एक मार्च के बाद जिले में आए श्रमिकों का होगा सबंल पंजीयन

राशन, बिजली के साथ मिलेगा बीमा
संबल योजना के तहत २7 मई से 4 जून तक होगा सर्वे, ग्राम पंचायतों में सचिव-जीआरएस, नपा में सीएमओ-वाड प्रभारी करेंगे काम

By: Rajesh Kumar Vishwakarma

Published: 27 May 2020, 06:00 AM IST

ब्यावरा.कोरोना संक्रमण काल में ही प्रदेश में हुए सत्ता परिवर्तन के बाद कुछ व्यवस्थाओं में भी बदलाव हुए हैं। इसके तहत बाहर राज्यों, शहरों से आए मजूदरों के अब संबल योजना के तहत पंजीयन किए जाएंगे। जिले में 01 मार्च के बाद आए श्रमिकों, मजदूरों के पंजीयन के लिए 27 मई से 04 जून तक पंजीयन किए जाएंगे।
दरअसल, पलायन के बाद अपने वतन (घर) लौटे मजदूरों के सामने रोजगार का टोटा है। उन्हें काम दिलवाने परे मनरेगा शुरू की गई लेकिन जमीनी स्तर पर उसमें भी मनमाना भ्रष्टाचार है। वहीं, अब मुफ्त में राशन, दो सौ रुपए माह की बिजली और मृत्योपरंात मिलने वाले बीमा को लेकर संबल योजना के पोर्टल पर पंजीयन किया जा रहा है। इसके लिए ग्राम पंचायत स्तर पर सचिव, ग्राम रोजगार सहायक और नगरीय निकाय स्तर पर सीएमओ व वार्ड प्रभारी यह सर्वे करेंगे। संबंधित मजदूर, श्रमिक से पूछा जाएगा कि आप कहां काम करते थे, पंजीयन है या नहीं? यदि उसी राज्य का पंजीयन उनके पास होगा तो उसे अपडेट किया जाएगा, साथ ही नए सिरे से भी पंजीयन किए जाएंगे।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री जनकल्याण संबल योजना के तहत पांच हजार रु. की अंत्येष्टि सहायता, दो लाख का बीमा सामान्य मृत्यु पर, एक्सीडेंट पर चार लाख, बकाया बिजली बिल माफी, सरल बिजली बिल, अनुगृह सहायता योजना सहित अन्य योजनाओं के जरिए लाभ मिलने का दावा है।
हकीकत : पहले से पंजीकृतों को लाभ नहीं मिला, बिल भी पूरे
वर्ष-2018 में शुरू हुई उक्त योजना को कमलनाथ सरकार ने बंद कर दिया था। अब फिर से यह चालू की गई है। हालांकि अभी वर्तमान में जिन मजूदरों का पंजीयन किया जा रहा है उनकी मदद के दावे किए जा रहे हैं। लेकिन पहले से पंजीकृत श्रमिक, मजदूरों को भी इसका लाभ आज दिनांक तक नहीं मिल पाया। यहां तक कि बिजली बिलों में भी कोई छूट नहीं मिली। अभी भी मनमाने बिल आ रहे हैं। ऐसे में मजदूरों को पंजीयन के नाम पर राहत देने वाले जिम्मेदार उनकी मूल जरूरतें अभी भी पूरी नहीं कर पा रहे हैं।
27 से करना है सर्वे
संबल योजना में बाहर से आए हुए मजदूरों के पंजीयन किए जाने हैं। यह 27 मई से 4 जून तक सर्वे किया जाएगा। इसके बाद उन्हें मुख्यमंत्री संबल योजना के तहत आने वाला लाभ मिलेगा।
-इकरार अहमद, सीएमओ, नपा, ब्यावरा

Rajesh Kumar Vishwakarma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned