वैदिक मंत्रोच्चार के साथ पूर्णाहुति, महाप्रसादी में उमड़े श्रद्धालु

डूंगरी में रामायण पाठ का समापन

By: Rajesh Kumar Vishwakarma

Updated: 05 Sep 2019, 06:11 PM IST

माचलपुर.सावन के पवित्र माह में समीपस्थ ग्राम डूंगरी में आयोजित अंखड रामायण पाठ का समापन वैदिक मंत्रोच्चार के साथ किया गया। करीब 35 वर्षों से जारी पांरपरिक रामायण पाठ में गांव के युवा बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं। बजरंग मानस मंडल ग्राम डूंगरी के तत्वावधान में होने वाले इस विशेष आयोजन के समापन अवस पर पूर्णाहुति में पं. बालकृष्ण दुबे द्वारा आहुदियां दिलवाई गईं।


वेद माता गायत्री, सुंदरकांड सहित वैदिक रीति-रिवाज से नियमानुसार उन्होंने आहुतियां दिलवाई। मुख्य यजमान के तौर पर कपिल-किरण पाटीदार ने पूर्णाहुति में आहुतियां दीं। सालों से मंदिर की सेवा में जुटे पं. सीतारामदास बैरागी को भी सम्मानित किया गया। इसके लिए परायण पाठ करने वाले तमाम युवा सुबह से ही जुटे थे। मंदिर की विशेष सजावट अरविंद पाटीदार के नेतृत्व में की गई थी, फूलों के साथ ही बलून से मंदिर को सजाया गया। बजरंग बली के अलावा चिंताहरण महादेव का भी विशेष शृंगार युवाओं ने किया। इस दौरान मंत्रोच्चार से हुई पूर्णाहुति के बाद महाआरती हुई। आखिर में महाप्रसादी का वितरण किया गया, जिसे बड़ी संख्या में उमड़े श्रद्धालुओं ने ग्रहण किया। सावन के पहले सप्ताह से ही आयोजित परायण में करीब 35 से अधिक पाठ अखंड किए गए।

वैदिक मंत्रोच्चार के साथ पूर्णाहुति, महाप्रसादी में उमड़े श्रद्धालु

...और राम मंदिर को भी सजाया, सप्ताह जी में विशेष भजनों की प्रस्तुति
गांव के ही श्रीराम मंदिर में भी भादव माह की सप्ताहजी क ा विशेष आयोजन किया गया। इसके लिए पुजारी गोवर्धनदास बैरागी ने मंदिर की विशेष सजावट की। यहां रोजाना विभिन्न भजनों की प्रस्तुति दूर-दराज से आने वाले कलाकारों द्वारा दी जा रही है। सप्ताहजी आयोजन समिति के देवीलाल गुर्जर (पूर्व सरपंच) ने बताया कि यह पांरपरिक आयोजन है। इसकी परंपरा में पूरा गांव भागीदारी जताता है। सभी के सहयोग से यह कड़ी कभी नहीं टूटने दी गई। रविवार को सप्ताहजी का वैदिक मंत्रोच्चार के साथ समापन होगा। जिसमें महाआरती के बाद महाप्रसादी का आयोजन होगा।

Show More
Rajesh Kumar Vishwakarma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned