अस्पताल में नहीं मिले डॉक्टर, नवजात की मौत, परिजनों ने जमकर की तोडफ़ोड़

अस्पताल में नहीं मिले डॉक्टर, नवजात की मौत, परिजनों ने जमकर की तोडफ़ोड़

Ram kailash napit | Publish: Sep, 04 2018 12:55:40 PM (IST) Rajgarh, Madhya Pradesh, India

सुबह लेकर आया परिजन, नहीं मिला स्टाप, परिजनों ने किया हंगामा, पुलिस ने किया मामला शांत

ब्यावरा. मलावर अस्पताल में स्टॉफ, डॉक्टर इत्यादि नहीं मिलने से हुई नवजात की मौत के बाद परिजनों ने सोमवार सुबह हंगामा कर दिया। अस्पताल में तोडफ़ोड़ करते हुए नारेबाजी की। अलसुबह चार बजे से आए परिजनों को अस्पताल में कोई नहीं मिला, छह बजे वे ब्यावरा पहुंचे, लेकिन तब तक नवजात की मौत हो गई। इसी को लेकर सुबह 10 बजे परिजनों ने हंगामा मचा दिया।

हंगामा कर रहे लोगों ने डिस्पेंसरी में तोडफ़ोड़ कर दी। सफाईकर्मी ने बताया कि कुछ लोग आए और तोडफ़ोड़ करने लगे। इस पर सुपरवाइजर श्याम गोस्वामी ने मलावर पुलिस को मामले की सूचना दी। मौके पर पुलिस पहुंची तब जाकर मामला शांत हो पाया। अस्पताल के मौजूदा स्टॉफ ने प्रसूता के परिजनों सहित अन्य द्वारा की गई अस्ताल में तोडफ़ोड़ के मामले में थाने में आवेदन दिया है।

दर्द से कराहती रही प्रसूता, नहीं मिला कोई
मलावर अस्पताल में डिलीवरी के लिए आगर निवासी अवंतीबाई पति रघुवीर वर्मा (21) को भर्ती किया गया। दो घंटे तक अस्पताल में कोई स्टॉफ उन्हें नहीं मिल पाया। सुबह चार बजे प्रसूता को अस्पताल में लाया गया, महिला दर्द से कराहती रही लेकिन कोई स्टॉफ मौके पर नहीं मिला। परिजनों ने वहां मौजूद सफाईकर्मी से डॉक्टरों के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि सब छुट्टी पर हैं।

इसके बाद सुबह छह बजे तक प्रसूता को अस्पताल में ही बैठाए रखा। बाद में परिजनों ने संजीवनी-108 पर कॉल किया जिससे उसे अस्पतला पहुंचाया गया, जहां महिला ने मृत बच्चे को जन्म दिया। परिजनों ने आरोप लगाया कि प्रसूता का समय पर उपचार हो जाता तो नवजात की जान नहीं जाती। इउन्होंने कहा कि मलावर हॉस्पिटल में हमने महिला का चेकअप करवाया तो कोई रिस्पांस नहीं मिला। बाद में ब्यावरा के डॉक्टर ने बच्चे को मृत घोषित किया। मलावर के स्टॉफ, डॉक्टर की लापरवाही से बच्चे की जान गई है। इसके बाद गुस्साए परिजनों ने अस्पताल में तोडफ़ोड़ कर दी।

आंदोलन करेंगी कांग्रेस
मलावर अस्पताल में अव्यवस्थाओं का आलम यह है कि यहां के उपचार पर कोई भरोसा ही नहीं करता। कुछ माह पहले पूर्व जिला कांग्रेस अध्यक्ष रामचंद्र दांगी के नेतृत्व में अस्पताल के गेट के सामने धरना-प्रदर्शन किया गया था। कुछ दिन पहले भी दांगी ने प्रशासन को अव्यस्थाओं को लेकर आगाह किया था। अब दोबारा आंदोलन की तैयारी की जा रही है। गांव के देवसिंह यादव, रोड़सिंह ठाकुर, सुरेश सुमन, विजय गुर्जर, चंद्रसिंह गुर्जर सहित अन्य ने सुधार की मांग की है अन्य था आंदोलन की चेतावनी दी।

क्या अव्यवस्था? क्या दिक्कत है? मलावर में डॉ. आशीष तिवारी हैं, कोई अव्यस्था नहीं है। रात को क्या हुआ, कौन सी प्रसूता को दिक्कत आई इस बार में मुझे नहीं पता।
-डॉ. एचसी अहिरवार, सीबीएमओ, सुठालिया

 

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned