मंदिर की तरह पवित्र होता है न्यायालय

मंदिर की तरह पवित्र होता है न्यायालय

Ram kailash napit | Publish: Sep, 09 2018 11:13:37 PM (IST) Rajgarh, Madhya Pradesh, India

इंदौर खंडपीठ के न्यायमूर्ति प्रकाश श्रीवास्तव ने नवीन न्यायालय भवन के लोकार्पण किया

राजगढ़/जीरापुर. जिस तरह लोग मंदिर को स्वच्छ रखते है और पवित्र मन से वहां जाते है। उसी तरह न्यायालय भी न्याय का मंदिर है। जहां लोगों को पवित्र मन से आना चाहिए और वैसा ही वातावरण यहां रखना चाहिए। यह बात इंदौर खंडपीठ के न्यायमूर्ति प्रकाश श्रीवास्तव ने नवीन न्यायालय भवन के लोकार्पण के दौरान कहीं।
उन्होंने कहा कि इस तरह के भवन बनाने का उद्देश्य लोगों को शीघ्र और सुगम न्याय मिले। पक्षकारों को उचित न्याय व्यवस्था, अच्छा वातावरण मिले। जबकि जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेन्द्रकुमार वर्मा ने न्यायालय भवन के भूमिपूजन से लेकर इसके निर्माण तक के पूरे समय को मौजूद लोगों के बीच रखा। उन्होंने बताया कि इसका भूमिपूजन 2014 में हुआ था और जिसका आज लोकार्पण हो रहा है। उन्होंने भवन में संचालित होने वाले न्यायालय और विभिन्न व्यवस्थाओं के बारे में बताया। जबकि मंच पर ही मौजूद सांसद रोडमल नागर ने कहा कि वर्तमान में हवा खराब है।

फिर चाहे राजगढ़ की बात हो या विश्व की। ऐसे में खराब हवा, खराब पानी और अन्न के कारण मन भी खराब हो जाता है। ऐसे में कुछ लोग आपराधिक प्रवृत्ति की तरफ बढऩे लगते है। न्यायालय में पीडि़तों को न्याय और अपराधियों को सजा मिलती है। जिसके कारण लोगों में भय बना रहता है और अपराध करने से लोग डरते है। उन्होंने नए भवन को लेकर कहा कि यहां न्यायालयों की संख्या बढऩे से प्रकरणों के निराकरण और तेजी से होंगे। इसके बाद वे जीरापुर पहुंचे। जहां जीरापुर नवीन न्यायालय भवन का भी उदघाटन किया। यहां मंच पर विधायक हजारीलाल दांगी और बार एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रेमनारायण शर्मा मौजूद थे।

एडीआर भवन का भी शुभारंभ
जिला विधिक सेवा प्राधिकरण भवन का भी लोकार्पण मौके पर किया गया। यहां एक ही छत के नीचे मध्यस्थता, विविध सहायता, परिवार केन्द्र से जुड़े प्रकरणों की सुनवाई और परिवार परामर्श भी होगा।


बैंडबाजों से लेकर आए न्यायमूर्ति को
मालवा की परंपरा के अनुसार बैंडबाजों के साथ अतिथि को नवीन न्यायालय में लेकर आए। जहां लोकार्पण के दौरान देशभक्ति गीत बैंडबाजों पर गूंजते रहे। यही नहीं संस्कृति के अनुसार सभी अतिथियों का स्वागत पगड़ी और फूलमाला द्वारा किया गया।

गांधीजी की प्रतिमा का अनावरण
न्यायालय भवन के लोकार्पण के साथ ही न्यायालय भवन में रखी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा का अनावरण भी किया गया। जबकि एक पौधा भी न्यायमूर्ति द्वारा परिसर में लगाया गया। अन्य पौधे अन्य अतिथियों द्वारा लगाए गए।

झलकियां
- मंच पर न्यायमूर्ति इंदौर खंडपीठ, जिला जज, सांसद, विधायक, कलेक्टर, एसपी और बार एसोसिएशन के अध्यक्ष थे।
- रिमझिम बारिश के बीच आयोजित हुआ कार्यक्रम।
- मंच पर मौजूद अतिथियों का स्वागत बार एसोसिएशन के पूर्व व वर्तमान पदाधिकारियों द्वारा किया गया।
जिला न्यायालय एक नजर में
लागत: 12 करोड़ 95 लाख
कैंपस एरिया: 4 हेक्टेयर
कोर्ट रूम: 11
पार्किंग, आफिसर, अधिवक्ता व आमजन के लिए अलग-अलग
कांफ्रेंस हॉल जिसमें वीसी की भी सुविधा।
बार रूम: 02 महिला व पुरुष
बैंक: जिससे भी अनुबंध होगा।
लाइब्रेरी: कानूनी समेत अन्य पुस्तकें।
कैंटीन: 01
रैंप: 02
वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम, मालखाना, नजारत कक्ष, फोटोकॉपी रूम, स्टेशनरी रूम।

Ad Block is Banned