अब लहसुन पर किसानों को 800 रुपए प्रति क्विंटल का बोनस

अब लहसुन पर किसानों को 800 रुपए प्रति क्विंटल का बोनस

chandan singh rajput | Publish: Apr, 17 2018 01:58:24 PM (IST) Rajgarh, Madhya Pradesh, India

१६०० हो या इससे कम हर किसान को मिलेंगे ८०० रु. प्रति क्विंटल, शासन ने जारी किए निर्देश

राजगढ/ब्यावरा. किसी समय में सौ रुपए प्रति किलो से ऊपर बिकने वाले लहसुन के मार्केट में फिलहाल औने-पौने दाम हैं। शासन इसे अब भावांतर भुगतान योजना के तहत खरीदेगा और हर किसान को प्रति क्विंटल आठ सौ रुपए का बोनस मिलेगा।
दरअसल, लहसुन का समर्थन मूल्य 3200 रुपए प्रति क्विंटल रखा गया है। पहले अंदेशा लगाया जा रहा था कि 1600 से अधिक के भाव मिलने पर ही आठ सौ रुपए का बोनस मिलेगा, लेकिन शासन ने हाल ही में निर्देश जारी किए हैं कि 1600 से कम बिके या अधिक हर हाल में किसान को बोनस आठ सौ रुपए का मिलेगा। इसके अलावा प्याज को भावांतर की पुरानी शर्तों के हिसाब से ही खरीदा जाएगा। आठ रुपए किलो समर्थन मूल्य प्याज का तय है। मार्केट से मिलने वाले भाव का अंतर प्याज को मिलेगा। जल्द ही खरीदी केंद्रों पर लहसुन की खरीदी शुरू होने वाली है। पंजीकृत किसानों के खातों में यह बोनस सीधे पहुंच जाएगा।

आठ सौ बोनस में भी लागत नहीं निकल रही
वरिष्ठ किसानों के अनुसार लहसुन की पैदावार में प्रति हैक्टेयर ८० हजार रुपए का खर्च आता है। इसमें 12 हजार की बोवनी , कीटनाशक, खाद सहित गुड़ाई के 10 हजार, 12 हजार खुदाई और दोबारा कटाई के १२ हजार सहित करीब आठ क्विंटल बीज की बोवनी प्रतिहेक्टेयर में होती हैं, यानीं संभवता कुल ८० हजार रुपए खर्च आता है। अब यदि 800 का बोनस दिया जाए और प्रति क्विंटल तीन सौ रुपए किलो खरीदा भी जाए फिर भी एक हैक्टेयर के ६० क्विंटल पैदावार के हिसाब से ६६,००० रुपए की इनकम हो रही है। ऐसे में बोनस, भावांतर के बावजूद किसानों को लागत मूल्य भी नहीं मिल पा रहा। इससे शासन का यह प्रलोभन भी किसानों की उम्मीदों पर खरा उतरता नहीं दिखाई दे रहा।

पिछले साल से बढ़ा लहसुन का उत्पादन
रबी की मुख्य फसल में शामिल लहसुन का उत्पादन पिछले साल से इस बार बढ़ गया है। किसानों को औसत से बंपर पैदावार इस बार हुई है, लेकिन तीन से पांच रुपए किलो बिक रही लहसुन ने पूरा गणित किसानों का बिगाड़ दिया है। पिछले साल प्याज अधिक मात्रा में थे तो उन्हें भाव नहीं मिल पाया। किसानों ने पलटवार कर अधिक खर्च किया तो मार्केट ने उन्हें झटका दे दिया। सौ रुपए से अधिक प्रति किलो बिकने वाली लहसुन के इस बार बेहद कम भाव है, जिससे लागत भी नहीं निकल पा रही।
फैक्ट-फाइल
-५४५० में प्याज इस बार।
-५०५० में प्याज २०१७ में थे।
-४३०० मेें लहसुन इस बार।
-३००० में लहसुन २०१७ में थे।
(उद्यानिकी से प्राप्त जानकारी, आंकड़े हैक्टेयर में)


१६०० से कम हो या अधिक, किसी भी भाव में लहसुन बिके किसानों को आठ सौ रुपए प्रति क्विंटल का बोनस मिलेगा। भावांतर भुगतान योजना के तहत प्याज की भी खरीदी होना है,लेकिन उसके दायरे अभी सुनिश्चित नहीं है, भावांतर की तर्ज पर ही उसकी खरीदी होगी।
-आरएस गौर, सहकारिता पंजीयक, राजगढ़
प्याज और लहसुन को भावांतर भुगतान योजना के तहत ही खरीदा जाएगा। इसमें न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बिकने के बाद जो अंतर होगा वह प्याज के लिए लागू होगा। लहसुन किसी भी भाव में बिके इसके लिए आठ सौ रुपए प्रति क्विंटल का बोनस मिलेगा।
-आरके रावत, सचिव, कृषि उपज मंडी समिति, ब्यावरा

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned