भोपाल से आई टीम ने खंगाला डाक कर्मचारी का घर

भोपाल से आई टीम ने खंगाला डाक कर्मचारी का घर

Amit Mishra | Publish: Apr, 11 2019 02:00:44 PM (IST) Rajgarh, Rajgarh, Madhya Pradesh, India

डाक विभाग में हुए घोटाले के मामले में सीहोर में पदस्थ एक डाक कर्मी के पचोर स्थित घर में भोपाल से आई एक टीम ने दबिश दी...

राजगढ़। डाक विभाग में हुए घोटाले के मामले में सीहोर में पदस्थ एक डाक कर्मी के पचोर स्थित घर में भोपाल से आई एक टीम ने दबिश दी। टीम द्वारा घर के में रखे कई दस्तावेज खंगाले गए साथ ही डाक कर्मी अशोक सोनी से भी लंबी पूछताछ की गई। तीन सदस्य टीम बुधवार की दोपहर को सोनी के प्रेस कॉलोनी स्थित निवास पर पहुंची जहां उन्होंने पूरे घर की तलाशी ली। सोनी से भी पूछताछ की बताया जा रहा है की जीरापुर में पदस्थ रहते हुए अशोक सोनी पर गबन के आरोप लगे थे साथ ही कुछ समय पहले सीहोर में भी इसी तरह का मामला सामने आया है। जिसमें सोनी का नाम जोड़ा जा रहा है इसी कड़ी को लेकर यह टीम पूछताछ करने के लिए पचोर पहुंची थी

कौन थे जांच टीम में
इनोवा गाड़ी से जब यह जांच टीम पचोर पहुंची तो कुछ लोगों ने इस टीम को सीबीआई का बताया तो कुछ लोकायुक्त की दबिश बता रहे थे। लेकिन बाद में खुद अशोक सोनी ने बताया कि सीहोर के एक मामले में उनकी ही विभागीय टीम पूछताछ के लिए पहुंची थी । सोनी का कहना है कि मामले से जुड़े कई लोगों से पूछताछ की जा रही है हालांकि उनका इस पूरे मामले से कोई लेना-देना नहीं है। लेकिन विभागीय कार्रवाई होने के कारण जांच में सभी से पूछताछ की जा रही है।

news  7

उधर बारिश में भीग गया खुले में रखा गेहूं
दिनभर की तेज धूप और 42 से अधिक डिग्री पर पहुंच चुके तापमान के बाद बुधवार की शाम अचानक मौसम में परिवर्तन आया और देखते ही देखते रात करीब नो बजे पूरे आसमान में बादल छा गए। तेज गर्जन के साथ बूंदाबांदी शुरु हो गई । देखते ही देखते तेज हवाओं के साथ तेज बारिश का दौर शुरू हो गया ।


इस बारिश का सबसे ज्यादा असर समर्थन मूल्य पर हो रही खरीदी के दौरान जो गेहूं खुले खेत में रखे जा रहे हैं उन पर पड़ रहा है। क्योंकि गेहूं को ढकने के लिए फिलहाल कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं। ऐसे में 5 दिन के अंदर दो बार बारिश हो चुकी है और खिलचीपुर रोड पर बने खुले कैप के गेहूं पर मौसम की मार पड़ी है।


हालांकि अधिकारी इस बारिश का असर गेहूं के खराब होने पर नहीं बताते लेकिन जब भी खुले केप से दोबारा गेहूं का परिवहन किया जाता है तो बड़ी मात्रा में यह गेहूं सड़े हुए निकलते हैं। पानी गिरने से इनका वजन भी बढ़ जाता है। शायद यही कारण है की जिम्मेदार भी ऐसी बूंदाबांदी पर ध्यान नहीं देते।

 

हवाओ के साथ चला गया पानी
बूंदाबांदी के साथ ही तेज हवाएं चल रही थी। ऐसे में करीब आधे घंटे तक गिरे पानी के बाद यह पानी हवाओं के साथ चला गया । लेकिन इस पानी से कुछ ही देर बाद उमस बढ़ गई और एक बार फिर लोगों को तेज गर्मी का सामना करना पड़ा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned