scriptCM suspended the District Food Officer and Food Inspector from the sta | जिला खाद्य अधिकारी और खाद्य निरीक्षक को सीएम ने मंच से किया सस्पेंड | Patrika News

जिला खाद्य अधिकारी और खाद्य निरीक्षक को सीएम ने मंच से किया सस्पेंड

ओलावृष्टि के बाद फसलों को देखने के लिए पहुंचे थे प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान राजगढ़ के छायन पहुंचे

राजगढ़

Published: January 15, 2022 06:45:04 pm

राजगढ़। पिछले दिनों हुई ओलावृष्टि के बाद लगातार किसान सभी की मांग करते हुए मुआवजा और बीमा देने को लेकर मांग उठा रहे थे। ऐसे में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ओलावृष्टि से सबसे ज्यादा प्रभावित छायण गांव पहुंचे। यहां उन्होंने कहा कि सभी ओलावृष्टि से प्रभावित क्षेत्रों का सर्वे होगा। किसी को अलग से आवेदन देने की जरूरत नहीं है। उन्होंने मंच से जिले के राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिए कि किसी भी तरह की चूक इसमें न हो। जब मैं देने वाला खड़ा हूं तो आपको कोई चिंता करने की जरूरत नहीं है। जितना भी नुकसान हुआ है उसकी भरपाई होगी। उन्होंने कहा 1 एकड़ कि खराब फ सलों के लिए 30 हजार रुपए दिए जाएंगे।
वहीं विधायक बापू सिंह तंवर द्वारा क्षेत्र में हो रही खाद्यान्न वितरण की शिकायत को लेकर उन्होंने मंच से लंबी बात की और कहा कि जब देश के प्रधानमंत्री मोदी जी हर माह अतिरिक्त 5 किलो खाद्यान्न और राज्य सरकार द्वारा प्रतिमाह 5 किलो खाद्यान्न दिया जा रहा है तो फि र उस में गड़बड़ी क्यों हो रही है जो भी इसमें दोषी है। उनके खिलाफ एफ आईआर दर्ज ही नहीं करें। बल्कि उन्हें जेल भी भेजें कोई भी गरीबों का राशन खाने वाला बचना नहीं चाहिए यहां उन्होंने इस गड़बड़ी को लेकर पास में ही खड़े कलेक्टर हर्ष दीक्षित से पूछा कि आखिर इसकी मॉनिटरिंग कौन कर रहा है। जानकारी देने पर उन्होंने तुरंत जिला खाद्य अधिकारी सुरेश वर्मा और खाद्य निरीक्षक को सस्पेंड करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा जिनको जिम्मेदारी दी है, यदि वह अपनी जिम्मेदारी सही से नहीं निभाते तो उन्हें पद पर बने रहने का हक नहीं है। यहां उन्होंने कमिश्नर को निर्देशित किया कि एक एक दुकान की जांच कराएं और जहां भी गड़बड़ी मिलती है वहां पर सेल्समैन के खिलाफ एफ आईआर दर्ज कर जेल भी भेजें, ताकि ऐसी गड़बड़ी दोबारा न हो।
फ सल बीमा और राहत राशि से होगी भरपाई
फ सल बीमा और राज्य सरकार द्वारा जो राहत राशि किसानों को ओलावृष्टि से प्रभावित हुई फ सलों के लिए दिया जाएगा। उससे बहुत हद तक उनके नुकसान की भरपाई होगी। यदि किसी किसान पर ऋ ण जमा करने को लेकर परेशानी हो रही है, तो अभी ऋण वसूली को डिस्क्रिप्ट किया जाएगा। वहीं जो अल्पकालीन ऋ ण हैं उन्हें भी मध्यम काल के ऋ ण में परिवर्तन किया जाएगा। ताकि किसान आराम से अपने ऋ ण को चुका सकें।
25 प्रतिशत बीमा एडवांस देना होगा
फ सल बीमा में इस बार परिवर्तन किया गया है ,जिसमें मुख्यमंत्री ने मौजूद किसानों से कहा की जो नुकसान हुआ है उसका 25 प्रतिशत भुगतान अगले माह ही कंपनी को करना होगा। वहीं शेष क्लेम जब क्लेम सेट होगा। उस समय भुगतान किया जाएगा। पिछले साल का बीमा भी अगले माह देने की बात कही गई।
कर्ज से किसानों को निकालना मेरी ड्यूटी
मुख्यमंत्री ने कहा कि ओलावृष्टि से जिन किसानों की फसलें खराब हुई हैं, वह मैंने देखी हैं, लेकिन उन्हें चिंतित होने की जरूरत नहीं है। क्योंकि जब तक मैं हूं, यह मेरा धर्म ही नहीं बल्कि ड्यूटी भी है और कर्तव्य भी, की किसानों को परेशान नहीं होने दंू। इसलिए ऋ ण वसूली में देरी के साथ ही बीमा और राहत भी किसानों को उपलब्ध कराई जाएगी।

ओलावृष्टि के बाद
1 एकड़ कि खराब फ सलों के लिए 30 हजार रुपए दिए जाएंगे।
ग्रामीणों को नहीं जाने दे रही थी पुलिस, इसलिए विधायक बैठ गए धरने पर
बता दें कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान छायन गांव में आए थे। जबकि फ सलों को नुकसान आसपास के गांवों में भी हुआ था। यही कारण है कि मुख्यमंत्री के आने की जानकारी लगने के बाद अन्य गांव से भी लोग छायन गांव पहुंच रहे थे। लेकिन उन्हें रास्ते में ही रोक दिया गया। इसी बीच जब विधायक बापूसिंह तंवर वहां से जा रहे थे तो ग्रामीण लौट रहे थे। ऐसे में उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री जनता की बात सुनने के लिए आ रहे हैं। यदि जनता ही वहां नहीं पहुंचेगी तो उनके आने का मतलब क्या है। ऐसे में वह खुद जनता को लेकर अंदर जा रहे थे। लेकिन पुलिस ने उन्हें भी रोक दिया। जिसके बाद वह रास्ते में ही धरने पर बैठ गए। इस बीच वहां से लोकसभा क्षेत्र के सांसद रोडमल नागर निकल रहे थे। उन्होंने विधायक को समझाया और जनता पुलिस को जनता को निकलने के लिए भी समझाया। करीब आधा घंटे चले इस प्रदर्शन के बाद ग्रामीण सभा स्थल तक पहुंच गए।
झलकियां
- खेत में पहुचकर सीएम ने फसल को देखा, लेकिन जिस खेत को देखने वह पहुंचे भीड़ ने बची फसल भी दवा दी।
- हेलीपैड से जब मुख्यमंत्री खेत को देखने जा रहे थे, तो एसपी कलेक्टर एक मोटरसाइकिल से तेजी से खेत तक पहुंचे।
- मुख्यमंत्री के जाने के बाद उनके द्वारा दिए गए निर्देशों पर तुरंत छायन गांव में संचालित राशन की दुकान की जांच की गई। जिसमें गड़बड़ी पाए जाने पर सेल्समैन के खिलाफ एफ आईआर कराई गई।
- बड़ी संख्या में लोग प्रतिबंध के बावजूद बगैर मास्क लगाकर मुख्यमंत्री कुछ सुनने पहुंचे, ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग भी टूटी।
- मंच पर स्वागत की तैयारी थी, लेकिन मुख्यमंत्री किसी भी तरह की माला नहीं पहनने और कहा कि अभी स्वागत सत्कार बिल्कुल नहीं होगा।
- मुख्यमंत्री ने मंच से कहा कि कोरोनावायरस बढ़ रहा है। ऐसे में सभी लोग मास्क पहने और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रहे। आप लोगों पर जो विपदा आई है मैं इसलिए ही यहां आपके बीच पहुंचा हूं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Army Day 2022: सेना प्रमुख MM Naravane ने दी चीन को चेतावनी, कहा- हमारे धैर्य की परीक्षा न लेंUP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावUttar Pradesh Assembly Elections 2022: टूटेगी मायावती और अखिलेश की परंपरा, योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से लड़ेंगे विधानसभा चुनावPunjab Assembly Election: कांग्रेस ने जारी की 86 उम्मीदवारों की पहली सूची, चमकोर से चन्नी, अमृतसर पूर्व से सिद्धू मैदान मेंअब हर साल 16 जनवरी को मनाया जाएगा National Start-up DayHaryana: सरकार का निर्देश, बिना वैक्सीन लगाए 15 से 18 वर्ष के बच्चों को स्कूल में नहीं मिलेगी एंट्रीUP Election: सपा RLD की दूसरी लिस्ट जारी, 7 प्रत्याशियों में किसी भी महिला को नहीं मिला टिकटजम्मू कश्मीर में Corona Weekend Lockdown की घोषणा, OPD सेवाएं भी रहेंगी बंद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.