scriptChild marriage took place in Rajgarh district | 10 साल का बच्चा बन गया दूल्हा, उससे भी कम उम्र की बालिका बनी वधू | Patrika News

10 साल का बच्चा बन गया दूल्हा, उससे भी कम उम्र की बालिका बनी वधू

महज 10 साल के बच्चे ने उससे भी कम उम्र की बालिका से शादी कर ली, ये जानकारी लगते ही प्रशासन में हड़कंप मच गया।

राजगढ़

Updated: April 29, 2022 12:17:24 pm

राजगढ़. जिले में जिन अफसरों पर बाल विवाह रोकने की जिम्मेदारी है, वे साते रह गए और महज 10 साल के बच्चे ने उससे भी कम उम्र की बालिका से शादी कर ली, ये जानकारी लगते ही प्रशासन में हड़कंप मच गया। जिले में बड़ी संख्या में बाल विवाह होते हैं। जिला प्रशासन बाल विवाह न हो इसको लेकर लगातार अधिकारियों को विभिन्न तरह के निर्देश दे रहा है, लेकिन यह बाल विवाह रुके ऐसा नजर नहीं आता। इस बार बाल विवाह का ताजा मामला नाताराम गांव का है। जहां 10 साल के बच्चे का विवाह कराया गया। इससे अंदाजा लगा जा सकता है कि जो वधू है उसकी उम्र क्या होगी। खास बात यह है कि यह विवाह कहीं और नहीं, बल्कि गांव के एक बड़े जनप्रतिनिधि के ही परिवार में संपन्न कराया गया है।

10 साल का बच्चा बन गया दूल्हा, उससे भी कम उम्र की बालिका बनी वधू
10 साल का बच्चा बन गया दूल्हा, उससे भी कम उम्र की बालिका बनी वधू

जिनसे उम्मीद की जाती है कि यदि गांव में बाल विवाह हो तो यह प्रशासन को जानकारी उपलब्ध कराएं, लेकिन जब इनके परिवार में ऐसे आयोजन होंगे तो बाल विवाह कैसे रुकेगा। बाल विवाह ग्रामीण अंचल में बड़ी संख्या में हो रहे हैं, लेकिन फोटो खींचने को लेकर परिवार के अलावा बाहर के लोगों को बहुत कम ही बुलाया जाता है। लेकिन कुछ गांव के दबंग लोग होते हैं जो कानून के साथ ही प्रशासन को भी ठेंगा दिखाते हुए यह विवाह संपन्न करा जाते हैं, और इन पर कार्रवाई नहीं होती है।

एसडीएम की अनुमति के बगैर नहीं होंगे सम्मेलन, देने होंगे दस्तावेज

वैवाहिक कार्यक्रमों के साथ सामूहिक विवाह कराने वाले आयोजक अपने आयोजनों में बाल विवाह नहीं करेंगे एवं इस आशय का शपथ पत्र कलेक्टर कार्यालय एवं जिला कार्यालय महिला बाल विकास विभाग जिला राजगढ़ के समक्ष प्रस्तुत करेंगे। इस प्रकार प्रेस, हलवाई, कैटरर्स, धर्मगुरू, समाज के मुखिया, बैण्ड वाले, घोड़ी वाले, ट्रांसपोर्ट आदि आयु संबंधी प्रमाण पत्र प्राप्त कर परीक्षण उपरांत ही अपनी सेवाएं प्रदान करें। अन्यथा वे भी बाल विवाह के सहयोगी माने जाएंगे। राजगढ़ जिले में आगामी माह में अक्षय तृतीया तथा अन्य विवाह मुहूर्तों पर सामूहिक विवाह समेलनों में एवं अन्य स्थलों पर बाल विवाह होने की आशंका है। यह प्रशासन भी मान चुका है।

तीसरे स्थान पर राजगढ़

डब्ल्यूएचओ के माध्यम से पूर्व में बाल विवाह को लेकर सर्वे कराया गया, जिसमें बड़वानी और श्योपुर के बाद राजगढ़ जिले में ही सबसे ज्यादा बाल विवाह होने की जानकारी मिली। इसी सर्वे के बाद जिले में तत्कालीन कलेक्टर एमबी ओझा के माध्यम से बेटी बचाओ अभियान और सामूहिक विवाह समेलन में तमाम तरह के दस्तावेज लगाने के बाद ही विवाह संपन्न कराई जा सके थे, लेकिन इस बार अभी तक ऐसा कुछ देखने में नहीं आया।

प्रेस नोट जारी करने से नहीं जमीन पर जाकर रुकेंगे बाल विवाह

बाल विवाह एक गंभीर सामाजिक बुराई है। सामान्य रूप से प्रचलित वैवाहिक कार्यक्रमों के साथ शहरी, ग्रामीण क्षेत्रों में 3 मई अक्षय तृतीय पर अन्य वैवाहिक कार्यक्रम भी आरंभ हो जाएंगे। जिला कार्यक्रम अधिकारी सुनीता यादव ने बताया कि राजगढ़ जिले में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजनांतर्गत बाल विवाह रोकथाम के लिये लाडो अभियान नाम से विशेष अभियाना चलाया जा रहा है। इसके लिए बाल विवाह रोकथाम अधिनियम 2006 की धारा 9, 10, 11 एवं 13 बाल विवाह कराने, सहयोग देने वाले व्यक्ति, व्यक्तियों, संस्था, संगठन के लिए 02 वर्ष तक का कारावास अथवा 1 लाख रुपए का जुर्माना या दोनों का प्रावधान है, लेकिन ऐसे माता पिता पर कभी कार्रवाई देखने नही मिली, जिन्होंने बच्चों का विवाह कराया हो।

यह भी पढ़ें : आखातीज पर नहीं होंगे शादी-ब्याह, जानें क्या है पूरा मामला

क्यों नही दी जानकारी
कागजी खानापूर्ति के लिए महिला बाल विकास के माध्यम से ऐसे बाल विवाह को रोकने के लिए काम किया जाता है, लेकिन स्पष्ट है की गांव में जब यह विवाह संपन्न कराया तो गांव के पंचायत सचिव रोजगार सहायक सरपंच आशा कार्यकर्ता उषा कार्यकर्ता आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और एएनएम तक को कहीं न कहीं इस बात की जानकारी जरूर होगी, लेकिन क्या कारण है कि इनमें से एक ने भी न तो पुलिस को जानकारी दी और ना ही महिला बाल विकास को और यदि जानकारी दी तो फिर विवाह क्यों नहीं रुकवाया गया। मामले को लेकर डीपीओ सुनीता यादव ने कहा कि हमारे पास ऐसी कोई सूचना नहीं पहुंची है, लेकिन यदि कहीं ऐसा हो रहा है तो गलत है। मैं अभी टीम भिजवाती हूँ।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: खतरे में MVA सरकार! समर्थन वापस लेने की तैयारी में शिंदे खेमा, राज्यपाल से जल्द करेंगे संपर्क?Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाबPM Modi in Germany for G7 Summit LIVE Updates: 'गरीब देश पर्यावरण को अधिक नुकसान पहुंचाते हैं, ये गलत धारणा है' : G-7 शिखर सम्मेलन में बोले पीएम मोदीयूक्रेन में भीड़भाड़ वाले शॉपिंग सेंटर पर रूस ने दागी मिसाइल, 2 की मौत, 20 घायल"BJP से डर रही", तीस्ता की गिरफ़्तारी पर पिनाराई विजयन ने कांग्रेस की चुप्पी पर साधा निशानाअंबानी परिवार की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट कल करेगा सुनवाई, जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शिवसैनिकों से बोले आदित्य ठाकरे- हम दिल्ली में भी सत्ता में आएंगे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.