एसडीएम और जेल प्रबंधन के निर्देशों के बाद आज तक नहीं बना स्टीमेट

जिला जेल जो कि रियासतकालीन समय का होने के कारण यहां की दीवारे अब उतनी ऊंची नहीं बची है। वहीं एक तरफ अतिक्रमण होने के कारण वहां से कैदियों के भागने की भी संभावना बनी रहती है। जेल की दीवारे ऊंची की जाए इसके लिए जेल प्रबंधन के साथ ही


राजगढ़.
जिला जेल जो कि रियासतकालीन समय का होने के कारण यहां की दीवारे अब उतनी ऊंची नहीं बची है। वहीं एक तरफ अतिक्रमण होने के कारण वहां से कैदियों के भागने की भी संभावना बनी रहती है। जेल की दीवारे ऊंची की जाए इसके लिए जेल प्रबंधन के साथ ही पिछले दिनों जेल के निरीक्षण पर पहुंचे एसडीएम कमलेश भार्गव ने लोक निर्माण विभाग को शीघ्र ही 15 फीट ऊंची दीवार बनाने का स्टीमेट देने के लिए कहा था। इस काम के लिए राशि भी आ चुकी है, लेकिन विभाग सुरक्षा को लेकर गंभीर नहीं है। यही कारण है कि लगभग एक सप्ताह बाद भी दीवार में होने वाले खर्च का कोई स्टीमेट तैयार नहीं किया गया।

यहां हमेशा बना रहता है अतिक्रमण का डर
जिला जेल नगर के मध्य में है। आसपास लोगों के घर बने हुए है। जेल की सारी गतिविधि दो-तीन मंजिला मकानों से आसानी से देखी जाती है। ऐसे में जेल को शहर से बाहर बनाने के लिए संकट मोचन कालोनी में वर्ष 2000 में भूमि का आवंटन किया गया था, लेकिन जेल के निर्माण को लेकर आज तक कोई राशि जारी नहीं हुई। ऐसे में आज भी यह जेल 130 साल पुराने भवन में ही संचालित हो रहा है। इनमें बारिश के समय पानी टपकता है और कई बार चूने की बनी छत से रेत और सीमेंट के पपड़े गिरते रहते है।
Show More
Ram kailash napit Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned