घूमघाटी को बनाएंगे ऐतिहासिक धरोहर, पूरी दीवारे गाएगी की गाथा

नगरपालिका और पर्यटन विभाग द्वारा कराया जाएगा काम, बड़ा महल की भी सुधरेगी सूरत

By: Bhanu Pratap Thakur

Updated: 27 Nov 2019, 10:43 AM IST

राजगढ़. घूमघाटी से लेकर राजगढ़ और बड़ा महल तक जाने वाला रास्ता आज भी अपनी ऐतिहासिक गाथा सुनाता है। लेकिन पिछले कुछ वर्षो से महल का मेंटनेंस न होने के कारण अब यह जर्जर होने लगा है। लेकिन राजगढ़ का नाम इस धरोहर का नाम लिया जाए। इसके लिए पर्यटन विभाग, पुरातत्व विभाग और नगरपालिका के माध्यम से शहर की घूमघाटी से लेकर महल तक के क्षेत्र को ऐतिहासिक धरोहर के रूप में वापस विकसित किया जा रहा है। जिसके तहत नेवज नदी के छोटे पुल से लेकर श्रीनाथजी के मंदिर से होता हुआ पूरी घूमघाटी को संवारने का काम किया जाना है।

कलेक्टर निधि निवेदिता ने इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए जिले के सभी विभागों के जिलाधिकारियों के साथ सोमवार की रात नौ बजे से लेकर दस बजे तक निरीक्षण किया। इसमें घूमघाटी से लेकर महल के विभिन्न क्षेत्रों में क्या सुधार हो सकता है और कौन कौन से विभागों का क्या योगदान होगा। इस पर चर्चा की गई।


पूरी दीवारे गाएगी राजगढ़ की गाथा-
करीब 800 मीटर लंबी किले की दीवार की खूबसूरती बढ़ाने के साथ ही लोगों के लिए आकर्षण का यह केन्द्र बने इसके लिए पूरी दीवार की पुताई करवाने के साथ ही दीवार पर लाइटिंग और पेंटिंग आदि कराई जानी है। जबकि बड़े महल को भी सामने से पुताई के अलावा पिछले हिस्से का मेंटनेंस कराया जाने को लेकर प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है।


70 साल पुराने भवन को एक दिन में आधा गिराया-
यहां 70 साल पुराने कई भवन जो 1991 में रिजेक्ट हो चुके 52 भवन तोडऩे की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। जिसमें पिछले दो दिन में शहर के मुख्य बाजार में बनी दो बड़ी बिल्डिंग तोड़ दी गई है। यह फूड जोन और पार्किंग आदि बनाने का प्रावधान तैयार किया जा रहा है।


घूमघाटी पर बनेगी 40 दुकानें-
अतिक्रमण में बस स्टैण्ड और घूमघाटी के आसपास गुमटी या दुकान संचालित करने वाले दुकानदारों को रोजगार से जोड़ा जाए और उन्हें व्यवस्थित दुकानें दी जाए। इसके लिए घूमघाटी के पार्क के चारों तरफ 40 दुकानें बनाई जा रही है। जो अस्थाई होगी। यहां कभी यदि नदी का पानी बढ़ता है तो उन्हें उठाया जा सके। यहां पार्क के अंदर की तरफ लोगों के बैठकर भोजन या फिर नाश्ता आदि करने के लिए चबूतरे बनाए जाएंगे। जबकि सामने ही पार्किंग तैयार हो रही है।

पुरातत्व विभाग में पैसा है। दीवारों और किले के सुधार के लिए हम प्रस्ताव तैयार कर तीन दिन के अंदर वरिष्ठ कार्यालय भेज रहे है। वहां से भी शीघ्र ही सहमति मिल जाएगी। बहुत जल्द काम को शुरू करेंगे।

जीएस चौहान, जीएम पुरातत्व विभाग राजगढ़


राजगढ़ की निशानी हमेशा बरकरार रहे। इसके लिए हम घूमघाटी से लेकर बड़े महल तक काम कर रहे है। उसमें विभिन्न विभागों का सहयोग लिया जाएगा और एक बार फिर इन्हें नई दीवारों की तरह तैयार किया जाएगा।
निधि निवेदिता, कलेक्टर राजगढ़

Show More
Bhanu Pratap Thakur Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned