scriptMP women made 'black gold' from cow dung | एमपी की महिलाओं की ऐसी जिद गोबर से बना डाला 'काला सोना' | Patrika News

एमपी की महिलाओं की ऐसी जिद गोबर से बना डाला 'काला सोना'

जिद हो तो क्या कुछ नहीं किया जा सकता, क्या कुछ नहीं बदला जा सकता। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है गांवों की महिलाओं ने।

राजगढ़

Published: December 29, 2021 11:44:16 am

राजगढ़/ब्यावरा. कहते हैं कुछ कर दिखाने का जज्बा हो, जिद हो तो क्या कुछ नहीं किया जा सकता, क्या कुछ नहीं बदला जा सकता। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है गांवों की महिलाओं ने। वेस्ट होने वाले मवेशियों के गोबर से उक्त महिलाओं ने काला सोना (जैविक खाद) निर्मित कर आत्मनिर्भरता की और कदम बढ़ाए हैं।

एमपी की महिलाओं की ऐसी जिद गोबर से बना डाला 'काला सोना'
एमपी की महिलाओं की ऐसी जिद गोबर से बना डाला 'काला सोना'


गांव की महिलाओं ने गोबर से बनाया खाद
ब्यावरा से लगे गांव बहादुरपुरा, पगारा और भूरा की महिलाओं ने आत्मनिर्भर बनने की दिशा में कदम आगे बढ़ाया। स्टार ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान (आरसेटी) से मिले डेयरी प्रबंधन और जैविक खाद निर्माण से उन्होंने जीवन बदल डाला। इसके लिए आरसेटी की ओर से 10 दिनी प्रशिक्षण उन्हें दिया गया। समापन पर तीनों गांवों की करीब 55 महिलाओं ने जैविक खाद निर्माण शुरू कर आजीविका में आत्मनिर्भरता की और कदम रखा।


आत्मनिर्भर बनने की दी प्रेरणा
भूरा गांव में 18 दिसंबर से शुरू हुए प्रशिक्षण के समापन पर प्रभारी कलेक्टर और सीईओ जिला पंचायत प्रीति यादव ने महिलाओं से बात कीं।उनकी जिज्ञासा और काम के प्रति लगन उन्हें भाया। मप्र-डे ग्रामीण राज्य आजीविका मिशन डीपीएम संजय सक्सेना ने ग्राम संगठन भूरा की व्यावसायिक गतिविधियों को आदर्श बताया। उन्होंने कहा कि ट्रेनिंग के बाद अब यह और निखरेगा। ब्यावरा ब्लॉक प्रबंधक अर्जुन सिंह परमार ने क्षेत्र में मिशन की गतिविधियों की जानकारी दीं। सेंस अभियान प्रभारी के. के. नागर ने नव-मतदाताओं को वोट का महत्व समझाने के साथ ही सभी को आत्मनिर्भरता की प्रेरणा दी।

यह भी पढ़ें : हे भगवान... ये क्या गजब कर गई मां- कान की बाली गिरी तो साथ खेल रहे बच्चे की कर दी हत्या


वित्तीय सहायता की भी सौगात
आखिर में प्रशिक्षुओं को प्रमाण-पत्र भी बांटे गए। कार्यक्रम में मिशन जिला प्रबंधक आशीष कौशिक, एसडीएम जूही गर्ग, आरसेटी फैकल्टी व प्रशिक्षण समंवयक सत्येंद्र जैन, अंकिता सांकवा सहित ग्राम पंचायत स्टॉफ और ग्रामीण मौजूद रहा। इस दौरान समूहों को वित्तीय सहायता देने वाले मप्र ग्रामीण बैंक की ब्यावरा व पड़ोनिया शाखा प्रबंधक दुर्गेश राठौर, सोनू मीणा ने आर्थिक गतिविधियों पर संतोष जताया और इन्हें अधिक ऋण उपलब्ध कराने की बात कही।

यह भी पढ़ें : बच्चों को पढ़ाने के साथ शुरू किया यह काम, कमाई पहुंची एक लाख पार

एसडीएम ने जानीं महिलाओं की लगन
प्रशिक्षु महिलाओं की हौसला अफजाही के लिए मौके पर एसडीएम जूही गर्ग भी पहुंची। आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ते कदम देख वे भी प्रभावित हुईं। प्रशिक्षुओं की हाजिर जवाबी पर कहा कि प्रशिक्षण में मिली जानकारी का उपयोग करें और इसे व्यवसाय बनाएं, काफी फायदा आपको मिलेगा। गर्ग ने गांव में महिलाओं ने ट्रेनिंग के बाद वर्मी कॉम्पोस्ट निर्माण गतिविधियों का जायजा भी लिया। उन्होंने लोगों को शुभकामनाएं भी प्रेषित की।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.