सोने के सिक्के की अफवाह के बाद नदी की खुदाई में जुट गया पूरा गांव

पार्वती नदी को खोद रहे हैं ग्रामीण, शिवपुरा गांव के पास नदी में ग्रामीणो ने की खुदाई

By: Hitendra Sharma

Published: 09 Jan 2021, 08:33 AM IST

राजगढ. कुरावर से कुछ ही दूरी पर स्थित शिवपुरा और गणूपुरा में पार्वति नदी से सोने के सिक्के निकलने की अफ वाह कुछ इस तरह फैली कि लोगों ने नदी को ही खोदना शुरू कर दिया। देखते ही देखते एक के बाद एक गांव के सैकड़ों लोग नदी खोदने के लिए पहुंच गए। मामले की जानकारी जब राजस्व विभाग को लगी तो वहां पटवारी भी देखने के लिए पहुंचे। लेकिन वहां सिक्के वगैरा तो नहीं मिले। गांव के लोग बड़ी संख्या में खुदाई करते हुए जरूर नजर आए।

शिवपुरा गांव सीहोर और राजगढ़ जिले की सीमा पर स्थित है। पार्वती नदी इन दोनों जिलों को काटती है। पांच दिन पहले कुछ इस तरह की सूचना ग्रामीणों को लगी कि, नदी में कुछ सोने-चांदी के सिक्के निकल रहे हैं। यह अफवाह थी या हकीकत पता नहीं। लेकिन एक के बाद एक गांव के लोग पार्वती नदी में सोने के सिक्के को खोजने के लिए निकलने लगे। पिछले पांच दिन से यहां बड़ी संख्या में लोग जमे हुए हैं। जिनमें बड़े, बच्चे और ेहिलाएं सभी अलग-अलग जगह वह नदी को खोदते हुए नजर आए। बता दें कि सूचना के बाद सीहोर पुलिस भी पहुची थी जांच करने।

मुगलकालीन सिक्के मिलने की थी सूचना
बता दें कि पार्वती नदी के किनारे ही कुरावर के पास नाना साहब मराठा राजा की समाधि है, वहीं इस रास्ते से मुगल भी निकले थे। ऐसे में जब ग्रामीणों को सूचना लगी कि नदी में 8 से 10 तक की संख्या मुगलकालीन समय के मिले हैं। जिसके बाद यह अफ वाह मानो पूरे क्षेत्र में फैल गई और लोग नदी खोदने लगे। इसके बाद पुलिस और राजस्व का अमला भी मौके पर देखने पहुंचा। लेकिन ग्रामीण काफ ी खुदाई करने के बाद भी नहीं समझे।

नायक तहसीलदार कुरावर विकास रघुवंशी ने बताया कि सूचना मिली थी कि वहां पर आठ दस ऐसे सिक्के मिले हैं, जो पुराने जमाने के हैं। इसलिए ग्रामीण वहां नदी में खुदाई कर रहे हैं। पुलिस और राजस्व की टीम वहां पहुंची थी, लेकिन वहां ऐसा कुछ मिला नहीं। ग्रामीण पता नहीं क्यों खुदाई कर रहे हैं। हम इस संबंध में भी जांच कर रहे हैं कि सिक्के मिले तो किसको मिले हैं।

सरपंच ग्राम पंचायत शिवपुरा कालूराम वर्मा के अनुसार सिक्के मिलने की सूचना थी उसके बाद गांव के एक एक घर से लोग निकलने लगे और नदी में खुदाई कर रहे हैं। लेकिन मुझे भी समझ नहीं आ रहा कि सिक्के किस को मिले और क्यों लोग खोद रहे हैं।

Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned