कोरोना और बाढ़ की मार से बिगड़ा आपके घर का बजट, जानिए कैसे ?

100 रुपए तक बढ़े चायपत्ती के दाम, बिगड़ रहा घर का मासिक बजट...

By: Shailendra Sharma

Published: 23 Sep 2020, 10:13 PM IST

राजगढ़. सुबह नींद खुलने के साथ ही यदि चाय की चुस्की ना लगे तो पूरा दिन कई लोगों को अजीब सा लगता है और अब चाय की चुस्की महंगी हो गई है जिससे आपके घर का बजट गड़बड़ा सकता है। जी अतिवृष्टि के कारण जैसे सब्जियों के दामों में तेजी से वृद्धि हुई है, ठीक इसी तरह अब आपके रोजमर्रा से जुड़ी एक और खास चीज चाय महंगी हो गई है। बीते दो महीने के अंदर चाय के दामों में प्रति किलो 100 रुपए से भी ज्यादा की वृद्धि हुई है।

एक तो कोरोना और दूसरी बाढ़
चाय पत्ती के दामों में दो महीने के अंदर प्रति किलो 100 रुपए से ज्यादा की वृद्धि हो गई है। बताया जा रहा है कि चाय पत्ती के दामों में वृद्धि का कारण एक तो कोरोना है जिसके कारण पहाड़ी क्षेत्रों में होने वाली चाय पत्ती की उपज कम हुई हैं वहीं दूसरी तरफ इन दिनों असम और मेघालय जैसे क्षेत्रों में आई बाढ़ के कारण भी यह कारोबार ठप्प पड़ गया है। यही कारण है कि इसका असर पूरे देश के साथ प्रदेश में भी देखने को मिल रहा है। पहले चाय की पत्ती के दाम 150 से लेकर 190 रुपए तक था, लेकिन अब इसमें प्रति किलो 50 से लेकर 100 रूपए तक की वृद्धि हो गई है।

 

bf20f482728862aeffb00dc437ba542c.jpg

चाय पत्ती की बढ़ी कालाबाजारी
चाय पत्ती के दामों में वृद्धि होने के कारण अब इसकी कालाबाजारी भी होने लगी है। कहने का अर्थ की खुले बाजार में मिलने वाली चाय पत्ती को अब कई व्यापारी विभिन्न कंपनियों के वेपर छपवाते हुए उनमें यह खुली चाय पत्ती भर रहे हैं। पिछले दिनों जिले के बोड़ा थाना अंतर्गत ऐसा ही एक मामला सामने आया था। जिसमें सनम कंपनी के व्यापार में खुली चाय पत्ती भरते हुए लोगों को पुलिस ने पकड़ा था।

क्या कहते हैं व्यापारी और ग्राहक
चायपत्ती के दामों में हुए इजाफे पर जब व्यापारियों से बात की गई तो राजगढ़ के व्यापारी विकास गुप्ता ने बताया कि यह बात बिल्कुल सही है कि चाय पत्ती के दामों में वृद्धि हुई है और यह वृद्धि थोड़ी बहुत नहीं अच्छी खासी है। चाय पत्ती के दामों में इजाफा क्यों हो रहा है इसका कारण फिलहाल हमें भी नहीं पता। लेकिन हम तो जिस तरह से हम तक चाय पहुंच रही है, उसी तरह से ग्राहकों को उपलब्ध करा रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ रागिनी शर्मा नाम की ग्रहणी ने बताया कि चाय की पत्ती के दामों में जो वृद्धि हुई है। वह हमें उस समय नजर आई जब हमने एक साथ किराने का सामान मंगाया और लिस्ट में देखा कि पिछले माह जो दर चाय पत्ती की लिखी थी। उससे लगभग दोगनी कीमत नजर आई। इतनी वृद्धि एक साथ नहीं होना चाहिए।

Corona virus
Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned