scriptFraud in mp panchayat chunav 2022 | MP Ajab-Gajab एसडीएम के फर्जी हस्ताक्षर से बना था जो जाति प्रमाण पत्र, उसी के जरिए मांगीबाई बन गईं सरपंच | Patrika News

MP Ajab-Gajab एसडीएम के फर्जी हस्ताक्षर से बना था जो जाति प्रमाण पत्र, उसी के जरिए मांगीबाई बन गईं सरपंच

गड़बड़झाला : एसडीएम बोलीं-मामले में 6 पर हो चुकी एफआइआर, थाना प्रभारी बोले- उनके पास आवेदन तक नहीं पहुंचा,

- अब आपत्तिकर्ता जाएंगे न्यायालय और निर्वाचन आयोग

राजगढ़

Published: June 12, 2022 04:19:08 pm

राजगढ़। जीरापुर जनपद की बांसखेड़ी पंचायत अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित की गई, लेकिन इस पंचायत में अनुसूचित जाति का कोई मतदाता नहीं था। ऐसे में बालू सिंह गुर्जर ने पुत्री मांगीबाई का जाति प्रमाण पत्र एसडीएम कार्यालय राजगढ़ से तैयार करवाया।

sdm_vs_police.jpg

प्रमाण पत्र को लेकर जब कलेक्टर से शिकायत हुई और कलेक्टर हर्ष दीक्षित के निर्देशों पर पूरे मामले की जांच कराई तो पाया कि मांगी बाई के तैयार प्रमाण पत्र में एसडीएम के हस्ताक्षर ही फर्जी हैं। इस कारण 6 लोगों के खिलाफ एफआइआर दर्ज करने के साथ ही कुछ अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस भी दिए गए। इसके साथ ही तैयार प्रमाण पत्र को एसडीएम ने निरस्त कर दिया। पर निरस्ती से पहले ही मांगी बाई सरपंच पद के लिए अपना आवेदन जमा कर चुकी थी।

सारा मामला जनप्रतिनिधियों से लेकर अधिकारियों तक की जानकारी में होने के बाद भी इस आवेदन को जीरापुर आरओ ने स्वीकार कर लिया। 10 जून को जब नामांकन वापसी की अंतिम तारीख थी और पूरा समय निकल जाने के बाद मांगी बाई ने जो आवेदन चुनाव लड़ने के लिए दिया उसे मान्य कर लिया और अब बांसखेड़ी ग्राम पंचायत से मांगी बाई निर्विरोध सरपंच चुन ली गईं हैं।

जबकि एसडीएम के फर्जी हस्ताक्षर से तैयार प्रमाण पत्र को एसडीएम पहले ही निरस्त कर चुकी हैं। ऐसे में सवाल उठता है क्या इस पूरे मामले में जानबूझकर पूरी रूपरेखा रची गई या फिर निर्वाचन आयोग के नियमों के तहत इस पूरी प्रक्रिया को संपन्न कराया गया। बात जो भी हो लेकिन जिस तरह से फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर किसी ग्राम पंचायत का सरपंच निर्विरोध चुन लिया गया हो।

इधर, फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद एसडीएम ने कहा कि मैंने कोतवाली में फर्जी प्रमाण पत्र जारी करने वालों के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई है। जबकि टीआई ने कहा कि उनके पास ऐसा कोई आवेदन ही नहीं आया, न ही कोई एफआइआर दर्ज हुई है। कुल मिलाकर सब तरफ गड़बड़झाला ही चल रहा है। वहीं, अब आपत्तिकर्ता न्यायालय और निर्वाचन आयोग की शरण लेने की तैयारी में है।

मामला सभी के संज्ञान में होने के बाद भी निर्विरोध सरपंच बन गईं...
यह मामला पहले से ही हाईलाइट हो चुका था और सभी की जानकारी में था। ऐसे में पूरे मामले की निष्पक्ष जांच नहीं कराई गई। बता दें कि लिंबोदा गांव जहां मांगी बाई का ननिहाल है वहां मांगी बाई को कोई नहीं जानता।

जबकि बांसखेड़ी में मांगी बाई को कोई अनुसूचित जनजाति के नाम से नहीं जानता इस तरह के बयान भी लिए गए हैं, लेकिन क्या कारण है कि मांगी बाई को फर्जी तरीके से तैयार किए गए जाति प्रमाण पत्र के बाद भी निर्विरोध चुने जाने का इंतजार किया जाता रहा।

क्या है जाति का मामला
आवेदिका मांगी बाई बांसखेड़ी के कालाखेड़ा गांव की रहने वाली है। उनकी मां अनुसूचित जनजाति से ताल्लुक रखती है लेकिन उनका विवाह बांस खेड़ी के बालू सिंह गुर्जर के साथ हुआ था। जो पिछड़ा वर्ग में आते हैं। जबकि मांगीबाई का लिम्बोदा में रहने वाला परिवार अनुसूचित जनजाति का है।

ऐसे में जब बांसखेड़ी में सरपंच के पद का आरक्षण अनुसूचित जनजाति का हुआ तो वहां अनुसूचित जनजाति के मतदाता नहीं मिल रहे थे यही कारण है कि मांगीबाई के पिता बालू सिंह गुर्जर और उसके साथ ही सागर सिंह सोंधिया लिंबोदा गांव जोकि राजगढ़ के अंतर्गत आता है एसडीएम कार्यालय पहुंचकर जाति प्रमाण पत्र बनवाने के लिए लोक सेवा केंद्र में कर्मचारी रामदयाल तंवर से संपर्क किया, और नामांकन भरने की अंतिम तारीख 6 जून से पहले जाति प्रमाण पत्र बनवाने का तरीका पूछा।

इसके बाद कर्मचारी बालू सिंह को लोक सेवा केंद्र की ओर से एसडीएम कार्यालय में बैठने वाले निलेश गुप्ता के पास लेकर गए जहां नीलेश ने एसडीएम के फर्जी हस्ताक्षर करते हुए यह जाति प्रमाण पत्र जारी कर दिया। मांगीबाई का जो प्रमाण पत्र बनवाया गया उसके लिए जो दस्तावेज तैयार किए गए, उनमें मांगीबाई के पति के स्थान पर उनके पिता बालू सिंह का नाम दर्ज है।

वापस भिजवाया प्रस्ताव
एफआइआर से जुड़ा हुआ जो प्रस्ताव यहां आया था। उसमें किसी तरह के दस्तावेज नहीं लगाए गए थे, इसलिए मैंने उनका आदेश वापस भिजवा दिया था। दस्तावेज और तमाम तरह के कथन मंगवाए गए हैं। एफआइआर को लेकर तमाम दस्तावेज जरूरी होते हैं।

- कमलचंद्र नागर, एडीएम, राजगढ़

निर्विरोध निर्वाचित हुईं
हमारे पास आवेदक के किसी भी तरह के दस्तावेज को जांच करने का न समय होता है ना ही ऐसा नियम में है इसलिए नामांकन जमा किया गया था। उसे मान्य कर लिया है अब मांगी बाई निर्विरोध सरपंच चली गई हैं।

- एआर चिरामन, तहसीलदार, जीरापुर

एफआइआर दर्ज कराई
मेरे फर्जी हस्ताक्षर से बगैर जांच किए जारी किए गए प्रमाण पत्र को मैंने निरस्त कर दिया था। महिला निर्विरोध चुनी गई है, इसकी जानकारी लेनी पड़ेगी। विभाग के लिए इन लोगों ने फर्जी प्रमाण पत्र बनाने में सहयोग किया। उन सभी के खिलाफ मैंने राजगढ़ कोतवाली में एफआइआर दर्ज करा दी है।

- जूही गर्ग, एसडीएम, राजगढ़

आवेदन नहीं आया
कोतवाली में किसी तरह का कोई आवेदन नहीं आया है, ना ही इस मामले में अभी तक एफआइआर दर्ज हुई है।
- उमेश यादव, थाना प्रभारी राजगढ़

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Jammu-Kashmir News: शोपियां में फिर आतंकी हमला, CRPF के बंकर पर ग्रेनेड अटैकओडिशा के 10 जिलों में बाढ़ जैसे हालात, ODRAF और NDRF की टीमों को किया गया तैनातकैबिनेट विस्तार के बाद पहली बार नीतीश कैबिनेट की बैठक, इन एजेंडों पर लगी मुहरशिमला में सेवाओं की पहली 'गारंटी' देने पहुंचेगी AAP, भगवंत मान और मनीष सिसोदिया कल हिमाचल प्रदेश के दौरे परममता बनर्जी के ट्विटर प्रोफाइल में गायब जवाहर लाल नेहरू की तस्वीर, बरसी कांग्रेसमुंबई पुलिस की बड़ी कार्रवाई, गुजरात के भरूच में पकड़ी ‘नशे’ की फैक्ट्री, 1026 करोड़ के ड्रग्स के साथ 7 गिरफ्तारकेंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह के मानहानि के बयान पर मंत्री जोशी का पलटवार, कहा-दम है तो करें मानहानिभूस्खलन से हिमाचल में 100 से अधिक सड़कें ठप, चार दिन भारी बारिश का अलर्ट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.