आईआईटी के छात्र ने तैयार की वेबसाइड, युवाओं के साथ ही प्लंबर, कारीगर, मजदूर, हाउस मेड को काम दिया

युवा ने बनाई अपनी टीम, ब्यावरा में ऑनलाइन सुविधाएं बढ़ीं
वेबसाइड पर हर समस्या का निचौड़, हाल ही में साउथ एशिया में टॉप थर्टी में आई राजगढ़ उड़ान रोजगार वेबसाइड

By: Rajesh Kumar Vishwakarma

Updated: 11 Jan 2021, 08:15 PM IST

ब्यावरा.आईआईटी गुवाहाटी (iit guwahati) में मैकेनिकल ब्रांच से पढ़ाई कर रहे 24 साल के ब्यावरा के युवा ने कोरोना के लॉक डॉउन में अपना स्टार्टअप शुरू किया। यह इतना सक्सेस हुआ कि न सिर्फ अन्य युवाओं को इससे रोजगार मिला बल्कि कारीगर, प्लंबर, होम मेड सहित अन्य लोगों को भी इस युवक के ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से रोजगार मिला है।
दरअसल, अपना नगर में रहने वाले सार्थक सक्सेना ने उड़ान रोजगार (नये इंडिया की अपनी उड़ान) नाम की एक एप तैयार की है, जो कि प्ले स्टोर पर आसानी से मिल रही है। इसमें तमाम प्रकार की सुविधाएं आम लोगों के लिए हैं, यदि किसी को ऑनलाइन मैसेज, कॉल से किसी कारपेंटर, प्लंबर, मजदूर, इलेक्ट्रिशियन, काम वाली बाई (हाउस मेड), ड्राइवर, गार्ड, पेंटर इत्यादि की जरूरत हो तो एक क्लीक पर मिल जाते हैं। उक्त वेब साइड ने ऐसे लोगों के कॉन्टैक्ट नंबर एकत्रित किए हैं और इनसे जुड़े तकरीबन ६७ लोगों को यह रोजगार दे चुका है।

पांच युवाओं की टीम, रेस्त्रां सहित अन्य की वेबसाइड बना रहे
उड़ान रोजगार में पांच युवाओं की टीम है जिनमें सार्थक, श्रेया गौतम, साक्षी शर्मा, मोनू कुमार और दुर्गेश कुमार शामिल हैं। ये लोग शहर के प्रतिष्ठानों, होटल, रेस्त्रां इत्यादि को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म दे रहे, खुद वेबसाइड बनाकर दे रहे हैं। जिससे घर बैठे लोग खाना व अन्य सामग्री ऑर्डर कर सकते हैं। इनकी वेबसाइड को काफी रिस्पांस मिल रहा है, लोग भी उनसे जुडऩे को उत्साहित है।
साउथ एशिया में टॉप-३0 में शामिल हुई उड़ान रोजगार
अभी तक उक्त स्टॉर्टअप में 45 हजार रुपए की बचत की जा चुकी है, साथ ही 67 विभिन्न विधा के लोगों को काम भी दिलवा दिया। हाल ही में जीएसईए प्रतियोगिता में उड़ान रोजगार अव्वल रही है। इसके अलावा साउथ एशिया से मिस फिट्स प्रतियोगिता में 15 रिजन से अलग-अलग 30-30 टीमें आई थीं। कुल 900 में से टॉप 30 में उड़ान का नाम आया औरवहां से 50 हजार का ईनाम भी इन्होंने जीता है। जिले के कलेक्टर, एसपी और अन्य जनप्रतिनिधियों ने भी युवा के इस प्रयास को सराहा है, अन्य युवाओं के लिए यह मिसाल बना है।

Rajesh Kumar Vishwakarma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned