सिविल अस्पताल के पंखे बंद, मरीज परेशान

सिविल अस्पताल के पंखे बंद, मरीज परेशान
Rajgarh news

Kamal Singh Rajpoot | Publish: Jun, 04 2015 11:56:00 PM (IST) Rajgarh, Madhya Pradesh, India

सिविल अस्पताल इन दिनों अव्यवस्थाओं का जोन बना हुआ है। भरी गर्मी में लोग पंखे और कूलर के अभाव में परेशान हो रहे हैं। और प्रभारी अस्पताल की तोड़फोड़

ब्यावरा। सिविल अस्पताल इन दिनों अव्यवस्थाओं का जोन बना हुआ है। भरी गर्मी में लोग पंखे और कूलर के अभाव में परेशान हो रहे हैं। और प्रभारी अस्पताल की तोड़फोड़ में लगे हुए हैं। वैकल्पिक रूप से रखा गया जनरेटर भी कई दिनों से खराब है। गर्मी का सीजन बीतने को है और अभी भी मरीजों को बेहतर सुविधाएं नहीं मिल पा रही। कूलर तो दूर मरीजों को ठीक से पंखों की हवा भी नसीब नहीं हो रही। कई बार इसे लेकर मरीज हंगामा कर चुके हैं।

बावजूद इसके प्रभारी कहते हैं कि मैंने 32 पंखे नये लगवाए हैं अब मरीजों को अपने घर से पंखे लाकर तो नहीं दे सकता। इमरजेंसी सेवा और वैकल्पिक तौर पर रखे गए जनरेटर की सुविधा भी अस्पतालों में नहीं मिल पा रही है। एक जनरेटर है से आधे अस्पताल की बिजली भी नहीं चल पाती। वहीं, एक वैकल्पिक जनरेटर खराब पड़ा हुआहै। अब इमरजेंसी में भी इसकी मदद नहीं मिल पा रही है। भरी दोपहरी में मरीज परेशान होते रहते हैं न पंखे चलते हैं और न ही इमरजेंसी में भी जनरेटर चल पाता।

बिना इंजीनियर की सलाह के तोड़फोड़
अस्पताल में कभी तोड़फोड़ तो कभी वार्ड या काउंटर बदलने के अलावा कुछ काम नहीं होते। बिना इंजीनियर या पीडब्ल्यूडी के अफसरों की निगरानी के अस्पताल में आए दिन तोड़फोड़ होती रहती है। बिना वजह होने वाली तोड़फोड़ से मरीज के अलावा स्टॉफ भी परेशान है। प्रभारी भानू सक्सेना की मनमानी करते हुए वे गेट बंद करके तोड़फोड़ करवाते है।सफाई के लिए नियुक्त कर्मचारियों से भी पूरे समय तोड़फोड़ करवाते हैं।

ये क्यों बार-बार तोड़फोड़ करवाते हैं मेरी तो समझ से परे है। मैं पूछता हूं बिना इंजीनियर की सलाह के कैसे काम चल रहा, उनके घर का काम थोड़े है। रही बात पंखे और जनरेटर की तो वह उन्हें पहले करना चाहिए, बजाए तोड़फोड़ के। मैं खुद आकर एक बार देखता हूं और सख्त निर्देश देता हूं। -डॉ. जी.डी. मगनानी, सीएमएचओ, राजगढ़

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned