भगवान भरोसे सुरक्षा, अस्पताल में मिली आपत्तिजनक सामग्री

भगवान भरोसे सुरक्षा, अस्पताल में मिली आपत्तिजनक सामग्री

By: Bhanu Pratap

Published: 20 Jul 2018, 10:41 AM IST

ब्यावरा. तमाम प्रकार की सख्ती और नीति आयोग में अव्वल आने की होड़ के बावजूद सरकारी अस्पतालों का ढर्रा सुधर नहीं पा रहा। पूरी तरह से भगवान भरोसे चल रही सिविल अस्पताल ब्यावरा की सुरक्षा व्यवस्था का जिम्मा कोई लेने को तैयार नहीं है।
गुरुवार सुबह सिविल अस्पताल के बाथरूम में आपत्तिजनक सामग्री मिली। अस्पताल में आए दिन लगे रहने वाले असामाजिक तत्वों के जमावड़े के कारण असुरक्षा का माहौल बना हुआ है।

निजी वाहनों के चालक और मरीजों के साथ कई बार नशे में धुत होकर आने वाले लोगों से अस्पताल की महिला स्टॉफ व अन्य पहले से ही परेशान हैं। तमाम सख्ती और दिशा निर्देशों के बावजूद अस्पताल की सुरक्षा की ओर किसी जिम्मेदार का ध्यान नहीं है। बता दें कि हाल ही में बनी सिविल अस्पताल की नई बिल्डिंग में आने-जाने के रास्ते पर कोई प्रतिबंध नहीं है, देर रात, शाम को और दोपहर में कौन कहां आ रहा है जा रहा किसी को कोई लेना-देना नहीं है। अस्पताल असामाजिक तत्वों का डेरा बन चुका है जिसे लेकर कोई गंभीर नहीं है।

सिक्योरिटी ऐसी कि वाहन तक नहीं लगवा पाते
नाम मात्र की सिक्योरिटी व्यवस्था से पूरा अस्पताल परेशान हैं। गुरुवार को बारिश के दौरान एक प्रसूता को लेने आईं जननी एक्सप्रेस गेट तक सिर्फ इसलिए नहीं आ पाई कि वहां ऑटो और अन्य निजी वाहन खड़े थे। साथ ही मौके पर न गार्ड था न ही कोई सफाईकर्मी। प्रसूता के परिजन परेशान होते रहे और उन्हें कोई मदद नहीं मिल पाई। एक सिक्योरिटी गार्ड मैन गेट पर रहता है जो न ट्रैफिक सुधार पाता न ही सुरक्षा कर पाता। सिक्योरिटी होने के बावजूद महीने में चार-पांच बाइक परिसर से चोरी हो जाती है।

नई व्यवस्था करेंगे
अस्पताल में इस तरह से सामग्री मिलना गलत है, असामाजिक तत्वों की एंट्री पर प्रतिबंध और निजी वाहनों को हटाने के लिए मैंने मेडिकल ऑफिसर को लिखा है मैं बात करता हूं।
-डॉ. आर. सी. बंसीवाल, सीएमएचओ, राजगढ़

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned