कि नवरात्रि के बाद के पहले सोमवार को शिवजी का जलाभिषेक करना चाहिए। उमा अपने साथ गंगोत्री से लाया हुआ गंगाजल लेकर पहुंची हैं। वे रायसेन किले में स्थित सोमेश्वर धाम में जल चढ़ाने पहुंची हैं। उमा ने ट्वीट पर कहा था कि वे राजा पूरणमल, उनकी पत्नी रत्नावली, दोनों बेटे व बेटी और सैनिकों का तर्पण करूंगी। अपनी अज्ञानता के लिए क्षमा मांगूंगी।

सर्किट हाउस पहुंची उमा

इससे पहले उमा भारती सुबह रायसेन के सर्किट हाउस पहुंची, जहां पहले से मौजूद स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने उनकी अगवानी की। इसके बाद उमा भारती पहाड़ी पर स्थित किले पर चढ़ा करने के लिए रवाना हो गई। यहां कुछ अधिकारियों के साथ उमा किले पर रवाना हुई। इस दौरान मीडिया को जाने की अनुमति नहीं दी गई। खबर लिखे जाने तक किले के गेट तक भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया था। इधर, पहाड़ी के नीचे कई भाजपा कार्यकर्ता मौजूद थे, जिन्हें भी किले पर जाने की अनुमति नहीं दी गई। इस दौरान सभी कार्यकर्ता भजन कीर्तन करते रहे।

raisen.jpg

प्रशासन ने कहा- हम नहीं खोल सकते मंदिर

उमा के रायसेन आने से पहले जिला प्रशासन पशोपेश में है, वो ताला खोलने को लेकर कोई निर्णय नहीं ले पाया है। जिला प्रशासन ने उमा भारती को बताया है कि रायसेन का किला एवं उसमें स्थित शिव मंदिर केन्द्रीय पुरातत्व विभाग भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अधीन है। मंदिर का गर्भगृह केन्द्रीय पुरातत्व विभाग द्वारा सिर्फ महाशिवरात्रि पर खोला जाता है। शेष दिनों में यह बंद रहता है। रोजाना निर्धारित समय में दर्शक/पर्यटक दरवाजे के बाहर से शिवलिंग एवं अन्य पुरातात्विक महत्व की संरचनाओं का अवलोकन कर सकते हैं। जिला प्रशासन एवं राज्य शासन द्वारा शिव मंदिर के गर्भगृह को खोलने का निर्णय नहीं लिया जा सकता है। जिला प्रशासन ने पूर्व मुख्यमंत्री के 11 अप्रेल के प्रवास के संबंध में केन्द्रीय पुरातत्व विभाग को अवगत कराया है। केन्द्रीय पुरातत्व विभाग यदि अनुमति दे देता है तो जिला प्रशासन तत्काल उमा भारती को अवगत कराएगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

DGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थाकर्नाटक के सबसे अमीर नेता कांग्रेस के यूसुफ शरीफ और आनंदहास ग्रुप के होटलों पर IT का छापाPM Modi in Gujarat: राजकोट को दी 400 करोड़ से बने हॉस्पिटल की सौगात, बोले- 8 साल से गांधी व पटेल के सपनों का भारत बना रहापंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतेंई-कॉमर्स साइटों के फेक रिव्यू पर लगेगी लगाम, जांच करने के लिए सरकार तैयार करेगी प्लेटफॉर्मMenstrual Hygiene Day 2022: दुनिया के वो देश जिन्होंने पेड पीरियड लीव को दी मंजूरी'साउथ फिल्मों ने मुझे बुरी हिंदी फिल्मों से बचाया' ये क्या बोल गए सोनू सूदभाजपा प्रदेश अध्यक्ष का हेमंत सरकार पर बड़ा हमला, कहा - 'जब तक सत्ता से बाहर नहीं करेंगे, तब तक चैन से नहीं सोएंगे'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.