मंडी सचिव पर मामला दर्ज करने पर अड़ा किसान यूनियन, बैठे धरने पर

प्रशासन ने मृतक के परिजनों को दी चार लाख की सहायता राशि, मांगें नहीं मानी तो होगा आंदोलन

By: Ram kailash napit

Published: 24 May 2018, 09:16 AM IST

राजगढ़/नरसिंहगढ़/बोड़ा . समर्थन मूल्य खरीदी केंद्र पर हुई किसान की मौत के मामले में जहां मंगलवार शाम बवाल मचा था। वही बुधवार को भी मामले को लेकर जमकर प्रदर्शन हुआ। भारतीय किसान यूनियन ने किसान की मौत को सरकार की गलत नीतियों का नतीजा बताते हुए मंडी गेट पर धरना प्रदर्शन किया।

इस दौरान यूनियन के प्रदेश उपाध्यक्ष रामकिशन दांगी विभिन्न मांगों को लेकर धरने पर बैठ गए। इस बीच पुलिस प्रशासन प्रदर्शनकारियों को समझाने का प्रयास करता नजर आया, लेकिन यूनियन के सदस्यों ने मांगें पूरी न होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी। प्रदर्शन में यूनियन के प्रदेश प्रवक्ता नारायण यादव, संभाग उपाध्यक्ष मनोहर मीणा, जिलाध्यक्ष महेन्द्रसिंह तोमर, जिला महामंत्री राकेश यादव, विक्रम मीणा, रमेश दांगी, बलराम रूहेला, विक्रमसिंह रूहेला, नारायणसिंह रूहेला सहित अन्य सदस्य मौजूद थे।

यूनियन ने रखी यह मांगें
किसान यूनियन ने मृत किसान के परिजनों को १० लाख रुपए का मुआवजा, परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी , मंडी सचिव पर हत्या का मुकदमा सहित समर्थन मूल्य, भावांतर योजना में गड़बड़ी करने वाले कर्मचारियों को बर्खास्त करने की कार्रवाई सहित खरीदी केंद्रों पर पर्याप्त व्यवस्था किए जाने आदि मांगें रखी।

उल्लेखनीय है कि मंगलवार शाम किसान की मौत के बाद हुए हाइवे जाम और प्रदर्शन के दौरान प्रशासन ने मृतक के परिजनों को चार लाख रुपए मुआवजा देने की घोषणा की थी। वहीं पीएम रिपोर्ट में हार्ट अटैक से किसान की मौत होने की पुष्टि की गई है।


देर रात तक चला प्रदर्शन
मंगलवार शाम हाइवे जाम सहित खरीदी केंद्र पर हुआ हंगामा काफी देर तक चला। इस बीच किसानों ने केंद्र पर अव्यवस्थाएं होने पर नाराजगी व्यक्त की। वही कर्मचारियों पर किसानों से अवैध वसूली किए जाने का आरोप लगाया। किसानों ने केंद्र पर कार्यरत सर्वेयर बड़ोदिया निवासी दीपक पर उपज का निरीक्षण करने के नाम पर पांच सौ से दो हजार रुपए तक रिश्वत के आरोप लगाए।

जबकि सोसायटी ऑपरेटर पर भी एसएमएस भेजने के नाम पर ५०० रुपए की वसूली किए जाने की बात कही। हंगामें के बीच किसान इन कर्मचारियों को पकडऩे दौड़े थे, लेकिन सैकड़ों की भीड़ देखकर यह कर्मचारी भाग खड़े हुए। उल्लेखनीय है कि किसानों के हक पर डाका डालने वाले इन कर्मचारियों की वजह से ही किसानों में भारी आक्रोश देखा गया। किसान यूनियन ने समर्थन मूल्य पर व्यापारियों का माल तोले जाने का भी गंभीर आरोप लगाते हुए मामले की जांच किए जाने की मांग की है।

अधिकारियों की मौजूदगी में हुआ अंतिम संस्कार
बुधवार को मृतक किसान ओमप्रकाश पाटीदार का बोड़ा में प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान कलेक्टर ने परिजनों से बातचीत कर उन्हें हर संभव मदद का भरोसा दिलाया।


अंतिम संस्कार में पहुंचे कई जनप्रतिनिधि
बोड़ा. मृतक ओमप्रकाश पाटीदार का बुधवार को रोंसला रोड स्थित मुक्तिधान पर अंतिम संस्कार किया गया। जिसमें बड़ी संख्या में लोगों ने शामिल होकर मृत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की। इसमें नरसिंहगढ़ विधायक गिरीश भंडारी, पूर्व विधायक मोहनशर्मा,धूलसिंह यादव सहित नगर परिषद अध्यक्ष द्वारका प्रसाद सोनी, एसडीएम श्रुति अग्रवाल सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।

पीएम रिपोर्ट में हार्टअटैक से किसान की मौत की पुष्टि हुई है। प्रशासन ने पीडि़त परिवार को चार लाख रुपए मुआवजा राशि देने की घोषणा की है। वहीं खरीदी केद्रों पर भी संपूर्ण व्यवस्थाएं सुचारू की जा रही है। इस दौरान गड़बड़ी करने वाले कर्मचारियों के खिलाफ जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।
श्रुति अग्रवाल, एसडीएम नरसिंहगढ़

Show More
Ram kailash napit Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned