किसानों से बैंक ने 14 की जगह 20 प्रतिशत तक वसूला ब्याज, जांच जारी

किसानों से बैंक ने 14 की जगह 20 प्रतिशत तक वसूला ब्याज, जांच जारी

Deepesh Tiwari | Updated: 11 Jul 2019, 02:38:34 PM (IST) Rajgarh, Rajgarh, Madhya Pradesh, India

यहां शासन के नहीं सीसीबी खुद के चलाती है अपने नियम ...

राजगढ़। प्रदेश सरकार द्वारा शून्य प्रतिशत पर किसानों को ऋण उपलब्ध कराते हुए खेती को लाभ का धंधा बनाने का संकल्प लिया था। साथ ही किसानों की आय को दोगुना किया जाए।

इस पर भी विशेष ध्यान दिया गया, लेकिन ऐसे किसान जो ऋण को चुका नहीं पाए उनसे नियमानुसार तो अधिकतम 14 प्रतिशत तक ब्याज लिया जा सकता था। लेकिन सीसीबी बैंक की संस्थाओं ने इस ब्याज को एक या दो प्रतिशत नहीं बल्कि 6 प्रतिशत तक ज्यादा वसूला है।

यह खुलासा उस समय हुआ जब छापीहेड़ा ब्रांच से जुड़ी छह सोसाइटियों की जांच सहकारिता द्वारा की जा रही है।

हाल ही में सीसीबी में हुई गड़बड़ी का एक बड़ा मामला सामने आया। इसमें करीब छह करोड़ रुपए जिन किसानों की प्रीमियम काटी गई उनके स्थान पर अन्य किसानों के खातों में राशि डाल दी गई।

इसकी शिकायत के बाद सहकारिता विभाग के ऑडिटर द्वारा जांच की जा रही है। इसी जांच के दौरान एक और बड़ा घोटाला उजागर हुआ। बताया जा रहा है कि किसानों से लिए जाने वाले ब्याज को बढ़ाकर सोसाइटियों द्वारा यह लिया जाता रहा। यह राशि करोड़ों में बताई जा रही है।


मुरैना में सस्पेंड हो चुके सीईओ
इस पूरे मामले की जांच पुष्पेन्द्र कुशवाह सहायक उपायुक्त सहकारी समितियां द्वारा की जा रही है। कुछ इसी तरह का मामला मुरैना में भी सामने आया था। उसे कुशवाह ने उजागर किया था, इसके बाद सीईओ सहकारिता मुरैना श्योपुर को निलंबित करते हुए जांच शुरू की गई। यह मामला फरवरी का था।

जांच उजागर हुई तो हो गया ट्रांसर्फर
किसानों के साथ धोखाधड़ी से अधिक ब्याज वसूलना और जिन किसानों के खाते में बीमा राशि जानी थी। उनके खातों में न डालते हुए अन्य खातों में उसे ट्रांसर्फर कर देने का बड़ा मामला उजागर करने वाले जांच अधिकारी पुष्पेन्द्र कुशवाह का स्थानांतरण हो चुका है। ऐसे में सवाल उठता है कि किसानों के साथ हो रही लूट का मामला सामने आने के बाद धोखेबाजों पर एफआइआर होनी चाहिए या फिर जांच अधिकारियों के स्थानांतरण।

ओवरड्यू होने पर लिया जाता है ब्याज
बैंक द्वारा किसानों को केसीसी शून्य प्रतिशत पर दी जाती है। साल में दो बार इसकी अलटी-पलटी करानी होती है। यदि किसान ओवरड््यू हो जाए तो फिर ब्याज लगता है। इसमें 11 प्रतिशत तक बैसिक ब्याज और बैंक चाहे तो तीन प्रतिशत तक दंड ब्याज के रूप में ले सकती है। लेकिन सहकारी सोसाइटियों से जो ब्याज लिया गया। वह 18 से 20 प्रतिशत किसानों से लिया जा चुका है। यह राशि करोड़ों में आंकी जा रही है। फिलहाल इस पूरे मामले में जांच जारी है।

जांच की जा रही है...

वरिष्ठ कार्यालय द्वारा दिए गए निर्देशों पर जांच की जा रही है। इसमें यह बड़ी अनियमिता देखने को मिली। हजारों किसानों से निर्धारित ब्याज से ज्यादा ब्याज वसूला गया।
- पुष्पेन्द्र कुशवाह, सहायक उपायुक्त सहकारी समितियां राजगढ़

 

यह बड़ी अनियमितता है। किसानों के साथ इस तरह की लूट कतई बर्दाश्त नहीं होगी। जैसे ही पत्रिका के माध्यम से यह मामला सामने आया कलेक्टर मैडम से चर्चा करते हुए दोषियों से रिकवरी के साथ उनके खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने को लेकर कहा गया है। किसी भी दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा। यह पहले की सरकारें नहीं हैं।
- बापूसिंह तंवर, विधायक राजगढ़

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned