बीते दस साल में इस बार सबसे ज्यादा तपा मई

माह में नो दिन 45 से ऊपर रहा तापमान, औसत तापमान 42 डिग्री से अधिक इसके पूर्व वर्ष 2010 में सात दिन 45 पार गया था पारा

By: दीपेश तिवारी

Published: 31 May 2018, 05:17 PM IST

राजगढ़। इसे ग्लोबल वार्मिंग का प्रभाव कहें या वर्ष २०१७ में बारिश की कमी का असर की इस वर्ष मई माह में पड़ी गर्मी ने बीते दस साल का रिकार्ड तोड़ दिया है। पिछले कई सालों में ऐसा पहली बार हुआ है जब अधिकतम तापमान सबसे अधिकतम नो दिन तक ४५ के पार पहुंचा है। माह के अंतिम दिनों में नवतपे की शुरू आत के बाद तो गर्मी ने कहर बरपाया। जिसके बाद जिले का अधिकतम तापमान न सिर्फ ४६ डिग्री के पार पहुंच गया जबकि तीन दिन तक लगतार इसी स्तर पर बना रहा।

इसके पूर्व वर्ष २०१० में ऐसा हुआ था। जब मई के माह में सात दिन तक तापमान ४५ डिग्री से अधिक गया था। इस वर्ष अधिकतम तापमान सिर्फ एक दिन के लिए ४७ डिग्री गया था। इस लिहाज से वर्ष २०१० में किसी एक दिन का अधिकतमत तापमान तो बीते दस वर्ष में सबसे अधिक है। पूरे माह की बात की जाए तो इस साल माह में २७ दिन ही ४० डिग्री से अधिक तापमान रहा जबकि इस साल वर्ष २०१८ में पूरे महीने में किसी भी दिन तापमान ४० डिग्री से नीचे गया और पूरे माह में नो दिन पारा ४५ डिग्री के पार पहुंचा।

जिले में हर साल इसलिए बड़ रही गर्मी
आंकाड़ो की लिहाज से देखा जाए तो इस साल औसत तापमान ४२ डिग्री से अधिक है। जो पिछले कई सालों में नहीं हुआ। हर साल बड़ती जा रही इस गर्मी का मुख्य कारण जिले की बिगड़ती पर्यावरण व्यवस्था है। दरअसल पथरीली पृष्ट भूमि होने के कारण जिले में हरियाली पहले ही काफी कम है। इसके बावजूद पिछले कुछ सालों में निर्माण के नाम पर बड़ी मात्रा में जंगलो की कटाई की गई है। इतना ही नहीं भूजल और संग्रहित जल के तेजी से दोहन के कारण जिले का बड़ा भूभाग सूखा है। यही कारण है कि राजस्थान की ओर से आने वाली गर्म हवाएं और सूरज की तीखी किरणों पर रोक नहीं लग पा रही और जिला लगातार तपता जा रहा है।

दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned