चार सब इंजीनियर बर्खास्त

चार सब इंजीनियर बर्खास्त
Rajgarh photo

Shankar Sharma | Publish: Jun, 29 2015 11:41:00 PM (IST) Rajgarh, Madhya Pradesh, India

मनरेगा में भ्रष्टाचार को लेकर भोपाल कमिनशर कार्यालय से एक बड़ी कार्रवाई की गई है। जिसमें चार सब इंजीनियर और दो लेखापाल की सेवा समाप्त कर दी गई है

राजगढ़। मनरेगा में भ्रष्टाचार को लेकर भोपाल कमिनशर कार्यालय से एक बड़ी कार्रवाई की गई है। जिसमें चार सब इंजीनियर और दो लेखापाल की सेवा समाप्त कर दी गई है।

मनरेगा में की गई गड़बडियों को लेकर यह अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है। जिसमें इतनी बड़ी संख्या में निचले स्तर से लेकर ऊपर तक के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई हुई है। इस कार्रवाई से जहां भ्रष्टाचार में लिप्त अन्य अधिकारी या कर्मचारियों में भय बना है। वहीं लोगों को भी अब कार्रवाई की उम्मीदें बंधी है।

ऑनलाइन गलत पाया था
मनरेगा में हुई गड़बड़ी को दिल्ली की टीम ने ऑनलाइन गलत पाया था। जिसके बाद उन्होंने यहां आकर जांच की थी। जिसके बाद चार सब इंजीनियरों सहित दो लेखापालों की सेवा समाप्त की कार्रवाई की गई।

वहीं दस अन्य कर्मचारियों
के खिलाफ निलंबन और जांच शुरू हुई है। मनरेगा में अभी तक लगातार कई पंचायतों में भ्रष्टाचार के मामले उजागर हुए। लेकिन फर्जी मूल्यांकन करने वाले सब इंजीनियरों को अधिकारी हमेशा बचाते रहे और ग्रामीण स्तर पर काम करने वाले पंचायत सचिव व सरपंच के खिलाफ नोटिस आदि की कार्रवाई की गई।

कुछ के खिलाफ एफआई
आर और वसूली की कार्रवाई भी चल रही है। लेकिन यह पहला मामला है जब अधिकारियों पर कार्रवाई हुई। वह भी उस समय जब स्वयं भोपाल और दिल्ली की टीमों को राजगढ़ जांच के लिए आना पड़ा।

यहां सरपंच व सचिव को थमाए वसूली पत्र
जीरापुर और ब्यावरा जनपद की चार ग्राम पंचायतों में मनरेगा में काफी भ्रष्टाचार किया गया। जीरापुर की लखोनी पंचायत में ही 41 लाख से भी अधिक रूपए की वसूली के पत्र सरपंच व सचिव के विरूद्ध जारी किए गए हैं। यही हाल अन्य तीन ग्राम पंचायतों का भी है। हालांकि अभी उन ग्राम पंचायतों में वसूली का आंकड़ा तय नहीं हुआ है।

दो सीईओ पहले हो चुके निलंबित
जीरापुर सीईओ बीएस हंस और ब्यावरा सीईओ महेशप्रतापसिंह को कमिनश्Aर द्वारा प्रथम दृष्टियां दोषी मानते हुए उन्हें एक सप्ताह पहले ही निलंबित किया जा चुका है। वहीं अन्य कर्मचारियों की रिपोर्ट पर की गई जांच के बाद 16 अन्य अधिकारियों और कर्मचारियों पर भी कार्रवाई हुई है।

इन पर हुई कार्रवाई
सब इंजीनियर उमेश शर्मा, राजकुमार खींची, सहायक लेखापाल दिव्या श्रीवास्तव, लेखापाल रचना आचार्य को बर्खास्त किया गया। जबकि एई पीएस रघुवंशी और लखोनी ग्राम पंचायत सचिव मांगीलाल चौधरी और बाढ़गांव के जशवंतसिंह पंवार को निलंबित किया गया है। यही नहीं दोनों ग्राम पंचायतों के सरपंचों के मामले एसडीएम कार्यालय मेें शुरू किए गए हैं।

इन पर गिरी गाज
सब इंजीनियर मीनू त्यागी, रामनिवास धाकड़ की सेवाएं समाप्त कर दी गई है। जबकि एई अश्वनी जायसवाल और प्रकाश पांडे की जांच शुरू हुई है। वहीं सहायक लेखाधिकारी मुकेश वर्मा की सेवानिवृत्ति हो जाने के कारण उनके देय स्वत्व के भुगतान पर रोक लगा दी गई है।

MP/CG लाइव टीवी

अगली कहानी
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned