onion news : 3 रु. किलो से कम भाव में बेची प्याज पर नहीं मिलेगा बोनस!

शासन ने तीन रुपए किलो से कम में के भाव में बेची गई निम्न गुणवत्ता वाली प्याज पर बोनस नहीं देने का निर्णय लिया है।

By: Rajesh Kumar Vishwakarma

Published: 01 Jul 2019, 11:54 AM IST

ब्यावरा. ऐसे तमाम बिचौलिए और व्यापारी जो खुद की प्याज Onion को किसान की बताकर बेचकर बोनस राशि लेने की जुगत में हैं उनकी मनमानी अब नहीं चल पाएगी। शासन ने तीन रुपए किलो से कम में के भाव में बेची गई निम्न गुणवत्ता वाली प्याज onion पर बोनस नहीं देने का निर्णय लिया है। इसके लिए बकायदा शासन ने ऐसी निम्न गुणवत्ता वाली प्याज की सूचियां पांचों ही अधिकृत मंडियों से मंगवाई है।


शासन ने यह निर्णय लिया
दरअसल, कुछ लोगों ने प्याज बेचने की आड़ में महज बोनस राशि का फायदा उठाने के लिए औने-पौने दाम (दो से तीन रुपए किलो) में प्याज बेच दिया। साथ ही पिछले साल भी ऐसी ही गड़बडिय़ां सामने आई थीं जिससे शासन को लाखों रुपए का नुकसान हुआ था। शासन के रिकॉर्ड में खराब और डल क्वालिटी की प्याज को नष्ट करने का दर्शाकर चूना लगा दिया गया। अब इसी पर शिकंजा कसने के लिए और लगातार उजागर हो रही गड़बडिय़ों के बाद शासन ने यह निर्णय लिया है।

एक हकीकत ये भी : बोनस मिलेगा भी या नहीं, इसमें भी संशय
आठ रुपए किलो के न्यूनतम समर्थन मूल्य में खरीदी गई प्याज को लेकर भले ही शासन स्तर पर कुछ निर्णय ले लिए गए हों लेकिन एक हकीकत यह भी है कि पूरी योजना में मिलने वाला बोनस मिलेगा भी या नहीं यह तय नहीं है? वास्तविकता यह भी है कि किसानों को यह विश्वास ही नहीं है कि उन्हें बोनस मिलेगा भी क्योंकि खरीफ की प्रमुख उपज सोयाबीन की बोनस राशि के अभी तक पते नहीं है। ऐसे में यह भरोसा ही नहीं हो रहा है कि इस योजना के तहत मिलने वाला बोनस मिलेगा भी।

 


...और आखिरी दिन पहुंचे किसानों की प्याज भीगी
30 जून को प्याज खरीदी के आखिरी दिन सुबह से ही ब्यावरा मंडी में किसान प्याज लेकर पहुंचे। ट्रैक्टर और पिकअप वाहन के माध्यम से प्याज लाए किसान व्यापारियों का इंतजार कर रहे थे लेकिन दोपहर में हुई तेज बारिश में उनकी प्याज भीग गई। सैंकड़ों क्वींटल प्याज खराब हो गई। दोपहर में बारिश थमने के बाद बची हुई प्याज की खरीदी हुई। हालांकि आखिरी दिन होने और बारिश के कारण ज्यादा संख्या में किसान नहीं पहुंचे थे लेकिन फिर भी किसानों को नुकसान हुआ।

 

फैक्ट-फाइल
-3, 24, 992 प्याज की खरीदी।
-11, 094 हुए थे पंजीयन।
-9429 किसानों बेची प्याज।
-300 किसान ब्यावरा के जिन्होंने तीन रु. किलो में बेची प्याज।
-30 जून को खत्म हुई खरीदी।
-08 रु. किलो में खरीदी प्याज।
-खरीदे गए भाव की अंतर राशि बोनस के तौर पर मिलना है।
(नोट : उद्यानिकी से प्राप्त जानकारी के अनुसार)


शासन स्तर पर होना है निर्णय
डल क्वालिटी की और तीन रुपए किलो से कम में खरीदी गई प्याज की सूची पांचों ही मंडियों से मंगवाई है। ऐसी निम्न गुणवत्ता वाली प्याज का बोनस मिलेगा भी या नहीं यह शासन स्तर पर निर्णय लिया जाना है, वैसे हमसे सूचियां मंगवा ली गई हैं।
-व्ही. एस. राजपूत, उप-संचालक, उद्यानिकी, राजगढ़

Show More
Rajesh Kumar Vishwakarma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned