monsoon : पहली बार उफान पर आई काई नदी, 5 घंटे बंद रहा सारंगपुर-संडावता मार्ग

ब्यावरा सहित जिले के अधिकांश हिस्से में हुई बारिश

By: Rajesh Kumar Vishwakarma

Updated: 01 Jul 2019, 04:41 PM IST

ब्यावरा। कहीं कम तो कहीं ज्यादा बारिश rain के कारण बोवनी को लेकर असमंजस में रहे किसानों farmers' की चिंता मानसूनी बारिश monsoon rain ने रविवार को दूर कर दी। ब्यावरा सहित जिले के अधिकांश हिस्से में हुई बारिश rain के बाद अब यथावत बोवनी हो पाएगी। वहीं, जिन क्षेत्रों में बोवनी की जा चुकी है उनके लिए भी बारिश अमृत के समान बरस रही है।

नीचली बस्तियों में पानी भर गया
दरअसल, मानसूनी बारिश की दस्तक के साथ ब्यावरा में करीब डेढ़ घंटे मूसलाधार बारिश हुई। सुबह 11.49 बजे शुरू हुई बारिश दोपहर 1.25 बजे थमी। डेढ़ घंटे में शहर तरबतर हो गया, वहीं, आस-पास के खेतों में भी पानी बह निकला। मंडी में उपज लेकर आए किसानों को इधर-उधर पन्नियां लेकर बचाव करना पड़ा। कई नीचली बस्तियों में पानी भर गया।

जिलेभर में बोवनी जैसी बारिश हो चुकी है
वहीं, अजनार नदी में भी सीजन में पहली बार बारिश का पानी आया। राजगढ़ चौराहा स्थित फोरलेन के ओव्हरब्रिज के नीचे पानी जमा हो जाने से आवागमन प्रभावित हुआ, पैदल निकलना भी लोगों का मुश्किल हो रहा था। वहीं, जिला मुख्यालय पर भी रविवार को बारिश हुई, इसके बाद बोवनी की जा सकेगी। वहीं, सारंगपुर, नरसिंगढ़, पचोर, खुजनेर, छापीहेड़ा, जीरापुर, खिलचीपुर, माचलपुर इत्यादि में भी कम-ज्यादा बारिश हुई। अब माना जा रहा है कि जिलेभर में बोवनी जैसी बारिश हो चुकी है।

rajgarh

बारिश अमृत बनकर बरसी
विशेष खेती के लिए पहचाने जाने वाले जीरापुर, माचलपुर, पीपल्या कुल्मी के किसानों ने सूखे में ही बोवनी कर दी थी। 25 जून का निश्चित आंकड़ा बुआई का साथ लेकर चलने वाले किसान कभी अपने शेड्यूल से नहीं चूकते। प्रकृति ने भी उन्हें साथ दिया और बोवनी के दो दिन बाद ही बेहतर बारिश हुई जो कि उक्त उपज के लिए अमृत बनकर बरसी। अब लगभग पूरी हो चुकी बोवनी के बाद रुक-रुककर हो रही बारिश बोई गई फसल के लिए काफी कारगर है।


पहली बार उफान पर आई काई नदी
सारंगपुर/पाड़ल्या माता.दो-तीन दिन पहले दोपहर में हुई बारिश के बाद रविवार को हुई तेज बारिश के बाद सारंगपुर-संडावता मार्ग पर पडऩे वाली काई नदी पहली बार उफान पर आई। इससे मार्ग करीब चार से पांच घंटे के लिए बंद रहा। मऊ-पड़ाना क्षेत्र में बारिश थमने के करीब चार-पांच घंटे बाद शाम करीब पांच बजे बाद यातायात सुचारू हो पाया। सीजन की पहली तेज बारिश के बाद अब क्षेत्र में पर्याप्त मात्रा में बोवनी हो पाएगी।

mp

डायवर्टेड मार्ग से गुजरना पड़ा
वहीं, बारिश से क्षेत्र के खेतों में पानी बह निकला। नगरीय क्षेत्रों में कई नीचली बस्तियों में पानी घुस गया। सारंगपुर-संडावता मार्ग बंद रहने का प्रमुख कारण वहां की पुल को माना जा रहा है। काम अधूरा होने के कारण लोगों को पूरी बारिश परेशानियां झेलना पड़ेगी। लोगों को डायवर्टेड मार्ग मांडू ब्यावरा, कड़लावद रोड या अमलावता रोड होकर गुजरना पड़ता है।

 

प्रदेश में अच्छी बारिश के संकेत
रविवार को बंगाल की खाड़ी के आस-पास के क्षेत्रों में कम दबाव का क्षेत्र बना इससे 48 घंटों में अच्छी बारिश के आसार हैं। 4 से 6 जुलाई के बीच पश्चिमी मध्य प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में कहीं कम जो कहीं भारी बारिश की संभावना है।
-एस. के. नायक, मौसम वैज्ञानिक, मौसम विभाग, भोपाल


अब जिलेभर में बोवनी हो पाएगी
बोवनी के हिसाब की बारिश अब हो चुकी है। लगभग जिलेभर में किसान अब बोवनी कर पाएंगे। साथ ही जहां बोवनी हो चुकी है वहां के हिसाब से रुक-रुककर हो रही बारिश से काफी राहत उपज को मिल रही है।
-बी. एल. मालवीय, उप-संचालक, कृषि विभाग, राजगढ़

Show More
Rajesh Kumar Vishwakarma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned