बकायादारों से तंग आकर लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लिखी पीड़ा

बकायादारों से तंग आकर लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लिखी  पीड़ा
suicide case in ajmer

Rajesh Kumar Vishwakarma | Updated: 09 Oct 2019, 07:02:38 PM (IST) Rajgarh, Rajgarh, Madhya Pradesh, India

-अधेड़ ने की आत्महत्या
-कृष्णपुरम कॉलोनी में रहने वाली 50 वर्षीय अधेड़ ने बकायादारों से तंग आकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली

ब्यावरा. शहर की कृष्णपुरम कॉलोनी में रहने वाली 50 वर्षीय अधेड़ ने बकायादारों से तंग आकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। बुधवार सुबह उनका शव घर पर ही फंदे पर लटका मिला। मौके पर एक पन्ने का सुसाइड नोट भी मिला है जिसमें उन्होंने कुछ बकायादारों से तंग आकर जान देने का जिक्र किया है।
पुलिस के अनुसार लक्ष्मीनारायण पिता शिवनारायण सौंधिया (50 ) निवासी कृष्णपुरम कॉलोनी मूल निवासी चाठा ने आत्महत्या कर लिया। सुसाइड नोट में उन्होंने कुछ बकायादारों के नाम लिखकर तमाम तरह की बातें लिखीं हैं।

 

उन्होंने लिखा है कि मेरी मौत का करण इन लोगों (जिनका खुलासा पुलिस ने नहीं किया है) को माना जाए। साथ ही लिखा कि इन लोगों के कारण मैं परेशान हो गया, कोई इनसे सीखे कैसे भाइयों में विवाद कैसे करवाया जाता है? कैसे उनमें दरार पैदा की जाती है? इन मोटी रकम वाले लोगों ने मेरा जीना मुश्किल कर दिया है। बता दें कि लक्ष्मीनारायण चालक थे और कार को लेकर उन्होंने ऋण ले रखा था। इसकी बड़ी-बड़ी किश्तें आ रही थी, जिनमें उन्होंने ब्यावरा के कुछ लोगों का जिक्र किया है। पोस्टमॉर्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। शाम करीब साढ़े बांच एफएसएल (फोरेसिंक साइंस लेबोरेट्री) की टीम ने आकर भी मौका मुआयना किया और सामग्री जब्त की।

मेरी देवी जैसी पत्नी की आंखें रो-रोकर खराब हो गई
सूत्रों के अनुसार मृतक ने सुसाइड नोट में लिखा है कि मेरी देवी (भगवान) जैसी पत्नी की आंखें रो-रोकर खराब हो गई। इन लोगों ने मुझे इतना परेशान किया कि पत्नी सहन नहीं कर पाई और वह रोती रही। उसकी आंखे खराब हो गई तो मैंने हाल ही में उपचार करवाया। इन्हीं लोगों को मेरी मौत का कारण माना जाए। पति को फंदे पर लटका देख पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल हो गया।


जांच का बहाना, सुसाइड उजागर नहीं कर रही पुलिस
आत्यहत्या के मामले में सामने आए सुसाइड नोट को पुलिस उजागर करने से देर रात तक बचती रही। उन्होंने कोई जानकारी देना ही ठीक नहीं समझा। महज जांच के आधार पर मामले को लंबित कर दिया। मृतक के परिजनों का कहना है कि हमें भी उन्होंने कोई दस्तावेद दिखाए तक नहीं हैं। मामले में थाना प्रभारी डी. पी. लोहिया का कहना है कि मुझे कोई जानकारी नहीं है, मैं शाम को ही लौटा हूं। वहीं, विवेचना अधिकारी एएसआई परस्ते का कहना है कि मैंने थाना प्रभारी को सुसाइड नोट सौंप दिया है वे ही बता पाएंगे।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned