scriptIf you are not handling then give us, we will tell you electricity | पूर्व ऊर्जा मंत्री की प्रदेश सरकार को चुनौती- नहीं संभाल रहा तो हमें दें, हम देकर बताएंगे पर्याप्त बिजली | Patrika News

पूर्व ऊर्जा मंत्री की प्रदेश सरकार को चुनौती- नहीं संभाल रहा तो हमें दें, हम देकर बताएंगे पर्याप्त बिजली

electricity crisis पर बोले प्रदेश के पूर्व ऊर्जा मंत्री- private agreement नहीं पूरे किए इसलिए फेल हुए
अघोषित बिजली कटौती unannounced power cut से हर जगह दिक्कत, हर दिन परेशान हो रहे नागरिक, कोई पूछने-बोलने वाला नहीं

राजगढ़

Updated: April 24, 2022 08:18:11 pm

राजेश विश्वकर्मा
ब्यावरा.
भीषण गर्मी में अघोषित power cut से हलाकान हो रहे लोगों को लेकर Ex. energy minister प्रियव्रत सिंह ने प्रदेश सरकार को आड़े हाथों लिया है। उन्होंने प्रदेश सरकार पर आरोप लगाए हैं कि बिजली का प्रबंधन ये लोग संभाल नहीं रहे हैं। जिन companies से इनके प्राइवेट करार हुए थे उन्हें ये पूरा नहीं कर पाए, नतीजा इन्हें वे बदले में बिजली इत्यादि नहीं दे रहे। अगर शिवराज सरकार से बिजली व्यव्सथा नहीं संभल रही तो हमें दे दे जिम्मेदारी हम सप्लाई मुहैया कराएंगे। दरअसल, 44 डिग्री के पार जा चुके पारे के बाद हर नागरिक परेशान है। खासकर गांवों में ज्यादा दिक्कत आ रही है। दिन और रात हर समय बिना बिजली के रह पाना मुश्किल हो रहा है लेकिन जिम्मेदारों को इसे लेकर कोई परवाह नहीं है। इसी पर पूर्व ऊर्जा मंत्री और खिलचीपुर विधायक सिंह ने सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा है कि हमने भी सरकार चलाई है, उस दौरान भी सप्लाई में कोई दिक्कत आई हो तो बताएं? ये लोग संभाल नहीं पा रहे, न वसूली ढंग से हो पा रही है न ही companies के करार पूरे हो पा रहे। तकरीबन 24 हजार megaavaat बिजली की जरूरत प्रदेश को है जिसकी आपूूर्ति ये कर नहीं पा रहे।
electricity news
पूर्व ऊर्जा मंत्री की प्रदेश सरकार को चुनौती- नहीं संभाल रहा तो हमें दें, हम देकर बताएंगे पर्याप्त बिजली
जो कह रहे लोड ज्यादा है, उनसे पूछें- सिंचाई के दौरान क्या था?
सिंह ने कहा कि जो लोग कह रहे हैं कि इस समय लोड ज्यादा है इसलिए हम लोड शिफ्टिंग करेंगे वे जनता और किसानों को बताएं कि सिंचाई के दौरान लोड क्या था? क्या दिक्कत आखिरकार आई थी। अब ऐसी कौन सी मशीनरी अचानक से चल गई कि लोड झेल नहीं पा रहे। जबकि इस समय सभी प्रकार के मोटर पम्प लगभग बंद पड़े हैं। किसान गर्मियों में सिंचाई न के बराबर ही करते हैं, फिर लोड कहां से गड़बड़ा गया? रबी के सीजन से आधी सप्लाई भी अब वर्तमान में बिजली की नहीं होती, बावजूद इसके सप्लाई मैनेज नहीं हो पा रही है।
ग्रामीणों का आरोप- हमें क्या वोट समझा, जो अब काम नहीं रहा नेताओं को?
लगातार बिजली कटौती को लेकर ग्रामीणों में खासा आक्रोश है। उनका कहना है कि हमें क्या सिर्फ वोट समझ रखा है, जो जब चाहा बिजली काट दी, जब चाहा चालू कर दी। ब्यावरा के धान्याखेड़ी निवासी राधे सौंधिया ने बताया कि बिजली कंपनी मनमानी पर उतर आई है और नेता ध्यान नहीं दे रहे। इससे खासी परेशानी ग्रामीणों को हो रही है। बिजली के बिल भी सब जमा कर रहे हैं और सख्ती भी कंपनी वालों की जारी है फिर पर्याप्त जिली देने में क्या दिक्कत है?
करार नहीं संभाल पाए, हमने करके दिखाया था
बेसिक आईपीपीएस को देने को लिए इन्टस्टाल्ड केपिसिटी में जनरेटिंग कंपनी और प्राइवेट आईपीपी से करार होता है, जो ये संभाल नहीं पाए। 24 हजार मेगावाट से अधिक बिजली है फिर क्या दिक्कत इन्हें सप्लाई में आ रही है। यदि वाकई में नहीं संभल रहा है तो हमें दे दें जिम्मेदारी, हम चलाकर बताएंगे।
-प्रियव्रत सिंह, पूर्व ऊर्जा मंत्री, मप्र शासन (विधायक खिलचीपुर)
लोड शेडिंग प्लॉन्ड नहीं होती
जो लोड शेडिंग होती है उसी के अनुरूप जहां लोड बढ़ता है वहीं हम कटौती करते हैं। जहां ज्यादा लोड होता है वहां की स्थिति ऑनलाइन शो होती है, फिर वहीं बिजली ट्रिप की जाती है। डिमांड इस बार ज्यादा बढ़ी है और प्रोडक्शन नहीं है, इसलिए दिक्कत आ रही है। यह प्लॉन्ड नहीं होता है, जैसी जरूरत होती है वैसे कटौती करते हैं।
-स्वाति सिंह, सीजीएम, एमपीपीसीटीएल, मप्र शासन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Presidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे गोवा से मुंबई एयरपोर्ट पहुंचेMaharashtra Political Crisis: उद्धव के इस्तीफे पर नरोत्तम मिश्रा ने दिया बड़ा बयान, कहा- महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा का दिखा प्रभावप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने MSME के लिए लांच की नई स्कीम, कहा- 18 हजार छोटे करोबारियों को ट्रांसफर किए 500 करोड़ रुपएDelhi MLA Salary Hike: दिल्ली के 70 विधायकों को जल्द मिलेगी 90 हजार रुपए सैलरी, जानिए अभी कितना और कैसे मिलता है वेतनKangana Ranaut ने Uddhav Thackeray पर कसा तंज, कहा- 'हनुमान चालीसा बैन किया था, इन्हें तो शिव भी नहीं बचा पाएंगे'उदयपुर हत्याकांड: आरोपियों के कराची कनेक्शन पर पाकिस्तान की बेशर्मी, जानिए क्या बोलाUdaipur Murder: उदयपुर में हिंदू संगठनों का जोरदार प्रदर्शन, हत्यारों को फांसी दो के लगे नारे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.