दसवीं पास युवक यूट्यूब से सीखकर छाप रहा था नकली नोट, 54 लाख के नकली नोट जब्त

इंदौर का नरेश भिलाई में बैठकर चला रहा था नकली नोट बनाने की फैक्ट्री..2017 से छाप रहा है नकली नोट...

By: Shailendra Sharma

Published: 18 Jul 2021, 07:06 PM IST

राजगढ़. राजगढ़ पुलिस ने नकली नोटों का कारोबार करने वाले एक बड़े गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने गिरोह के चार सदस्यों को पकड़ा है और इनके पास से करीब 54 लाख रुपए के नकली नोट जब्त किए गए हैं। गिरोह का सरगना नरेश नाम का युवक है जो कि मूलत: इंदौर का रहने वाला है लेकिन छत्तीसगढ़ के भिलाई में रहकर नकली नोटों की फैक्ट्री चला रहा था। आरोपी नरेश पहले भी नकली नोटों के कारोबार में पकड़ा जा चुका है। जब्त किए गए नकली नोट बिलकुल असली नोटों की तरह लगते हैं जिससे कि कोई भी इन्हें देखकर धोखा खा सकता है।

ये भी पढ़ें- कुंभ में मिली महिलाएं भेज रहीं अश्लील वीडियो, कहती हैं तुम भी भेजो वरना...

photo_2021-07-18_18-24-38.jpg

दसवीं पास नकली नोटों का 'नरेश'
साल 2003 में इंदौर पुलिस ने नकली नोट की सप्लाई के आरोप में जिस नरेश कुमार को पकड़ा था उसे एक बार फिर राजगढ़ पुलिस ने छत्तीसगढ़ के भिलाई से नकली नोट बनाने की फैक्ट्री के साथ गिरफ्तार किया है। आरोपी 2017 में इंदौर छोड़कर भिलाई में रह रहा था और यही पर रहकर उसने इस काले कारोबार की शुरुआत की जो लगातार जारी था। पुलिस की मानें तो आरोपी अब तक 50 लाख से भी ज्यादा के नकली नोट बाजार में खफा चुके हैं। नकली नोटों की फैक्ट्री चलाने वाला नरेश महज दसवीं पास है।

ये भी पढ़ें- कांग्रेस विधायक के बेटे पर 5 हजार रुपए का इनाम, जानिए मामला

photo_2021-07-18_18-26-11.jpg

घर में छाप रहा था नकली नोट
नकली नोटों के इस बड़े गिरोह का पर्दाफाश करते हुए एसपी प्रदीप शर्मा ने बताया कि बीते दिनों जीरापुर पुलिस ने सुसनेर के दो आरोपी शंकर और रामचंद्र को लगभग डेढ़ लाख रुपए के नकली नोटों के साथ गिरफ्तार किया था। आरोपियों ने पूछताछ में पुलिस को बताया था कि भिलाई में रहने वाले नरेश नाम के शख्स ने उन्हें ये नकली नोट सप्लाई किए थे। इस सूचना पर पुलिस ने छत्तीसगढ़ पुलिस की मदद से भिलाई में नरेश के ठिकाने पर दबिश दी जहां से नरेश को गिरफ्तार किया है। नरेश घर पर ही नकली नोट छापने की फैक्ट्री चला रहा था। पुलिस को उसके पास से करीब 54 लाख रुपए के नकली नोट मिले हैं जिनमें 100, 200, 500, 2000 के नोट हैं। शुरुआती पूछताछ में ये भी जानकारी मिली है कि ये नोट आरोपी ने तमिलनाडू के एक शख्स के कहने पर छापे थे और 13 लाख रुपए के बदले 54 लाख रुपए के नकली नोट उसे
देना तय हुआ था। नरेश के साथ उसके एक साथी कमल यादव को भी पुलिस ने पकड़ा है जो कि आगर का रहने वाला है और नकली नोटों की सप्लाई के लिए ग्राहकों की तलाश करता था।

ये भी पढ़ें- अपनों ने 1 लाख रुपए में बेचा, इंसाफ के लिए महीनों से गुहार लगा रही युवती, जानिए पूरा मामला

photo_2021-07-18_18-26-23.jpg

यू-ट्यूब से सीखकर बना रहे थे चमचमाते नकली नोट
आरोपी नरेश ने पुलिस को बताया है कि नकली नोट तैयार करने का तरीका उसने यूट्यूब के माध्यम से सीखा। उसके बाद विभिन्न तरह की मशीन भी तैयार की और कागज से लेकर आरबीआई की चमकीली सीरीज भी तैयार की, जो असली नोट के बीच में लगाई जाती है। ताकि नकली नोट भी असली नोट की तरह ही नजर आए। आरोपी के पास से 5 प्रिंटर, 1 लैपटॉप, 1 एलईडी मॉनिटर, 1 सीपीयू, नकली नोट बनाने की फ्रेम, वाटर मार्क फ्रेम और 5 स्पेशल इंक बरामद हुई हैं। ये भी पता चला है कि आरोपी अभी तक 50 लाख रुपए से ज्यादा के नकली नोट मार्केट में चला चुके हैं।

देखें वीडियो- हाइवे किनारे बैठकर आराम फरमाता रहा तेंदुआ

Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned